scriptvinayaka chaturthi puja vidhi and date of June 2021 | Vinayak Chaturthi June 2021: ज्येष्ठ मास की विनायक चतुर्थी का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि | Patrika News

Vinayak Chaturthi June 2021: ज्येष्ठ मास की विनायक चतुर्थी का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि

ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की चतुर्थी...

भोपाल

Published: June 04, 2021 04:29:43 pm

हिंदू धर्म में भगवान श्री गणेश को प्रथम पूज्य माना गया है। वहीं साल में श्री गणेश के प्रमुख दिनों में Chaturthi Tithi को विशेष माना जाता है। जो हर चंद्र महीने में दो आती हैं। ऐसे में माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को विनायक चतुर्थी और कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी कहा जाता है।

vinayaka chaturthi 2021
vinayaka chaturthi June 2021

सनातन धर्म की मान्यताओं के अनुसार इन तिथियों पर भगवान Shri Ganesh की पूजा अर्चना करने से सारे संकट टल जाते हैं और घर में सुख-समृद्धि होने के साथ यश की प्राप्ति होती है।

ऐसे में इस बार सोमवार, 14 जून 2021 को ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की चतुर्थी पड़ रही है, जिसे विनायक चतुर्थी के नाम से जाना जाएगा।

विनायक चतुर्थी जून 2021: ज्येष्ठ, शुक्ल चतुर्थी तिथि
प्रारंभ- 13 जून रात 09 बजकर 40 से
समाप्त- 14 जून रात 10 बजकर 34 मिनट तक

Must read - ज्येष्ठ कृष्ण अमावस्या के दिन वट सावित्री व्रत की विधि,कथा और शुभ मुहूर्त

vat_savitri_vrat_2021
https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/vat-savitri-date-2021-puja-method-story-and-auspicious-time-6878190/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/vat-savitri-date-2021-puja-method-story-and-auspicious-time-6878190/

पूजा शुभ मुहूर्त:
पंडित एके शुक्ला के अनुसार इस दिन यानि 14 जून 2021 को पूजा का मुहूर्त 10:58 AM से 01:45PM तक का है। यानि पूजा मुहूर्त की कुल अवधि 02 घंटे 47 मिनट की है।

14 जून, 2021 का पंचांग...
तिथि : चतुर्थी, 22:31 तक
नक्षत्र : पुष्य, 20:30 तक
योग : ध्रुव, 09:20 तक
प्रथम करण : वणिजा, 10:09 तक
द्वितिय करण : विष्टि, 22:31 तक
वार : सोमवार

शुभ मुहूर्त
अभिजीत : 12:00 − 12:53
अमृत कालम् : 13:40 − 15:23

अशुभ मुहूर्त
गुलिक काल : 14:07 − 15:47
यमगण्ड : 10:46 − 12:26
दूर मुहूर्तम् : 03:48 − 03:50
: 03:55 − 03:57
राहू काल : 07:25 − 09:06

दरअसल Hindu panchang के अनुसार हर महीने में दो चतुर्थी तिथि होती हैं। इस तिथि को भगवान गणेश की तिथि माना जाता है। इसमें अमावस्या के बाद आने वाली शुक्लपक्ष की चतुर्थी तिथि विनायक चतुर्थी और पूर्णिमा के बाद आने वाली कृष्णपक्ष की तिथि संकष्टी चतुर्थी कहलाती है।

MUST read- श्री गणेश जी को ऐसे करें प्रसन्न, बस इन बातों का रखें ध्यान

how to please lord ganesh ji and get blessing on wednesday
https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/lord-shri-ganesh-ji-idol-at-home-or-office-for-blessing-6523067/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/lord-shri-ganesh-ji-idol-at-home-or-office-for-blessing-6523067/
गणेश जी का नाम विनायक होने के कारण इसे विनायकी चतुर्थी व्रत भी कहा जाता है। वहीं कई भक्त विनायकी चतुर्थी व्रत को वरद विनायक चतुर्थी के रूप में भी मनाते हैं।
विनायक चतुर्थी का महत्व
विनायक चतुर्थी पर श्री गणेश की पूजा दिन में दो बार की जाती है। एक बार दोपहर में और एक बार मध्याह्न में। मान्यता है कि विनायकी चतुर्थी के दिन व्रत करने से सभी कार्य सिद्ध होते हैं। सभी मनुष्यों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं और समस्त सुख-सुविधाएं प्राप्त होती हैं।
वहीं भगवान गणेश को ज्ञान, बुद्धि, समृद्धि, और सौभाग्य का देवता भी माना जाता है और किसी भी शुभ काम की शुरूआत प्रथम पूज्य विघ्नहर्ता गणेश जी के पूजन से ही होती है।

MUST READ - शनि देव को घर पर रहकर भी आप कर सकते हैं प्रसन्न, जानें पूजा विधि और क्या करें व क्या न करें
shani_jyanti_2021
https://www.patrika.com/festivals/2021-me-shani-jyanti-kab-hai-jane-date-and-puja-time-6878726/ IMAGE CREDIT: https://www.patrika.com/festivals/2021-me-shani-jyanti-kab-hai-jane-date-and-puja-time-6878726/

विनायक चतुर्थी पर ऐसे करें पूजा...
: ब्रह्म मूहर्त में उठकर नित्य कर्म से निवृत्त होकर स्नान करने के बाद लाल रंग के वस्त्र धारण करें।

: दोपहर पूजन के समय अपने सामर्थ्य के अनुसार सोने, चांदी, पीतल, तांबा, मिट्टी अथवा सोने या चांदी से निर्मित गणेश प्रतिमा स्थापित करें। और संकल्प के बाद षोडशोपचार पूजन कर श्री गणेश की आरती करें।

: इसके बरद श्री गणेश की मूर्ति पर सिन्दूर चढ़ाएं और ‘ॐ गं गणपतयै नम:’ का जाप करें।

: प्रतिमा पर 21 दूर्वा दल चढ़ाएं। दूर्वा एक प्रकार की घास का नाम है, जो श्री गणेश को अत्ति प्रिय है।

: श्री गणेश को बूंदी के 21 लड्डुओं का भोग लगाएं।

: पूजन के समय श्री गणेश स्तोत्र, अथर्वशीर्ष, संकटनाशक गणेश स्त्रोत का पाठ करें।

: ब्राह्मण को भोजन करवाकर दक्षिणा दें।

: शाम के समय गणेश चतुर्थी कथा, श्रद्धानुसार गणेश स्तुति, श्री गणेश सहस्रनामावली, गणेश चालीसा, गणेश पुराण आदि का स्तवन करें।

: संकटनाशन गणेश स्तोत्र का पाठ करके श्री गणेश की आरती करें।

: शाम के समय भोजन ग्रहण करें।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: शिंदे खेमे में आ चुके हैं सरकार बनाने भर के विधायक! फिर क्यों बीजेपी नहीं खोल रही अपने पत्ते?Maharashtra Political Crisis: ‘मातोश्री’ में मंथन! सड़क पर शिवसैनिकों के उपद्रव का डर, हाई अलर्ट पर मुंबई समेत राज्य के सभी पुलिस थानेMaharashtra Political Crisis: 24 घंटे के अंदर ही अपने बयान से पलट गए एकनाथ शिंदे, बोले- हमारे संपर्क में नहीं है कोई नेशनल पार्टीBharat NCAP: कार में यात्रियों की सेफ़्टी को लेकर नितिन गडकरी ने कर दिया ये बड़ा काम, जानिए क्या होगा इससे फायदा2-3 जुलाई को हैदराबाद में BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, पास वालों को ही मिलेगी इंट्री, सुरक्षा के कड़े इंतजामMumbai News Live Updates: शिवसेना ने कल पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़ेंगे उद्धव ठाकरेनीति आयोग के नए CEO होंगे परमेश्वरन अय्यर, 30 जून को अमिताभ कांत का खत्म हो रहा है कार्यकालCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.