ओडिशा: राहुल गांधी को झटका, पूर्व सीएम हेमानंद की बेटी सुनीता विसवाल ने कांग्रेस का छोड़ा साथ, BJD में शामिल

ओडिशा: राहुल गांधी को झटका, पूर्व सीएम हेमानंद की बेटी सुनीता विसवाल ने कांग्रेस का छोड़ा साथ, BJD में शामिल

Anil Kumar | Publish: Mar, 10 2019 03:19:03 AM (IST) | Updated: Mar, 10 2019 07:33:04 AM (IST) राजनीति

  • राहुल गांधी के ओडिशा दौरे से ठीक एक दिन पहले कांग्रेस पार्टी को एक बड़ा झटका लगा है।
  • पूर्व मुख्यमंत्री हेमानंद विसवाल की बेटी सुनीता बिसवाल ने कांग्रेस का साथ छोड़कर बीजेडी में शामिल हो गईं।
  • सुनीता बिसवाल ने सीएम नवीन पटनायक की उपस्थिति में बीजेडी की सदस्यता ग्रहण की।

भुवनेश्वर। आम चुनाव का समय बेहद करीब है और सियासी रंग गहरा होने लगा है। साथ ही राजनेताओं से लेकर राजनीतिक दलों तक में पाला बदलने का क्रम भी जारी है। इसी कड़ी में कांग्रेस की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। दरअसल पार्टी को गुजरात में एक के बाद एक झटका लगने के बाद अब ओडिशा में भी बड़ा झटका लगा है। राहुल गांधी के ओडिशा दौरे के ठीक एक दिन पहले वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व मुख्यमंत्री हेमानंद विसवाल की बेटी सुनीता बिसवाल ने कांग्रेस का साथ छोड़कर सत्ताधारी पार्टी बीजू जनता दल (बीजेडी) का दामन थाम लिया है। शनिवार को राजधानी भुवनेश्वर स्थित नवीन निवास में सीएम नवीन पटनायक की उपस्थिति में सुनीता ने बीजेडी की सदस्यता ग्रहण की। इस दौरान हाल ही में कांग्रेस का साथ छोड़कर बीजेडी में शामिल हुए झारसुगड़ा के पूर्व विधायक नवकिशोर दास भी मौजूद रहे।

 

पूर्व सांसद विजया शांति के बिगड़े बोल, राहुल गांधी की मौजूदगी में पीएम मोदी के लिए की अमर्यादित टिप्पणी

कांग्रेस के साथ मेरी कोई समस्या नहीं: सुनीता

बता दें कि बीजेडी में शामिल होने के बाद लोगों को संबोधित करते हुए सुनीता विसवाल ने कहा कि कांग्रेस के साथ उनकी कोई समस्या नहीं थी। वह केवल मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के नेतृत्व से प्रभावित होकर बीजेडी में शामिल हुई हैं। इस विशेष मौके पर सीएम नवीन पटनायक ने कहा कि सुनीता विश्वाल के साथ आने से पार्टी को एक नई मजबूती मिली है और आगे भी मजबूत होगा। गौरतलब हैं कि सुनीता सुंदरगढ़ जिला कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष थीं। अब ऐसे में ठीक आम चुनाव के पहले सुनीता का पार्टी छोड़ना ओडिशा में सरकार बनाने का सपना देख रहे राहुल गांधी के लिए मुश्किलें बढ़ सकती है। बहरहाल अब देखना होगा कि इससे कांग्रेस को कितना नुकसान होता है। आपको बता दें कि इससे पहले गुजरात में भी कांग्रेस के दो विधायकों ने पार्टी का साथ छोड़ दिया और सत्ताधारी भाजपा का दामन थाम लिया है।

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned