निगम बोध घाट पर अरुण जेटली का अंतिम संस्कार, उपराष्ट्रपति, गृहमंत्री समेत कई मंत्री रहे मौजूद

निगम बोध घाट पर अरुण जेटली का अंतिम संस्कार, उपराष्ट्रपति, गृहमंत्री समेत कई मंत्री रहे मौजूद

Mohit sharma | Updated: 25 Aug 2019, 05:03:50 PM (IST) राजनीति

  • निगम बोध घाट पर बेटे रोहन ने दी मुखाग्नि
  • Arun Jaitley का शनिवार को 66 वर्ष की उम्र में निधन
  • निगम बोध घाट पर नेताओं का तांता

नई दिल्ली। देश के पूर्व वित्त मंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। निगम बोध घाट पर अरुण जेटली के बेटे रोहन ने मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार में जेटली के परिवार और पार्टी के नेता मौजूद रहे। बारिश के बीच निगमबोध घाट पर अरुण जेटली के अंतिम संस्कार की प्रक्रिया हुई।

मोदी कैबिनेट के कई मंत्री शामिल

इस मौके पर भाजपा के लौहपुरुष लालकृष्ण आडवाणी, उपराष्ट्रपति वेंकैयू नायडू, गृहमंत्री अमित शाह, बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह , कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, रेल मंत्री पीयूष गोयल, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, नितिन गडकरी, मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा, अरविंद केजरीवाल, उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला, प्रफुल्ल पटेल , बाबा रामदेव, समेत मोदी कैबिनेट के कई मंत्री भी उपस्थित रहे।

अरुण जेटली का शनिवार को 66 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार थे 9 अगस्त को सांस लेने में परेशानी के चलते उनको दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। उनका पार्थिव शरीर निगम बोध घाट लाया गया है। निगम बोध घाट पर अंतिम संस्‍कार की प्रक्रिया हुई।

राजकीय सम्मान के साथ अरुण जेटली का अंतिम संस्कार
निगम बोध घाट पर जेटली का अंतिम संस्कार
गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा मुख्यालय पर दी अरुण जेटली को श्रद्धांजलि
भाजपा मुख्यालय पर दोपहर 1 बजे तक अरुण जेटली के अंतिम दर्शन
भाजपा मुख्यालय लाया गया अरुण जेटली का पार्थिव शरीर
राजकीय सम्मान के साथ होगा अरुण जेटली का अंतिम संस्कार
अरुण जेटली का निधन राष्ट्र के लिए बड़ी क्षतिः ओम बिड़ला

a.png

अरुण जेटली (Arun Jaitley) का अंतिम संस्कार आज यानी रविवार को दोपहर 2.30 बजे निगम बोध घाट पर किया जाएगा।

PM मोदी की जरूरत पर ऐसे काम अरुण जेटली, फिर दोनों में हो गई थी गहरी दोस्ती

- अरुण जेटली का 24 अगस्त को निधन
- 66 साल के थे पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली
- एम्स में दोपहर 12.07 बजे ली अंतिम सांस
- 9 अगस्त को एम्स में कराया गया था भर्ती
- जेटली को सॉफट टिश्यू कैंसर की थी बीमारी
- डॉक्टर्स ने उनको लाइव सपोर्ट सिस्टम रखा था
- जेटली वित्तमंत्री का कार्यभार 2014 से 2018 तक संभाला
- वह राज्यसभा में 2009 से 2014 तक नेता प्रतिपक्ष रहे
- जेटली वरिष्ठ नेता व एक कुशल वकील थे

a1.png

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पिछले मंत्रिमंडल में भाजपा के दिग्गज नेता ने वित्तमंत्री का कार्यभार 2014 से 2018 तक संभाला।

इससे पहले वह राज्यसभा में 2009 से 2014 तक नेता प्रतिपक्ष रहे।

तीन पीढ़ियों से वकालत कर रही अरुण जेटली की फैमिली, ऐसा है परिवार

a3.png

शनिवार को जेटली के निधन के बाद भाजपा व कांग्रेस समेत विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताता उनके अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे।

इन नेताओं में राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और एस. जयशंकर के अलावा भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा, राहुल गांधी, सोनिया गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने उनको श्रद्धांजलि दी।

अरुण जेटली के बेटे ने PM मोदी से की विदेश दौरा रद्द न करने की अपील- काम पूरा कर ही लौटें

a4.png

वहीं, शनिवार को पहली बार बहरीन पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेशनल स्टेडियम में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित किया।

 

इस दौरान संबोधन के अंत में पीएम मोदी का गला भर आया। उन्होंने रुंधे हुए गले से अपने सहयोगी और साधी अरुण जेटली को याद किया।

पीएम मोदी ने कहा कि 'मैं गहरा दर्द दबाए हुए बैठा हूं. आज मेरा दोस्त अरुण चला गया।'

 

a5.png

इससे पहले जेटली के निधन की खबर सुनकर एम्स पहुंचने वालों में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण, स्मृति ईरानी, हरदीप पुरी, जितेंद्र सिंह, अनुराग ठाकुर, भाजपा नेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़, मनोज तिवारी एवं रमेश बिधूड़ी प्रमुख रूप से शामिल रहे।

अरुण जेटली के निधन पर PM मोदी ने जताया दुख, परिजनों से की फोन पर बात

 

a6.png

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक सबसे भरोसेमंद सहयोगी और एक कुशल वकील जेटली के लिए सभी ने शोक संवेदना व्यक्त की।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि जेटली के निधन ने बौद्धिक पारिस्थितिकी तंत्र में एक बहुत बड़ा शून्य छोड़ दिया है।

a7.png
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned