scriptWorld Environment Day, PM Modi on Save Soil Movement | World Environment Day: पीएम मोदी बोले- मिट्टी को बचाने के लिए 5 प्रमुख बिंदुओं पर फोकस, आधुनिक देशों ने बिगाड़ा पर्यावरण | Patrika News

World Environment Day: पीएम मोदी बोले- मिट्टी को बचाने के लिए 5 प्रमुख बिंदुओं पर फोकस, आधुनिक देशों ने बिगाड़ा पर्यावरण

World Environment Day 2022: आज पर्यावरण दिवस के अवसर PM Modi 'मिट्टी बचाओ आंदोलन' के कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने भारत द्वारा उठाए जा रहे कई अहम कदमों का उल्लेख किया और बताया कैसे मिट्टी को बचाने के लिए सरकार काम कर रही है।

Updated: June 05, 2022 02:10:48 pm

Save Soil Movement: आज पर्यावरण दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी 'मिट्टी बचाओ आंदोलन' के कार्यक्रम में शामिल हुए। सुबह 11 बजे विज्ञान भवन में 'मिट्टी बचाओ आंदोलन' पर आयोजित इस कार्यक्रम की शुरुआत हुई जिसमें पीएम मोदी ने वहाँ मौजूद सभी लोगों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पर्यावरण को स्वच्छ रखने के महत्व के साथ कैसे मिट्टी को बचाने के लिए भारत फोकस होकर काम कर रहा है, उसपर भी प्रकाश डाला। इस दौरान पीएम मोदी ने विश्व के बड़े और आधुनिक देशों पर निशाना साधा और बताया कैसे वो पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहे हैं। इसके अलावा पीएम मोदी ने बताया कैसे भारत मिट्टी बचाने के लिए 5 प्रमुख बिंदुओं को साथ लेकर चल रहा है।
pm_modi_save_soil_movement.jpg
कौन से हैं वो 5 बिन्दु?
पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन में कहा, "मिट्टी को बचाने के लिए हमने पांच प्रमुख बातों पर फोकस किया है।"

पहला- मिट्टी को केमिकल फ्री कैसे बनाएं।
दूसरा- मिट्टी में जो जीव रहते हैं, जिन्हें तकनीकी भाषा में आप लोग Soil Organic Matter कहते हैं, उन्हें कैसे बचाएं।
तीसरा- मिट्टी की नमी को कैसे बनाए रखें, उस तक जल की उपलब्धता कैसे बढ़ाएं।
चौथा- भूजल कम होने की वजह से मिट्टी को जो नुकसान हो रहा है, उसे कैसे दूर करें।
पांचवा- वनों का दायरा कम होने से मिट्टी का जो लगातार क्षरण हो रहा है, उसे कैसे रोकें।
पीएम मोदी ने इस दौरान ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सद्गुरु और उनके सहयोगियों की प्रशंसा जिन्होंने Save Soil Movement की शुरुआत की। आज 27 देशों से उनकी यात्रा 75 वें दिन भारत पहुंची है।

सॉइल हेल्थ कार्ड का अभियान
पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन में कहा, "पहले हमारे देश के किसान के पास इस जानकारी का अभाव था कि उसकी मिट्टी किस प्रकार की है, उसकी मिट्टी में कौन सी कमी है, कितनी कमी है। इस समस्या को दूर करने के लिए देश में किसानों को soil health card देने का बहुत बड़ा अभियान चलाया गया।"

देश में 13 बड़ी नदियों के संरक्षण का अभियान जारी

उन्होंने आगे जानकारी देते हुए कहा "हम catch the rain जैसे अभियानों के माध्यम से जल संरक्षण से देश के जन-जन को जोड़ रहे हैं। इस साल मार्च में ही देश में 13 बड़ी नदियों के संरक्षण का अभियान भी शुरू हुआ है। इसमें पानी में प्रदूषण कम करने के साथ-साथ नदियों के किनारे वन लगाने का भी काम किया जा रहा है।"
यह भी पढ़ें

World Environment Day - कबीर की राह पर किसान... पक्षियों के लिए लगाए फलों के पेड़

नैचुरल फार्मिंग पर जोर
नैचुरल फार्मिंग को लेकर पीएम मोदी ने कहा, "इस साल के बजट में हमने तय किया है कि गंगा के किनारे बसे गांवों में नैचुरल फार्मिंग को प्रोत्साहित करेंगे, नैचुरल फॉर्मिंग का एक विशाल कॉरिडोर बनाएंगे। इससे हमारे खेत तो कैमिकल फ्री होंगे ही, नमामि गंगे अभियान को भी नया बल मिलेगा।"

विश्व के आधुनिक देशों ने पर्यावरण को पहुंचाया काफी नुकसान
पीएम मोदी विश्व के बड़े देशों पर कहा कि "आज जब पर्यावरण के लिए दुनिया परेशान है उस बर्बादी में हिंदुस्तान की भूमिका नहीं है। विश्व के बड़े और आधुनिक देश न केवल धरती के ज्यादा से ज्यादा संसाधन का दोहन कर रहे हैं, बल्कि सबसे ज्यादा Carbon Emission भी उन्हीं के खाते में जाता है।"
भारत पर्यावरण के लिए विश्व के साथ मिलकर कर रहा काम
पीएम मोदी ने आगे कहा, "Carbon Emission का ग्लोबल औसत प्रति व्यक्ति 4 टन का है, जबकि भारत में प्रति व्यक्ति कार्बन फुट्प्रिन्ट प्रति वर्ष आधे टन के आसपास ही है। बावजूद इसके भारत पर्यावरण की दिशा में एक होलिस्टिक ऐप्रोच के साथ न केवल देश के भीतर, बल्कि वैश्विक समुदाय के साथ भी जुड़कर काम कर रहा है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत ने Coalition for Disaster Resilient Infrastructure, CDRI, इण्टरनेशनल सोलर अलायंस (ISA) के निर्माण का नेतृत्व किया है।"

2070 तक नेट जीरो का लक्ष्य
Carbon Emission को कम करने को लेकर उन्होंने कहा, "पिछले वर्ष भारत ने ये भी संकल्प लिया है कि भारत 2070 तक नेट ज़ीरो का लक्ष्य हासिल करेगा।"

यह भी पढ़ें

40 लोगों की 10 साल की मेहनत, बंजर पहाड़ी एक हजार पेड़ों से जंगल में तब्दील

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'Coal Scam: कोयला घोटाले मामले में ED ने पश्चिम बंगाल के 8 आईपीएस ऑफिसर को जारी किया समनजम्मू-कश्मीर के रामबन में लैंडस्लाइड व बादल फटने से दो लोगों की मौत, हिमाचल के कुल्लू में कई दुकानें बहींVP Jagdeep Dhankhar: 'किसान पुत्र' जगदीप धनखड़ ने ली उपराष्ट्रपति पद की शपथ, झुंंझुनू सहित पूरे राजस्थान में जश्न का माहौल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.