वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी- ग्लेशियरों पर खतरा, भविष्य में भी नहीं बचा पायेंगे बचे हुए ग्लेशियर

वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी- ग्लेशियरों पर खतरा, भविष्य में भी नहीं बचा पायेंगे बचे हुए ग्लेशियर

Navyavesh Navrahi | Updated: 02 May 2019, 04:40:59 PM (IST) विज्ञान और तकनीक

  • तापमान के बढ़ने से पड़ रहा पर्यावरण पर भारी असर
  • वैज्ञानिकों ने जताई चिंता
  • 2100 वीं सदी तक आधे ग्लेशियर ही रह जाएंगे

नई दिल्ली। लगातार बढ़ते तापमान ( temprature ) के कारण वैज्ञानिक चिंतित हैं। एक शोध के बाद वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि अगर तापमान का बढ़ना इसी तरह जारी रहा, तो सन 2100 तक पूरी दुनिया के आधे हेरिटेज ग्लेशियर ( glacier ) पिघल जाएंगे।

देश की पहली महिला जो चुनी गईं रॉयल सोसाइटी ऑफ लंदन की फेलो

इस कारण पीने के पानी का भारी संकट झेलना पड़ सकता है। साथ ही समुद्र ( sea ) के पानी का स्तर बढ़ने के साथ मौसम ( monsoon ) चक्र में परिवर्तन हो सकता है।

 

तेजी से हो रहा है उत्सर्जन

बताया जा रहा है कि यह अध्ययन 'इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर' यानी आईयूसीएन ने किया है। हेरिटेज ग्लेशियर्स पर किए गए अध्ययन को दुनिया का पहला शोध माना जा रहा है।

परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए वैज्ञानिकों ने खोजा नया तरीका, बस माता-पिता को रखना होगा इस बात का ध्यान

वैज्ञानिकों की मानें तो स्विट्जरलैंड के मशहूर ग्रोसर एल्चेस्टर और ग्रीनलैंड के जैकबशावन आईब्रेस भी खतरे के दायरे में आते हैं। अध्ययन करने में ग्लोबल ग्लेशियर इन्वेंट्री डेटा के अलावा कंप्यूटर ( Computer ) मॉडल की भी मदद ली गई। इसकी मदद वर्तमान में होने वाली स्थितियों का आकलन किया गया।

 

earth

कोशिश करने पर भी नहीं बच पायेगें आठ ग्लेशियर

वैज्ञानिकों की माने तो तापमान में इसी तरह वृद्धि और कार्बन का उत्सर्जन होता रहा तो आने वाले समय तक 46 ग्लेशियरों में से केवल 21 हेरिटेज ही रह जाएंगे। अगर इन्हें बचाने के लिए कोशिश भी करें तो भी इन आठ ग्लेशियरों को को नहीं बचाया जा सकता। जब इस बारे में शोधकर्ता वैज्ञानिक पीटर शैडी ने बताया कि 'इन ग्लेशियरों को खोना किसी त्रासदी से कम नहीं होगा। इसका सीधा असर पेयजल के संसाधनों पर पड़ेगा। साथ ही जल स्तर में बढ़ने के अलावा मौसम में भी बदलाव होंगे, जिसका सीधा असर इंसानों पर पड़ेगा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned