Hate speech : शशि थरूर के कोप से Facebook को बचाने के लिए सामने आई BJP, प्लान - A और B तैयार

  • BJP MP Nishikant Dubey ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ( Om Birla ) को पत्र लिख थरूर को समिति के अध्यक्ष पद से हटाने की मांग की।
  • संसदीय कार्यवही नियम 283 के तहत ओम बिरला सूचना प्रोद्योगिकी समिति के अध्यक्ष शशि थरूर ( Shashi Tharoor ) को दे सकते हैं आवश्यक निर्देश।
  • बीजेपी के पास दूसरा यह है कि वो समिति के बैठक के दौरान इस विषय में मतदान ( Voting ) की मांग कर सकती है।

By: Dhirendra

Updated: 22 Aug 2020, 01:55 PM IST

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) के कुछ नेताओं के हेट स्पीच पोस्ट ( Hate Speech Post ) को फेसबुक की ओर से नजरअंदाज करने के बाद सूचना प्रौद्योगिकी पर संसद की स्थायी समिति के अध्यक्ष शशि थरूर (Shashi Tharoor Chairman of Parliament Standing Committee on Information Technology ) ने नोटिस ( Notice ) जारी कर 2 सितंबर को हाजिर होने का निर्देश दिया है। सूचना प्रोद्योगिकी पर संसद की स्थायी समिति के अध्यक्ष शशि थरूर के इस रुख के बाद बीजेपी ( BJP ) ने भी मोर्चा खोल दिया है। बताया जा रहा है कि फेसबुक ( Facebook ) को थरूर की नाराजगी से बचाने के लिए बीजेपी ने प्लान ए और बी ( BJP Plan A and B ) तैयार किया है। प्लान ए पर सफलता न मिलने की स्थिति में बीजेपी प्लान बी पर अमल करेगी।

क्या है प्लान A और प्लान B

जानकारी के मुताबिक कांग्रेस सांसद और सूचना प्रोद्योगिकी पर संसद की स्थायी समिति के अध्यक्ष शशि थरूर ( Shashi Tharoor ) की मुहिम को विफल करने के लिए बीजेपी ने प्लान एक और बी तैयार किया है। प्लान-A के तहत लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ( Loksabha Speaker Om Birla ) को सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी स्थायी समिति के अध्यक्ष थरूर की इस मुहिम को रोकने का काम करेंगे। इसके लिए सांसद निशिकांत दुबे ( BJP MP Nishikant Dubey ) ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला आचरण संबंधी नियम 283 ( Rule 283 ) को लागू करने का आग्रह किया है। इस नियम के तहत बिरला फेसबुक के खिलाफ थरूर की कार्यवाही को रोकने का आदेश दे सकते हैं।

प्लान A सफल न होने पर बीजेपी की ओर से एक सितंबर को प्रस्ताव में बैकअप योजना यानि प्लान बी है। प्लान बी के तहत नागरिकों के अधिकारों की रक्षा और सामाजिक ऑनलाइन व समाचार मीडिया प्लेटफार्मों के दुरुपयोग की रोकथाम नियम के तहत चर्चा करने व फेसबुक के खिलाफ कार्रवाई से पहले बीजेपी के सदस्य थरूर के इस कदम पर सवाल उठा सकते हैं। साथ ही मतदान ( Voting ) करने की अनुमति की मांग कर सकते हैं। बता दें कि इस समिति के 30 सदस्यों में से बीजेपी के पास 17 सदस्य हैं।

पूरी दुनिया में मशहूर है इन राज्यों की Ganesh Chaturthi Puja, ये है बड़ी वजह

थरूर को अध्यक्ष पद से हटाने की मांग

इस बीच बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को पत्र लिखकर कांग्रेस नेता शशि थरूर को समिति के अध्यक्ष पद से हटाने की मांग की है। बीजेपी सांसदों ने नियमों का हवाला देते हुए थरूर के स्थान पर किसी दूसरे सदस्य को समिति का अध्यक्ष नियुक्त करने की मांग की है। बीजेपी सांसद का आरोप है कि जब से थरूर इस समिति के अध्यक्ष बने हैं तब से वह इसके कामकाज को गैरपेशेवर तरीके से आगे बढ़ा रहे हैं और अफवाह फैलाने का अपना राजनीतिक अजेंडा चला रहे हैं।

अपने पत्र में बीजेपी सांसद ने कहा है कि स्थायी समिति के प्रमुख के पास सदस्यों के साथ अजेंडे के बारे में विचार-विमर्श किए बिना कुछ करने का अधिकार नहीं है।

दिल्ली को दहलाने आया था ISIS आतंकी यूसुफ, एनकाउंटर के बाद धौलाकुआं क्षेत्र से गिरफ्तार

फेसबुक पर है हेट स्पीच पोस्ट को नजरअंदाज करने का आरोप

बता दें कि बीजेपी के कुछ नेताओं के नफरत वाले कथित बयानों ( Hate Speech ) को नज़रअंदाज करने के आरोपों का सामना कर रहे फेसबुक को सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी संसद की स्थायी समिति के अध्यक्ष शशि थरूर ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ( Social media plateform ) के कथित दुरुपयोग के मुद्दे पर चर्चा के लिए 2 सितंबर को तलब किया है। समिति ने इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के प्रतिनिधियों को भी 2 सितंबर को प्रस्तावित बैठक में उपस्थित रहने को कहा है। थरूर के इस कदम के खिलाफ बीजेपी आक्रामक हो गई है।

BJP
Show More
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned