WHO ने दी कोरोना वायरस प्रभावित देशों को चेतावनी, इन हेल्थ इमरजेंसी पर भी करें फोकस

  • लॉकडाउन ( Lockdown ) में ढील देने से पहले जनता को भरोसा दिलाना जरूरी।
  • कोरोना ( Coronavirus Outbreak ) से सबसे ज्यादा यूरोप और अमरीका हुए हैं प्रभावित।
  • COVID-19 से बीते 24 घंटों के भीतर दुनिया भर में 6018 लोगों की मौत।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी ( Coronavirus Outbreak) से जूझ रहे देशों को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है। WHO ( World Health Organisation ) के मुताबिक COVID-19 के कारण सार्वजनिक स्वास्थ्य तंत्र (पब्लिक हेल्थ सिस्टम) पर गंभीर दबाव के बावजूद, दुनिया भर के देशों को मलेरिया ( Malaria ) या पोलियो ( Polio ) जैसी अन्य स्वास्थ्य आपात स्थितियों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

देश में Coronavirus: तेजी से बढ़ते संक्रमण के बीच ICMR ने दी अच्छी जानकारी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने रविवार को अपनी दैनिक कोरोना वायरस ( COVID-19 ) सिचुएशन रिपोर्ट में कहा, "सार्वजनिक स्वास्थ्य तंत्र कोरोना वायरस महामारी के चलते गंभीर रूप से व्यस्त नजर आ रहा है। देशों को अन्य स्वास्थ्य आपात स्थितियों पर भी ध्यान केंद्रित करना चाहिए और मलेरिया या पोलियोमाइलाइटिस (पोलियो) जैसी बीमारियों के खिलाफ काम करना चाहिए।"

कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की वैश्विक संख्या पिछले 24 घंटों में लगभग 85,000 बढ़ गई है। अब दुनिया भर में कोरोना वायरस के कुल मामलों की संख्या 28 लाख 4 हजार 796 पहुंच चुकी है।

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक मरने वालों की संख्या 1 लाख 93 हजार 722 पहुंच चुकी है, जिसमें 6,018 मौतें केवल बीते 24 घंटों के दौरान दर्ज की गई हैं। यूरोप अब भी 13 लाख 41 हजार 851 कंफर्म केसेज और 1 लाख 22 हजार 218 मौतों के साथ कोरोना वायरस प्रभावित देशों की सूची में सबसे ऊपर है। इसके बाद अमरीका में 10 लाख 94 हजार 846 संक्रमित मामले और 56 हजार 63 मौतें हैं।

घर पर नहीं थमे होम क्वारेंटाइन की गई महिला के कदम, रिश्तेदारों के यहां आना-जाना रखा जारी और फिर

ऐसे वक्त में जबक कोरोना वायरस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित महाद्वीप यूरोप अब लॉकडाउन ( Lockdown ) के दिशा-निर्देशों में ढील देने की योजना बना रहा है, डब्ल्यूएचओ ने पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के प्रसार के जवाब में कई देशों द्वारा शुरू किए गए लॉकडाउन प्रतिबंधों के क्रमिक ढील के लिए प्रमुख विचार प्रकाशित किए हैं।

मन की बात में क्यों बोले पीएम मोदी कि ईद से पहले कोरोना खत्म हो जाए

WHO ने लिखा, "लॉकडाउन से बाहर संक्रमण का एक जटिल और अनिश्चित चरण में होना सुनिश्चित है। हर देश में चुनौतियां और परिस्थितियां दूसरे देश में भिन्न होती हैं और कोई एक नियम सभी के लिए कारगर नहीं हो सकता। यह जरूरी है कि देश स्पष्ट रूप से भरोसा बनाने के लिए जनता से संवाद करें और सुनिश्चित करें कि लोग अपनी मौजूदा स्थिति के लिए प्रतिबंधों का पालन करें।

गौरतलब है कि बीते 11 मार्च को WHO ने COVID-19 को महामारी घोषित किया था।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned