ICSI: सीएस फाउंडेशन: ऑल इंडिया टॉप-25 में जयपुर की 9 गर्ल्स

ICSI: द इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया (आइसीएसआइ) की ओर से गुरुवार को जारी सीएस फाउंडेशन के रिजल्ट में ऑल इंडिया टॉप-25 रैंक में शहर की नौ गर्ल्स ने रैंक हासिल की है।

By: सुनील शर्मा

Published: 26 Jul 2019, 11:42 AM IST

ICSI: पिंकसिटी की बेटियों ने एक बार फिर अपना परचम लहराया है। द इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया (आइसीएसआइ) की ओर से गुरुवार को जारी सीएस फाउंडेशन के रिजल्ट में ऑल इंडिया टॉप-25 रैंक में शहर की नौ गर्ल्स ने रैंक हासिल की है। जयपुर चैप्टर से सिर्फ एक ही मेल स्टूडेंट टॉप-25 में जगह बना पाया है। एग्जाम 8 और 9 जून को देशभर के 125 सेंटर्स और ओवरसीज सेंटर दुबई में ऑनलाइन कंडक्ट करवाया गया था।

ये भी पढ़ेः Accupressure थैरेपी में बनाएं कॅरियर, घर बैठे कमाएंगे लाखों

ये भी पढ़ेः फैशन डिजाइनिंग में बनाएं कॅरियर, हर महीने कमाएंगे लाखों, बॉलीवुड में भी चांस मिलेगा

आइसीएसआइ जयपुर चैप्टर के चेयरमैन राहुल शर्मा ने बताया कि उर्मिला कंवर और ईशा चौधरी एआइआर 8वीं रैंक के साथ जयपुर चैप्टर की टॉपर बनीं हैं। अनु ने 15वीं, राधिका शाह और अक्षिमा पारीक ने 19वीं, मुस्कान अजमेरा और तुषिता अग्रवाल ने 22वीं, रोनार्क छीपा ने 24वीं, पूजा धामोर और आयुषी गोयल ने 25वीं रैंक हासिल की है।

ये भी पढ़ेः रामायण में छिपे हैं मैनेजमेंट के फंड़े, इन्हें आजमाते ही चमक जाएगी किस्मत

ये भी पढ़ेः इन गवर्नमेंट ऐप्स को करें अपने फोन में इंस्टॉल, मिलेगी हर जरूरी जानकारी

इंस्टीट्यूट के असिस्टेंट डायरेक्टर राजेश गुप्ता ने बताया कि दिसंबर, 2018 में आयोजित एग्जाम में देशभर से 62.11 स्टूडेंट्स पास हुए थे, वहीं इस बार 64.53 स्टूडेंट्स ने एग्जाम क्लीयर किया है। लास्ट टाइम टॉप-25 में जयपुर से 6 ही स्टूडेंट्स थे, वहीं इस बार 10 स्टूडेंट्स ने जगह बनाई है। सीएस फाउंडेशन का अगला एग्जाम 28 और 29 दिसंबर को आयोजित किया जाएगा। इंस्टीट्यूट की ओर से 25 अगस्त को सीएस एग्जिक्यूटिव और प्रोफेशनल का रिजल्ट जारी किया जाएगा।

उर्मिला कंवर (AIR 8)
माता : सुमन कंवर (होममेकर)
पिता : नरेंद्र सिंह शेखावत (आर्मी ऑफिसर)
पहले दिन से मेरा गोल क्लीयर था। शुरुआत में करीब 6 घंटे और एग्जाम टाइम में करीब 12 से 13 घंटे पढ़ाई की। सोशल मीडिया पर मैं एक्टिव रही, लेकिन खुद पर कंट्रोल था।

ईशा चौधरी (AIR 8)
माता : इंदू चौधरी (होममेकर)
पिता : सुरेश चौधरी (प्राइवेट जॉब)
एग्जाम को लेकर मैंने स्ट्रैटेजी बनाई थी, डेली मॉर्निंग में जल्दी उठकर स्टडी किया करती थी। अपने गोल से डिस्ट्रैक्ट नहीं होने के लिए सोशल मीडिया से दूर रही।

अनु (AIR 15)
माता : निर्मला तिवारी (होममेकर)
पिता : विनोद तिवारी (गवर्नमेंट ऑफिसर)
डेली छोटे-छोटे गोल्स बनाती थी। स्टडी डेली करनी चाहिए, चाहे कुछ देर ही पढ़े। एग्जाम टाइम में डाउट्स क्लीयर करने के लिए वाट्सऐप यूज किया करती थी।

Show More
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned