समीक्षा बैठक में सीएम ने ली चुटकी, बोले- 'मैं कमजोर विधायक पर क्या करूं..'

बैठक में सीएम शिवराज ने दिए संकेत..एक जून से पूरा बाजार नहीं खुलेगा..क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी लेगी कोरोना कर्फ्यू में ढील का निर्णय...

 

By: Shailendra Sharma

Published: 28 May 2021, 09:52 PM IST

सीहोर. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को सीहोर जिला पंचायत सभाकक्ष में क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक ली। बैठक में मुख्यमंत्री ने संकेत दिए हैं कि एक जून से पूरा बाजार नहीं खुलेगा। कोरोना कर्फ्यू में कितनी ढील दी जाएगी, इसका निर्णय सीएम ने क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी पर छोड़ा है। हां, इतना जरूरी है कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि एक जून से चरणबद्ध ढंग से कोरोना कर्फ्यू हटाया जाएगा, जितना हो ज्यादा से ज्यादा शादी समारोह और सार्वजनिक कार्यक्रम से बचें। मुख्यमंत्री के समक्ष कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर ने प्रेजेंटेशन में कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए की जा रही कवायद को बताया, जिसे लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रफ्तार जनप्रतिनिधि और प्रशासन के संयुक्त प्रयासों से कम हुई है।

ये भी पढ़ें- NIFT के डायरेक्टर पर सेक्सुअल हैरेसमेंट का आरोप, वार्डन ने कहा- वो मुझे रात को..

photo_2021-05-28_14-22-23.jpg

थोड़ी सी लापरवाही पड़ सकती है भारी- सीएम
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट निरंतर घटता जा रहा है। लगातार कम हो रहे कोरोना संक्रमण में थोड़ी सी लापरवाही पूरे प्रयासों को प्रभावित कर सकती है, सावधानी और सतर्कता जरूरी है। एक जून से चरणबद्ध ढंग से अनलॉक किया जाएगा, इसके लिए जिला, जनपद और ग्राम, वार्ड स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्य तय रूप रेखा बनाएं। उन्होंने कहा कि पूरे जिले में कोरोना कर्फ्यू का कड़ाई से पालन किया जाए। शादी समारोह आदि को टालें।

 

ये भी पढ़ें- शादी का झांसा देकर आरक्षक ने युवती से बनाए शारीरिक संबंध और दूसरी लड़की से कर ली शादी

 

टेस्टिंग पर दिया जोर, एक-एक जान बचाना
मुख्यमंत्री ने सीहोर जिले में टेस्टिंग कम होने को लेकर असंतोष व्यक्त किया। जिले में संविदा स्वास्थ्यकर्मियों की हड़ताल के दिन से अभी तक टेस्टिंग में काफी कमी आई है। पहले भी प्रतिदिन 700 से 800 सैंपल ही लिए जा रहे थे। बीच में तीन-चार दिन जरूर अच्छी टेस्टिंग हुई, जिसे लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साफ कहा है कि जिले में प्रतिदिन 1700 से ज्यादा सैंपल लिए जाने चाहिए। एक-एक मरीज की जान बचाने के पूरे प्रयास किए जाएं। सीएम ने कहा कि वेंटिलेटर, ऑक्सीजन बेड पर भर्ती प्रत्येक मरीज की सघन मॉनीटरिंग होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आता है, उसे कांटेक्ट ट्रेसिंग के जरिए सभी का कोरोना टेस्ट किया जाए। इससे संक्रमण को रोका जा सकता है। अधिक संक्रमण वाले ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में माइक्रों कंटेनमेंट जोन बनाए जाए। प्रशासन पूरी ताकत से सर्दी, खांसी एवं बुखार के मरीजों की पहचान कर तत्काल मेडिकल किट उपलब्ध कराकर इलाज कराए। संक्रमित व्यक्तियों के लिए होम आइसोलेशन की व्यवस्था परफेक्ट होनी चाहिए। घर में पर्याप्त स्थान नहीं होने की दशा में कोविड केयर सेंटर में भर्ती किया जाए।

 

ये भी पढ़ें- वीआईपी इलाके में अस्पताल के ऊपर चल रहा था सेक्स रैकेट, 6 युवतियां गिरफ्तार

 

सीएम ने ली चुटकी, बोले...मैं सीहोर जिले का सबसे कमजोर विधायक
सीहोर में कोरोना संक्रमण से बचाव और सुरक्षा के लिए समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का मजाकिया अंदाज भी देखने को मिला। बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि सीहोर जिले में चार विधायक हैं। इसमें से तीन विधायक काफी सक्रिय हैं। कोरोनाकाल में उन्होंने खूब मेहनत की है, लेकिन एक विधायक काफी कमजोर है और वह विधायक मैं हूं। आगे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि क्या करूं, पूरे प्रदेश की जिम्मेदारी है, सभी जगह जाना पड़ता है, इसलिए इस समय कम समय दे पाया हूं। सीएम की यह बात सुन सबके चेहरे पर मुस्कान छा गई।

देखें वीडियो- पत्नी ने पति को प्रेमिका के साथ रंगरेलियां मनाते रंगेहाथों पकड़ा

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned