VIDEO शरद पूर्णिमा 2019 : यहां पढ़ें शुभ मुहूर्त, व्रत की विधि

VIDEO शरद पूर्णिमा 2019 : यहां पढ़ें शुभ मुहूर्त, व्रत की विधि
Sharad Purnima : know the significance vidhi date and shubh muhurat

Ashish Pathak | Updated: 13 Oct 2019, 12:02:01 AM (IST) Ratlam, Ratlam, Madhya Pradesh, India

शरद पूर्णिमा 2019 : वर्ष में एक बार मनाया जाने वाला त्यौहार शरद पूर्णिमा 2019 आज 13 अक्टूबर को है। इस दिन व्रत रखकर माता महालक्ष्मी को प्रसन्न किया जाता है। अनेक भक्त व्रत रखकर उपवास करते है। इस दिन उपवास या व्रत करने से मन की हर मनोकामनाएं पूरी होती है।

रतलाम। वर्ष में एक बार मनाया जाने वाला त्यौहार शरद पूर्णिमा 2019 आज 13 अक्टूबर को है। इस दिन व्रत रखकर माता महालक्ष्मी को प्रसन्न किया जाता है। अनेक भक्त व्रत रखकर उपवास करते है। इस दिन उपवास या व्रत करने से मन की हर मनोकामनाएं पूरी होती है। इस दिन को कोजागरी पूर्णिमा के नाम भी जाना जाता है। इसकी एक विधि है। यहां पढे़ं शरद पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त व व्रत की विधि।

MUST READ : VIDEO दो हजार के नोट की गड्डी, हीरा मोती पन्ना से होता है यहां महालक्ष्मी मंदिर श्रृंगार

महाबली रावण ने किए थे शरद पूर्णिमा के टोटके, आप भी करें मिलेगा लाभ

रतलाम के प्रसिद्ध Astrologer वीरेंद्र रावल ने बताया कि हिंदू धर्म में शरद पूर्णिमा के फेस्टीवल का विशेष महत्व है। ये मान्यता है कि इस दिन उपवास या व्रत करने से मन की हर मनोकामनाएं पूरी होती है। इस दिन को कोजागरी पूर्णिमा के नाम भी जाना जाता है। मान्यता है कि इस दिन चंद्र देव धरती पर अपनी अमृत की विशेष बारिश करते है। इसी शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा, माता लक्ष्‍मी और भगवा विष्‍णु की पूजा का विधान है।

MUST READ : करवा चौथ 2019 : पति से मिलेगा सम्मान, बस करें यह एक उपाय

astrology in hindi

यहां पढे़ं शरद पूर्णिमा का महत्व

रतलाम के प्रसिद्ध एस्टोलॉजर वीरेंद्र रावल ने बताया कि कहा जाता है कि जो विवाहित स्त्रियां इस दिन व्रत रखती हैं उन्‍हें संतान की प्राप्ति होती है। जो माताएं इस व्रत को करती हैं उनके बच्‍चे दीर्घायु होते हैं। अगर कुंवारी लड़कियां ये व्रत रखें तो उन्‍हें मनचाहा पति मिलता है। इतना ही नहीं, अगर परिवार में प्रॉपर्टी को लेकर कोई विवाद हो तो वो भी एक वर्ष में हल हो जाता है। इस दिन प्रेमावतार भगवान श्रीकृष्ण, धन की देवी मां लक्ष्मी और सोलह कलाओं वाले चंद्रमा की उपासना से अलग-अलग वरदान प्राप्त किए जाते हैं। कहा जाता है कि इसी रात भगवान श्री कृष्ण ने महारास रचाया था।

MUST READ : शरद पूर्णिमा 2019 : व्रत, पूजा विधि, मुहूर्त, कथा, यहां पढे़ं

AStrology in hindi

बारिश के जाने का संकेत है

रतलाम के प्रसिद्ध एस्टोलॉजर वीरेंद्र रावल ने बताया कि शरद पूर्णिमा का चांद और साफ आसमान बारिश के साथ मॉनसून के पूरी तरह चले जाने का संकेत है। पुराणों के अनुसार यह कहा गया है कि ये दिन इतना शुभ और सकारात्मक होता है कि छोटे से उपाय से बड़ी-बड़ी विपत्तियां टल जाती हैं। पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक इसी दिन मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था। इसलिए धन प्राप्ति के लिए भी ये तिथि सबसे उत्तम मानी जाती है।

