scriptCWC 2022: There was no bread to eat, served the country by staying in the army; Avinash Sable won silver medal in steeplechase | CWC 2022: खाने को नहीं थी रोटी, आर्मी में रहकर की देश की सेवा; अविनाश साबले ने स्टीपलचेज में जीता रजत पदक | Patrika News

CWC 2022: खाने को नहीं थी रोटी, आर्मी में रहकर की देश की सेवा; अविनाश साबले ने स्टीपलचेज में जीता रजत पदक

राष्ट्रमंडल खेल में भारत के लिए ऐतिहासिक मेडल जीतने वाले महाराष्ट्र के अविनाश साबले स्पोर्ट्स में करियर बनाने के बजाए आर्मी में भर्ती होकर देश की सेवा करना चाहते थे। शनिवार को अविनाश साबले ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में 3000 मीटर स्टीपलचेज़ में रजत पदक अपने नाम किया। साबले ने 8:11.20 मिनट के राष्ट्रीय रिकॉर्ड समय के साथ दौड़ को दूसरे स्थान पर पूरा किया।

मुंबई

Updated: August 06, 2022 09:25:56 pm

भारत के अविनाश साबले ने शनिवार को कामनवेल्थ गेम्स 2022 में 3000 मीटर स्टीपलचेज़ में रजत पदक अपने नाम दर्ज किया। साबले ने 8:11.20 मिनट के राष्ट्रीय रिकॉर्ड समय के साथ दौड़ को दूसरे स्थान पर पूरा किया। कुछ साल पहले तक लंबी दूरी के धावक के नाम पर भारत का मेडल के नाम पर कोटा खाली रहता रहता था। 13 सितंबर 1994 को महाराष्ट्र के बीड जिले के मांडवा गांव में जन्मे अविनाश साबले ने इसकी पूर्ती कर दी है। अविनाश साबले एक साधारण परिवार में पले-बढ़े है। अविनाश के माता-पिता किसान थे और अविनाश को 6 किलोमीटर पैदल चलकर अपने स्कूल जाना पड़ता था।
avinash_sable.jpg
Avinash Sable
अविनाश ने खेल में करियर बनाने के बारे में नहीं सोचा थे लेकिन आज उन्होंने भारत को स्टीपलचेज में रजत पदक दिलाकर नया इतिहास रच दिया है। अविनाश साबले की कहानी बहुत अलग है। अविनाश ने खुद को कभी स्पोर्ट्स ले जाने के बारे में नहीं सोचा था। सेना में भर्ती होकर वो अपने परिवार की देखभाल करना चाहते थे।
यह भी पढ़ें

Shani Shingnapur: महाराष्ट्र का एक ऐसा गांव जहां घर के मुख्य दरवाजों में नहीं लगाए जाते ताले, जानें इसके पीछे का रहस्य

बता दें कि 12वीं कक्षा के बाद अविनाश साबले आर्मी में भर्ती हो गए और 5 महार रेजिमेंट का हिस्सा बन गए। अपनी सर्विस के दौरान वो सियाचिन में माइनस डिग्री में भी रहे, तो रेगिस्तान के इलाकों में 50 डिग्री तापमान में भी खुद को तपाया है। सेना में रहते हुए अविनाश को एथलेटिक्स इवेंट में खेलने का मौका मिला। क्रॉस कंट्री के साथ खेलों में उन्होंने अपने करियर की शुरुआत की।
इस दौरान अविनाश की प्रतिभा जल्द ही सबके सामने आ गई। चोटिल होने के बाद उनका वजन काफी बढ़ गया था। बजह बढ़ने के बावजूद अविनाश साबले ने वापसी की और 15 किलो से अधिक वजन कम कर फिर से मैदान में लौटे और दौड़ना शुरू कर दिया। साल 2017 में अविनाश साबले के सेना के कोच ने उन्हें स्टीपलचेज में दौड़ने की सलाह दी। इस प्रकार भारत के स्टीपलचेजर की शुरुआत हुई।
साल 2018 में भुवनेश्वर में आयोजित ओपन नेशनल में अविनाश साबले ने 3000 मीटर स्टीपलचेज में 8: 29.88 का समय निकाला और 30 साल के नेशनल रिकॉर्ड को 0.12 सेकेंड से तोड़ दिया। इसके बाद साल 2019 में अविनाश साबले ने पटियाला में आयोजित फेडरेशन कप में 8.28.89 का समय निकाला और नया नेशनल रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज किया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार सीएम की शपथ लेने के साथ अपने ही रिकॉर्ड तोड़ने से चूके Nitish Kumar, 24 अगस्त को साबित करेंगे बहुमतपीएम मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, कितना भी 'काला जादू' फैला लें कुछ होने वाला नहींMumbai: सिंगर सुनिधि चौहान के खिलाफ शिवसेना ने पुलिस में दर्ज कराई शिकायत, पाकिस्तान स्पॉन्सर कार्यक्रम का लगाया आरोपदेश के 49वें CJI होंगे यूयू ललित, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने नियुक्ति पर लगाई मुहरकश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या का बदला हुआ पूरा, सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को मार गिरायासुनील बंसल बने बंगाल बीजेपी के नए चीफ, कैलाश विजयवर्गीय की हुई छुट्टीसुप्रीम कोर्ट से नूपुर शर्मा को बड़ी राहत, सभी FIR को दिल्ली ट्रांसफर करने के निर्देशBihar Mahagathbandhan Govt: नीतीश कुमार ने 8वीं बार ली बिहार के CM पद की शपथ, तेजस्वी यादव बने डिप्टी सीएम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.