बांग्लादेशी विमान 940 दिनों से खड़ी है भारत के इस एयरपोर्ट पर, ये है बड़ी वजह

लीगल नोटिस के संबंध में सभी दस्तावेज और ई-मेल की कॉपी डीजीसीए को भेज दी है

रायपुर . माना एयरपोर्ट में 7 अगस्त 2015 से पार्र्किंग एरिया में खड़े बांग्लादेशी विमान से किराया वसूल करने और इसे वापस भेजने के लिए लीगल नोटिस की तैयारी पूरी हो चुकी है। इस संबंध में नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) के निर्देश के बाद स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट माना ने लीगल नोटिस के संबंध में सभी दस्तावेज और ई-मेल की कॉपी डीजीसीए को भेज दी है।

कोलकाता स्थित एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के ईस्टर्न रीजन को भी यह जानकारी भेज दी गई है। माना एयरपोर्ट को अब तक बांग्लादेशी विमान से किराया वसूल नहीं हो सका है। किराया 60 लाख रुपए के करीब पहुंच चुका है। लीगल नोटिस डीजीसीए और कोलकाता कार्यालय के जरिए भेजा जाएगा, जिसमें चेतावनी दी जा रही है कि यदि किराया नहीं चुकाया गया तो विमान की कुर्की भी की जा सकती है।

एयरपोर्ट अधिकारियों का कहना है कि बांग्लादेशी विमानन कंपनी और बांग्लादेशी नागर विमानन को कई बार ई-मेल भेजने के बाद भी विमान ले जाने के संबंध में संतोषजनक जवाब नहीं मिला।

यह है मामला
एयरपोर्ट पर 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के विशेष अलर्ट के दौरान 7 अगस्त 2015 को बांग्लादेशी विमान एमडी-83 (यूनाइटेड एयरवेज मॉडल) की इमरजेंसी लैंडिंग हुई। यह विमान ढाका से मस्कट जा रहा था। विमान में महिलाएं, बच्चे और पुरुषों के साथ 170 यात्री सवार थे। विमान के इंजन का एक हिस्सा रायपुर से करीब 60 किलोमीटर दूर बेमेतरा के एक गांव में गिरा था। इमरजेंसी लैडिंग के पहले पायलट नागपुर एटीसी से संपर्क किया, लेकिन अनुमति नहीं मिलने की वजह से रायपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग की गई थी। 17 फरवरी 2016 को बांग्लादेश के इंजीनियरों ने विमान का इंजन बदला, वहीं विमान की टेस्टिंग भी की गई, लेकिन इसे वापस नहीं ले जाया गया।

940 दिन का किराया बाकी
बांग्लादेशी विमान पर 940 दिन का किराया बाकी है। इन दिनों माना एयरपोर्ट में रन-वे विस्तार का काम जारी है। एयरपोर्ट के एप्रेन एरिया में खड़े होने की वजह से यहां अन्य विमानों की पार्र्किंग मेें भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, वहीं अन्य विशेष विमानों की आवाजाही के दौरान भी बांग्लादेशी विमान मुसीबत बना हुआ है।

डीजीसीए और ईस्टर्न रिजन कोलकाता कार्यालय को लीगल नोटिस के संबंध में दस्तावेज और जानकारियां सौंप दी गई है। किराया वसूल करने के संबंध में लीगल नोटिस में चेतावनी दी जा रही है।
संतोष धोके, निदेशक, स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट माना

Show More
चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned