इस IAS अफसर ने की गर्भवती महिलाओं की गोद भराई, दिया ऐसा संदेश कि आप भी कहेंगे 'वाह’, देखें वीडियो

खबर की मुख्य बातें-

-जिलाधिकारी द्वारा गर्भवती महिलाओं की गोद भराई की गयी

-माताएं द्वारा अपने घर से फल-सब्जी से बने स्वादिष्ट व्यंजन लाये गये

-जिलाधिकारी ने 5 बालिकाओं को स्वास्थ्य कार्ड वितरित किये

By: Rahul Chauhan

Updated: 05 Sep 2019, 01:24 PM IST

मुजफ्फरनगर। जनपद में बुधवार को जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे ने पोषण माह के चौथे दिन विकास खण्ड पुरकाजी के गांव फलावदा के स्वास्थ्य केन्द्र पर स्वास्थ्य सुपोषण मेले का शुभारम्भ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सुपोषण स्वास्थ्य मेला के लिए निर्धारित गतिविधियों के साथ-साथ हैन्ड वाशिंग काउंटर अनिवार्य रूप से बनाये जायेंगे। उन्होंने लोगों को स्वच्छता एवं साफ सफाई के बारे में जागरूक किया।

यह भी पढ़ें: उपचुनाव से पहले बसपा और कांग्रेस के इन दिग्गज नेताओं में शुरू हुई तकरार, परिवार को भी घसीटा

इस दौरान विभिन्न विभागों द्वारा अपने अपने विभाग की संचालित कल्याणकारी योजनाओं से उपस्थित से जनसमूह को अवगत कराया गया। इसके अतिरिक्त सुपोषण स्वास्थ्य मेला में गर्भवती महिलाओं की स्वास्थ्य जांच जिसमें हीमोग्लोबिन, यूरिन एवं ब्लड प्रेशर की जांच की गयी। इसके अन्तर्गत किशोरियों एवं बालिकाओं की हिमोग्लोबिन एवं स्वास्थ्य जांच टीटी का इंजेक्शन, बच्चों की स्वास्थ्य जांच भी की गयी।

यह भी पढ़ें : दुष्कर्म के आरोपी ने पीड़िता के भाई को कराया गिरफ्तार, पढ़िए यह सनसनीखेज मामला

जिलाधिकारी द्वारा सुपोषण स्वास्थ्य मेले में गर्भवती महिलाओं की गोद भराई भी की गयी एवं माताएं द्वारा अपने घर से फल सब्जी से बने स्वादिष्ट व्यंजन लाये गये। जिलाधिकारी ने 5 बालिकाओं को स्वास्थ्य कार्ड वितरित किये। जिलाधिकारी ने बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को पोष्टाहार वितरित किया।

यह भी पढ़ें: पिता ने वापस मांगी बेटी तो मिली जान से मारने की धमकी, जानिए क्या है पूरा मामला

उन्होंने कहा कि 6 माह के ऊपर के छोटे बच्चे जो आगे देश का भविष्य है उनके पोषण का पूर्ण ध्यान रखा जाये। बच्चे के 6 माह पूर्ण होने पर उसे ऊपरी आहार दिया जाना सुनिश्चत किया जाये। जिलाधिकारी ने कहा कि इसमें परिवार के सभी सदस्यों को ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि यही वह बच्चे हैं जो आगे युवा बनेंगे, अगर युवा ही कमजोर होगा तो जनपद, प्रदेश व देश का भविष्य कैसा होगा। इसलिए हमें इस और बहुत ध्यान देने की आवश्यकता है। खासकर 6 माह के बाद के बच्चों पर।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned