अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी के बीच ट्विटर वार, मेट्रो किराया बनी रार की जड़

अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी के बीच ट्विटर वार, मेट्रो किराया बनी रार की जड़

Mohit sharma | Publish: Sep, 09 2018 09:15:06 AM (IST) राजनीति

आप संयोजक और दिल्ली की सीएम अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप पुरी के बीच ट्विटर वार जैसी स्थिति नजर आ रही है।

नई दिल्ली। आप संयोजक और दिल्ली की सीएम अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप पुरी के बीच ट्विटर वार छिड़ गया है। हरदीप पुरी ने ट्विटर पर सीएम अरविंद केजरीवाल के उन सवालों का विस्तार से जवाब दिया है, जो केजरीवाल ने उनसे पूछे थे। आपको बता दें कि दो दिन पहले से दिल्ली मेट्रो पर आई सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट(सीएसई) की रिपोर्ट पर चर्चा चल रही है। बैठक में किराया बढ़ोतरी के बाद दिल्ली मेट्रो दुनिया की दूसरी सबसे महंगी मेट्रो बताया गया था। इस बात को लेकर सीएम अरविंद केजरीवाल ने दुख प्रकट किया था।

प्रशांत भूषण ने बोफोर्स से की रफाल सौदे की तुलना, बताया अब तक का सबसे बड़ा घोटाला

 

कश्मीर: पत्थरबाजों पर कार्रवाई को लेकर सोशल मीडिया पर छिड़ी बहस, कहीं विरोध तो कहीं शाबाशी

इस पर केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने सीएम केजरीवाल को 'मेट्रो के स्थान पर दिल्ली की परिवहन प्रणाली पर गौर करें की नसीहत दी थी। इसके जवाब में केजरीवाल ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा था कि 'सर, मेट्रो भी तो हम दिल्लीवासियों के लोगों की है ना। क्या मेट्रो का किराया बढ़ना सही है? उन्होंने यह भी लिखा कि जब सारी दुनिया किराया घटाने पर जोर दे रही है। तो फिर आप भी मान जाइए ना। केजरीवाल ने यह भी लिखा कि हम बसें खरीदने का पूरा प्रयास कर रहे हैं, लेकिन दिल्ली हाईकोर्ट ने बसों की खरीद पर रोक लगा रखी है।

 

कठुआ: अवैध अनाथ आश्रम पर छापेमारी कर छुड़ाए 20 बच्चे, पादरी पर यौन उत्पीड़न का आरोप

सीएम केजरीवाल के इसी ट्वीट के जवाब में मंत्री हरदीप पूरी ने एक के बाद एक 6 ट्वीट किए। उन्होंने कहा कि तंज कसते हुए कहा कि यह मेरा सौभाग्य है कि आपके शासनकाल में मुझे, पहले एक सामान्य नागरिक और अब एक केंद्रीय मंत्री के रूप में, अपने शहर दिल्ली एवं देश की जनता की सेवा का अवसर मिला। उन्होंने माना कि इसमे कोई संदेह नहीं कि मेट्रो दिल्लीवासियों की लोकप्रिय सवारी है। अब रही बात मेट्रो के किराये की तो मैं आपको बता दें कि जब 2016 में एफएफसी ने किराए में बढ़ोतरी का प्रस्ताव रखा था, तब दिल्ली सरकार ने ही इसकी मंजूरी दी थी।

Ad Block is Banned