scriptSolar Storm Coming Towards The Earth At A Speed Of 21.85 lakh Km Per Hour | Solar Storm: धरती की ओर 21.85 लाख किमी प्रति घंटे की गति से आ रहा सौर तूफान, जानिए कब होगी टक्कर | Patrika News

Solar Storm: धरती की ओर 21.85 लाख किमी प्रति घंटे की गति से आ रहा सौर तूफान, जानिए कब होगी टक्कर

धरती की ओर से बड़ा सौर तूफान तेजी से बढ़ रहा है। इसको लेकर वैज्ञानिकों ने भी चिंता जाहिर की है। दरअसल ये तूफान 21.74 लाख किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार धरती की ओर बढ़ रहा है। वैज्ञानिकों के मुताबिक यह एक मध्यम दर्जे का सौर तूफान है. लेकिन यह धरती के चुंबकीय क्षेत्र को करीब 496 से 607 किलोमीटर प्रतिसेकेंड की गति से टकराएगा।

नई दिल्ली

Published: March 30, 2022 05:28:13 pm

धरती की ओर एक बड़ा खतरा तेजी से बढ़ रहा है। एक सौर तूफान ( Solar Storm ) धरती से टकराने वाला है। दरअसल कोलकाता स्थित द सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन स्पेस साइंसेज के वैज्ञानिकों ने 28 मार्च 2022 को सूरज में भयानक विस्फोट देखे। इस सौर लहर की गति 21.85 लाख किलोमीटर प्रति घंटा है। यानी धरती से काफी ज्यादा ऊर्जा के तीव्र प्लाज्मा किरणों का टकराव होने वाला है। वैज्ञानिकों की मानें तो यह एक मध्यम दर्जे का सौर तूफान है. लेकिन यह धरती के चुंबकीय क्षेत्र को करीब 496 से 607 किलोमीटर प्रतिसेकेंड की गति से टकराएगा।
Solar Storm Coming Towards The Earth At A Speed Of 21.85 lakh Km Per Hour
Solar Storm Coming Towards The Earth At A Speed Of 21.85 lakh Km Per Hour

द सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन स्पेस साइंसेज ( CESSI) कोलकाता के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एजुकेशन एंड रिसर्च की सह-संस्था है। CESSI के वैज्ञानिकों ने 28 को ही दो खतरनाक स्पॉट देखे हैं। इन स्पॉट को वैज्ञानिकों ने नाम भी दिया है। इसके मुताबिक पहला स्पॉट AR 12975 और दूसरा स्पॉट AR12976 है।

यह भी पढ़ें

चंद्रयान-3 जल्द होगा लॉन्च, ISRO के पूर्व चेयरमैन बोले- 'इस बार जरूर सफल होंगे'



इस दिन धरती से टकराएगा

इस विस्फोट से निकलने वाली सौर लहर 31 मार्च 2022 को धरती से टकराएगी। माना जा रहा है कि इस सौर लहर की गति 21.85 लाख किलोमीटर प्रति घंटा है। वैज्ञानिकों के मुताबिक ये दोनों स्पॉट एक्टिव हैं और M/X क्लास के सौर लहर पैदा कर रहे हैं।

तीसरी लहर AR 12978 ज्यादा तेज है। Cessi के फिजिसिस्ट प्रो. दिव्येंदु नंदी के मुताबिक इस सौर तूफान से इंसानों को घबराने की जरूरत नहीं है।


2019 से सक्रिय हुआ ये तूफान

वैज्ञानिकों के मुताबिक वर्ष 2019 से ही ये सोलर साइकिल सक्रिय हो चुका है। अभी 11 सालों तक यह ऐसे ही सक्रिय रहेगा. इसकी तीव्रता 2025 में ज्यादा रहने की उम्मीद है।

रेडियो ब्लैकआउट होने की आशंका

बता दें कि इसी साल जनवरी के महीने में ऐसी ही घटना घटी थी। तब सौर तूफान ने दक्षिणी भारत समेत दक्षिणी गोलार्ध के कई इलाकों पर असर डाला था। इससे रेडियो ब्लैकआउट (Radio Blackout) होने की आशंका जताई जा रही है।

बताया जा रहा है कि, यह सौर तूफान सूरज के सक्रिय इलाके AR12929 से निकला था। यह इलाका सूरज और धरती की लाइन के ठीक सामने 71 डिग्री के कोण पर स्थित था। सौर तूफान को कोरोनल मास इजेक्शन (CME) कहते हैं।

यह भी पढ़ें

महिला के बालों में 84 दिन तक घोंसला बनाकर रही चिड़िया, जानिए क्या हुई हालत

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीउदयपुर कन्हैयालाल हत्याकांडः कानपुर से आतंकी कनेक्शन, एनआईए की टीम जल्द जा कर करेगी छानबीनAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.