scriptelection commision guideline became trouble for candidates | आयोग का आदेश बना प्रत्याशियों की मुसीबत : भले ही 15 रुपए में खरीदें समोसा पर पक्के बिल पर दिखाएं 10 में | Patrika News

आयोग का आदेश बना प्रत्याशियों की मुसीबत : भले ही 15 रुपए में खरीदें समोसा पर पक्के बिल पर दिखाएं 10 में

निर्वाचन आयोग की तय दर बन रही प्रत्याशी की मुसीबत, बाजार में भले 15 रुपए दर हो, कागज में बताना होगा 10 रुपए का समोसा, पक्का बिल नहीं दे रहे दुकानदार।

रतलाम

Updated: June 27, 2022 01:20:34 pm

रतलाम. मध्य प्रदेश में निकाय चुनाव की धूम है। इसी बीच चुनाव आयोग द्वारा पहली बार पार्षद प्रत्यशी को भी निर्वाचन व्यय देने का फैसला सुनाया है। तय व्यय और बाजार में उपलब्ध सामग्री के भाव में बड़ा अंतर है, ऐसे में अब प्रत्याशियों में जनता के बीच अपनी छवि स्पष्ट करने के साथ साथ बड़ी चुनौती इस बात की बन गई है कि, आखिर फुटकर चीजों के खर्च कैसे दिखाए जाें? प्रत्याशियों के सामने सबसे बड़ी परेशानी पक्के बिल की है, क्योंकि समोसा - कचोरी, चाय-काफी वाले दुकानदार ग्राहको के लिए पक्का बिल कहां से लाएं। मांगने पर बहुत से बहुत सादे कागज पर दुकानदार हिसाब दे सकते हैं। ऐसे में प्रत्याशियों के सामने चुनौती है कि, वो दिनभर साथ में प्रचार करने वाले कार्यकर्ताओं को कुछ कैसे खिलाएं।

News
आयोग का आदेश बना प्रत्याशियों की मुसीबत, भले ही 15 रुपए में खरीदें समोसा पर पक्के बिल पर दिखाएं 10 में


बात करें मध्य प्रदेश के रतलाम की तो यहां नगर निगम समेत जिले की 6 निकाय में आगामी 6 और 13 जुलाई को मतदान होना है। इस मतदान के पूर्व महापौर प्रत्याशी समेत निकाय के पार्षद प्रत्याशी पूरे दमखम के साथ प्रचार में जुटे हैं। अब जनसंपर्क के दौरान इनके सामने एक समस्या आ रही है। प्रत्याशी को हर व्यय का बिल रखना है, लेकिन शर्त ये है कि, हर बिल पक्का होना चाहिए, यानी दुकानदार के पास नगर निगम का लाइसेंस भी हो और बकायदा भुगतान होने पर इसकी इंट्री भी। ये समस्या सिर्फ रतलाम की ही नहीं है, बल्कि प्रदेशभर के प्रत्याशी इस बात से चिंचिच हैं कि, वो कैसे किसी चाय की दुकान पर समोसा खाने या चाय पीने के बाद दुकानदार से पक्का बिल कैसे लें।

यह भी पढ़ें- हजारों शिक्षकों को समयमान पर सहमति, चौथी बार होने जा रहा प्रस्ताव में बदलाव


चाय-समोसा बाजार में 15 का, पर प्रत्याशी को खरीदना है 5 और 10 रुपए में

इसके अलावा चुनाव आयोग का एक और फैसला प्रत्याशियों के लिए चिंता का विषय बना हुआ है और वो ये कि, चुनाव आयोग ने समोसा - कचोरी की मान्य दर का बिल 10 रुपए प्रतिनग के हिसाब से ही मंजूर किया है, जबकि रतलाम के साथ साथ प्रदेश के लगभग सबी बड़े शहरों में अब समोसा-कचोरी की वास्तविक कीमत 15 रुपए है। इसी तरह चाय के खर्च की कीमत में 5 रुपए मंजूर किये गए हैं, जबकि बाजार की दुकानों पर चाय की कीमत 7 रुपए से लेकर 15 रुपए है।


यह हो रहा मैदान में

प्रत्याशी समोसा भी खा रहे है और साथ में चल रहे कार्यकर्ताओं को कचोरी से लेकर चाय - काफी भी दे रहे है। अब बारी जब भुगतान की आती है तो नेताजी के साथ चल रहे समर्थक व्यय का भुगतान तो कर रहे है, लेकिन साथ में बिल लेने का जब नंबर आता है, तब पक्के बिल की समस्या सामने आने पर कागज पर लिखा हुआ ही मान्य करके चल रहे है।

यह भी पढ़ें- जब लखनलाल ने रोका शिवराज का काफिला, बीच सड़क पर भेंट किये जूते, सीएम बोले- 'आभार', जानिए मामला


इस दर में भी खासा अंतर

चुनाव के दौरान प्रत्याशी के जनंसपर्क में आतिशबाजी का महत्व है। ऐसे में चुनाव आयोग ने फुलझड़ी का पैकेट की दर 15 से 18 रुपए, अनार 160 रुपए से 220 रुपए, लड़ की कीमत 22 सौ से लेकर 3 हजार रुपए, रस्सी या सुतली बम 50 से 70 रुपए आदि तय की है, जबकि हकीकत में इन सब की बाजार कीमत इससे काफी अलग है।

यहां मतदाताओं को रिझाने के लिए बांटी जा रही साड़ियां, देखें वीडियो

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्तFlag Code Of India: 'हर घर तिरंगा' अभियान शुरू, 15 अगस्त से पहले जानिए तिरंगा फहराने के नियम, अपमान पर होगी जेल3 PAK खिलाड़ी बन सकते हैं टीम इंडिया की गले की हड्डी, Asia Cup 2022 में रहना होगा अलर्टशहर को गाजर घास मुक्त करने निगम ने चलाया विशेष अभियान, कुछ ऐसे चलेगा Operation 7 खिलाड़ी जो भारत पाकिस्तान 2021 T20 वर्ल्डकप मैच का थे हिस्सा, लेकिन एशिया कप 2022 मैच में नहीं मिली जगह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.