MUST READ : शनिवार को किए इस 1 उपाय से उतरेगा कर्ज

Sharad Purnima : know the significance vidhi date and shubh muhurat

खीर रखने का है विशेष महत्व
रतलाम के प्रसिद्ध एस्टोलॉजर वीरेंद्र रावल ने बताया कि शरद पूर्णिमा की रात में खुले आसमान के नीचे दूध, शक्कर, पंचमेवा से बनी खीर रखने की भी परंपरा है। इस दिन लोग खीर बनाते हैं और फिर 12 बजे के बाद उसे प्रसाद के तौर पर गहण करते हैं। मान्‍यता है कि इस दिन चंद्रमा आकाश से अमृत बरसाता इसलिए खीर भी अमृत वाली हो जाती है। यह अमृत वाली खीर में कई रोगों को दूर करने की शक्ति रखती है। इसलिए इसके सेवन से विभिन्न प्रकार के रोग को भगाया जाता है।

MUST READ : इस करवा चौथ 2019 पर करें यह टोटका, पति रहेगा काबू में

Chandra Grahan
IMAGE CREDIT: NET

शरद पूर्णिमा कब मनती है

रतलाम के प्रसिद्ध एस्टोलॉजर वीरेंद्र रावल ने बताया कि अश्विन मास के शुक्‍ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता है। इस साल शरद पूर्णिमा का पर्व 13 अक्टूबर 2019 रविवार को है। इस तिथि की शुरुआत रात 12 बजकर 36 मिनट से होगी। 14 अक्टूबर को रात 2 बजकर 38 मिनट तक यह तिथि रहेगी। 13 अक्टूबर की शाम को 5 बजकर 26 मिनट पर चंद्र का उदय हिंदू पंचांग अनुसार होगा।

MUST READ : जब देवी को खाने आया था शेर, फिर हुआ यह...

Sharad Purnima : know the significance vidhi date and shubh muhurat

शरद पूर्णिमा व्रत विधि इस प्रकार है

- पूर्णिमा के दिन सुबह में इष्ट देव का पूजन करना चाहिए।

- इन्द्र और महालक्ष्मी जी का पूजन करके घी के दीपक जलाकर उसकी गन्ध पुष्प आदि से पूजा करनी चाहिए।

- ब्राह्माणों को खीर का भोजन कराना चाहिए और उन्हें दान दक्षिणा प्रदान करनी चाहिए।

- लक्ष्मी प्राप्ति के लिए इस व्रत को विशेष रुप से किया जाता है. इस दिन जागरण करने वालों की धन-संपत्ति में वृद्धि होती है।

- रात को चन्द्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही भोजन करना चाहिए।

- मंदिर में खीर आदि दान करने का विधि-विधान है।
- ऐसा माना जाता है कि इस दिन चांद की चांदनी से अमृत बरसता है।

- रात 12 बजे के बाद अपने परिजनों में खीर का प्रसाद बांटें।

MUST READ : VIDEO 9 रात, 9 देवी, 9 कहानी, यहां पढे़ं हर देवी की रोचक कहानी

पीएम मोदी भी मानते है इस मंदिर की महिमा, आप भी करें LIVE दर्शन

महालक्ष्मी को प्रसन्न करने के 21 उपाय, एक भी कर लिया तो हो जाएंगे मालामाल

नवरात्रि, दिवाली, किसमस तक रेलवे चलाएगा 30 विशेष ट्रेन

VIDEO 42 ट्रेन में अस्थाई रूप से अतिरिक्त डिब्बे लगाए

भूलकर मत करना यह 7 काम, नाराज होती है महालक्ष्मी

दिवाली पूजा का बेस्ट मुहूर्त यहां पढे़ं

chandrayaan.jpg
Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned