script3 eclipse just in 31 days between june to july 2020, what Will happen | एक के बाद एक करके लगातार आ रहे हैं तीन ग्रहण, इनके सूतक काल में भूलकर भी न करें ये गलती | Patrika News

एक के बाद एक करके लगातार आ रहे हैं तीन ग्रहण, इनके सूतक काल में भूलकर भी न करें ये गलती

: कोरोना का ग्रहण से रिश्ता...

: 05 जून से 05 जुलाई 2020 के बीच में पड़ेंगे ये ग्रहण

भोपाल

Published: May 11, 2020 03:42:30 pm

ज्योतिष में कोरोना का मुख्य कारण माने जा रहे दिसंबर 2019 के सूर्य ग्रहण के बाद पहला सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 को पड़ने जा रहा है। ऐसे में इस ग्रहण से कोरोना के रिश्ते को लेकर कई तरह के ज्योतिषीय समीकरण समाने आ रहे हैं।

3 eclipse just in 31 days in june to july 2020, what Will happen
3 eclipse just in 31 days in june to july 2020, what Will happen

लेकिन इस ग्रहण के आसपास ही लगातार तीन ग्रहण बन रहे हैं। जिनमें दो चंद्रग्रहण हैं। पंडित सुनील शर्मा के अनुसार एक वर्ष में तीन से ज्यादा ग्रहण घातक माने जाते हैं, जबकि इस वर्ष यानि 2020 में तो कुल 6 ग्रहण पड़ रहे हैं, इनमें से 1 चंद्रग्रहण जनवरी 2020 में लग चुका है, वहीं कुल संख्या के हिसाब से इस वर्ष 2020 में जहां दो सूर्य ग्रहण पड़ेंगे, वहीं 4 चंद्र ग्रहण भी लगेंगे।

सूर्य ग्रहण 2020 : 21 जून और 14-15 दिसंबर 2020 को लगेगा।
चंद्रग्रहण 2020 : 10-11 जनवरी (जो लग चुका है),5-6 जून,5 जुलाई व 30 नवंबर 2020 को लगने वाला है।

MUST READ : कोरोना की जन्मपत्री - जानें राशि के अनुसार बचाव के उपाय

https://www.patrika.com/dharma-karma/janampatri-of-coronavirus-and-its-treatment-through-zodiac-signs-6074160/

खैर फिलहाल हम अभी लगातार आने वाले ग्रहण के संदर्भ में बता दें कि मई 2020 के बाद आने वाले माह जून 2020 में दो ग्रहण लग रहे है। फिर इसके तुरंत बाद 05 जुलाई को भी ग्रहण लग रहा है। कुल मिलाकर जून और जुलाई में तीन बड़े ग्रहण लग रहे है।

इनमें सबसे पहले चंद्र ग्रहण (Lunar Eclipse) जून के पहले सप्ताह में 5 तारीख को लगेगा, फिर इसके बाद सूर्य ग्रहण (Solar Eclipse) जून के आखिरी दस दिनों में यानि 21 जून को लगेगा, जबकि इसके ठीक बाद जुलाई शुरु होते ही जुलाई की 5 तारीख को फिर चंद्र ग्रहण लग रहा है।

खास बात ये है कि जून में लगने वाले दोनों ही ग्रहण भारत में दिखाई देंगे लेकिन जुलाई वाला ग्रहण अमेरिका, दक्षिण पश्चिम यूरोप और अफ्रीका के कुछ हिस्से में दिखाई देगा। वहीं 5 जून वाला चंद्रग्रहण जहां भारत समेत यूरोप के साथ ही साथ अफ्रीका, एशिया और ऑस्ट्रेलिया के कुछ हिस्से में दिखाई देगा, जबकि इसके बाद 21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत, दक्षिण पूर्व यूरोप, हिंद महासागर, प्रशांत महासागर, अफ्रीका और उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका के प्रमुख हिस्से में दिखाई देगा।

MUST READ : एक बार फिर लॉकडाउन के बीच आया पंचक

https://www.patrika.com/horoscope-rashifal/novel-coronavirus-death-date-released-in-india-after-panchak-6042522/

इन खास बातों का रखे ध्यान...
सनातक मान्यता के अनुसार ग्रहण लगने से पहले ही सूतक शुरु हो जाते हैं। पंडित सुनील शर्मा के अनुसार सूतक का अर्थ है - खराब समय या ऐसा समय जब प्रकृति ज्यादा संवेदनशील होती है , ऐसे में किसी अनहोनी के होने की संभावना ज्यादा होती है। सूतक चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण दोनों के समय लगता है। ऐसे समय में सावधान रहना चाहिए और ईश्वर का ध्यान करना चाहिए। वहीं सूतक काल में हमें कुछ खास बातों का ध्यान रखाना चाहिए।

जिस प्रकार किसी बच्चे के जन्म लेने के बाद भी उस घर के सदस्यों को सूतक की स्थिति में बिताने होते हैं, उसी प्रकार ग्रहण के सूतक काल में किसी भी तरह का कोई शुभ काम नहीं किया जाता, यहां तक की कई मंदिरों के कपाट भी सूतक के दौरान बंद कर दिये जाते हैं।

ऐसे में पहला ग्रहण 05 जून को चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। उपच्छाया चंद्र ग्रहण होने के कारण सूतक काल का प्रभाव कम रहेगा, लेकिन बहुत से लोग हर तरह के ग्रहण को गंभीरता से लेते हैं। जिस वजह से वो सूतक के नियमों का पालन भी करते हैं।

MUST READ : Hindu Calendar 2020 - सिर्फ 53 दिन बजेंगी शहनाइयां, 10 जनवरी को लगेगा चंद्र ग्रहण

https://www.patrika.com/bhopal-news/hindu-calendar-2020-in-hindi-auspicious-moment-with-date-time-in-year-5569928/सूतक काल : भूलकर भी न छूएं तुलसी का पौधा
सूतक काल ग्रहण लगने पहले ही शुरू हो जाता है। इस समय खाने पीने की मनाही होती है, लेकिन गर्भवती महिलाओं, बीमार व्यक्ति, छोटे बच्चों और वृद्ध लोगों पर ये नियम लागू नहीं होते हैं, साथ ही यह जरूर ध्यान रखें कि सूतक काल लगने से पहले ही भोजन में तुलसी के पत्ते जरूर डाल दें, जिससे ग्रहण काल में जरूरत पड़ने पर इसे खाने का इस्तेमाल किया जा सके। सूतक काल के समय मन ही मन में ईश्वर की अराधना करनी चाहिए। इस दौरान मंत्र जाप कर सकते हैं। वहीं सूतक काल के दौरान किसी भी स्थिति में भूलकर भी तुलसी के पौधे को छूना नहीं चाहिए।
सूतक काल : नहीं करते पूजा-पाठ
सूतक काल के समय शुभ काम और पूजा पाठ नहीं की जाती है। भगवान की मूर्ति को स्पर्श करने की भी मनाही होती है, वहीं सूतक के समय मंदिरों के कपाट बंद कर दिये जाते हैं। गर्भवती महिलाओं के लिए सूतक काल विशेष रूप से हानिकारक माना जाता है। जिस कारण सूतक काल के दौरान गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए।
सूतक काल में काटने छाटने का काम भी नहीं करना चाहिए। इसके साथ ही प्रेगनेंट महिलाओं चाकू, ब्लेड, कैंची जैसी चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। कहा जाता है है कि ग्रहण के समय धार वाली वस्तुओं का प्रयोग करने से गर्भ में पल रहे बच्चे के विकास पर इसका बुरा असर पड़ता है।
MUST READ : जानिये साल 2020 में सूर्य व चंद्रमा की गति, और कब-कब पड़ेंगे ग्रहण

https://www.patrika.com/bhopal-news/timing-of-all-eclipse-in-2020-with-speed-of-sun-and-moon-5608140/ऐसे समझें एक के बाद एक लगतार पड़ने वाले इन ग्रहणों को...

05 जून 2020 चंद्र ग्रहण :
05 जून की रात्रि को 11 बजकर 16 मिनट से 6 जून को 2 बजकर 34 मिनट तक रहेगा, ये उपच्छाया ग्रहण होगा। ये ग्रहण भारत, यूरोप, अफ्रीक, एशिया और ऑस्ट्रेलिया में दिखाई देगा, उपच्छाया चंद्र ग्रहण होने के कारण सूतक काल का प्रभाव कम रहेगा।
21 जून 2020 सूर्य ग्रहण :
21 जून की सुबह 9 बजकर 15 मिनट से दोपहर 15 बजकर 04 मिनट तक रहेगा, यह वलयाकार सूर्य ग्रहण रहेगा। दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर इस ग्रहण का सबसे ज्यादा प्रभाव रहेगा। इसे भारत समेतदक्षिण पूर्व यूरोप, हिंद महासागर, प्रशांत महासागर, अफ्रीका और उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका के प्रमुख हिस्सों में देखा जा सकेगा।
05 जुलाई 2020 चंद्र ग्रहण :
सुबह 08 बजकर 38 मिनट से 11 बजकर 21 मिनट तक रहेगा, ये उपच्छाया ग्रहण होगा। जिसके कारण इसका प्रभाव भारत में बहुत कम रहेगा। इस दिन लगने वाला ग्रहण अमेरिका, दक्षिण-पश्चिम यूरोप और अफ्रीका के कुछ हिस्से में दिखाई देगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवारIndependent Day पर देशभर के 1082 पुलिस जवानों को मिलेगा पदक, सबसे ज्यादा 125 जम्मू कश्मीर पुलिस कोहरियाणा में निकली 6600 फीट लंबी तिरंगा यात्रा, मनाया जा रहा आजादी के अमृत महोत्सव का जश्न
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.