एवरेस्ट पर मिले कचरे को खजाने में बदलने की कोशिश, जानें कैसे

एवरेस्ट पर मिले कचरे को खजाने में बदलने की कोशिश, जानें कैसे

Priya Singh | Publish: Jul, 09 2019 12:51:11 PM (IST) विज्ञान और तकनीक

  • Mount Everest: माउंट एवरेस्ट को साफ रखने के लिए चलाया जा रहा है सफाई अभियान
  • अब तक 10,000 किलोग्राम से अधिक कचरा हो चुका है इकट्ठा
  • ऑनलाइन बिक सकते हैं रिसाइकिल कांच के उत्पाद

नई दिल्ली। माउंट एवरेस्ट ( mount everest ) को साफ-सुथरा रखने और गंदगी से बचाने के लिए नेपाल ने एक महीने का सफाई अभियान चलाया है। पर्वतीय क्षेत्र से अब तक 10,000 किलोग्राम से अधिक कचरा इकट्ठा किया गया है। एक समाचार एजेंसी के मुताबिक, इस ऐतिहासिक सफाई अभियान को सरकारी और गैर-सरकारी एजेंसियों ने मिलकर बेस कैंप और चार उच्च शिविरों से समर्पित शेरपा टीम को जुटाकर चलाया, जिसमें संसार की छत से न केवल कचरे को इकट्ठा किया गया, बल्कि चार शवों को भी हटाया गया।

 

mount Everest

इन ठोस अवशेषों को काठमांडू ( Kathmandu ) के पास स्थित लैंडफिल साइट (अपशिष्ट पदार्थो को फेंकने की जगह) में फेंकने के बजाय, विभिन्न उत्पादों के लिए कच्चे माल खातिर इन्हें अलग किया गया। इसके बाद इन्हें प्रोसेस कर इनका रिसाइकिल ( recycling ) किया गया।

Everest

समाचार एजेंसी ने ब्लू वेस्ट टू वैल्यू के प्रधान नवीन विकास महारजन के हवाले से बताया, "हमने एकत्रित सामग्रियों को पहले विभिन्न श्रेणियों में अलग-अलग किया, जैसे कि प्लास्टिक, कांच, लोहा, एल्युमीनियम और कपड़े। मिले 10 टन कचरे में से दो टन को रिसाइकिल किया गया, जबकि बाकी बचे आठ टनों में अधजली वस्तुएं और मिट्टी से सने हुए आवरण होने की वजह से उनका पुनर्चक्रण नहीं किया जा सकता।" साल 2017 से 50 से अधिक लोग काठमांडू स्थित ब्लू वेस्ट टू वैल्यू से जुड़े हैं, यह एक सामाजिक उद्यम है जो कचरे से उपयोगी वस्तुएं बनाने का काम करती है।

पहाड़ों से मिले कचरे का रिसाइकिल करने के अलावा महारजन की टीम नगरपालिकाओं, अस्पतालों, होटलों और विभिन्न कार्यालयों के साथ भी काम कर रही है, ताकि कचरे का अधिक से अधिक सदुपयोग किया जा सके और लैंडफिल में भेजे गए कचरों की मात्रा को कम किया जा सके और हरित रोजगार का सृजन किया जा सके।

 

Mount Everest nepal

एवरेस्ट सफाई अभियान को और ज्यादा प्रभावी बनाने के लिए कंपनी ने अधिकारियों को पहाड़ी क्षेत्र में कैंप लगाने का सुझाव दिया है, ताकि इन कचरों को जल्द से जल्द अलग कर इनका उचित प्रबंध किया जा सके। हालांकि यह कंपनी खुद इन पदार्थो का रिसाइकिल नहीं करती है, बल्कि मोवारे डिजाइन नामक एक दूसरी फर्म इस काम में उनकी मदद करती है, ताकि रिसाइकिल कांच के उत्पाद बनाकर उन्हें ऑनलाइन बेचा जा सके।

इनपुट- आईएएनएस

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned