वैक्सीनेशन को लेकर बवाल, दो घंटे तक धरना देकर प्रदर्शन

राजस्थान के सीकर जिले के लोसल कस्बे में कोरोना टीकाकरण को लेकर शनिवार को फिर बवाल हो गया।

By: Sachin

Published: 03 Jul 2021, 11:19 AM IST

सीकर/लोसल. राजस्थान के सीकर जिले के लोसल कस्बे में कोरोना टीकाकरण को लेकर शनिवार को फिर बवाल हो गया। राजकीय डेडराज खेतान स्कूल में लोगों ने इस बार भी टोकन वितरण में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। स्कूल दरवाजे पर धरना देकर स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ नारे भी लगाए। सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मोर्चा संभाला। करीब दो घंटे प्रदर्शन के बाद सीएचसी प्रभारी व पटवारी के आश्वासन से मामला शांत हुआ। गौरतलब है कि पिछले महीने भी टीकाकरण में पक्षपात का आरोप लगाते हुए लोगों ने सीएचसी में विरोध प्रदर्शन किया था।

चहेतों को रात को टोकन बांटने का आरोप
राजकीय डेडराज स्कूल में विवाद टीकाकरण के लिए जारी किए जाने वाले टोकन को लेकर हुआ। दरअसल यहां टीकाकरण की सूचना पर अल सुबह से ही लोग टीका लगवाने के लिए कतार में खड़े हो गए। जो टीकाकरण के समय तक काफी लंबी हो चुकी थी। लोगों का आरोप है कि इसी बीच देरी से आए लोगों केा सीधे अंदर प्रवेश देकर उनका टीकाकरण शुरू कर दिया गया। जिसे लेकर कतार में मौजूद लोगों में आक्रोश छा गया। पहले तो उन्होंने कतार में खड़े ही विरोध करना शुरू कर दिया। लेकिन, जब सुनवाई नहीं हुई तो स्कूल के दरवाजे पर धरना देकर उन्होंने सीएचसी प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसी बीच पुलिस ने आकर भी प्रदर्शनकारियों को समझाने की कोशिश की। लेकिन, विवाद शांत नहीं हुआ। प्रदर्शनकारियों का ये भी आरोप था कि कस्बे में कोरेाना के टीके पहुंचते ही स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी रातोंरात ही चहेतों को टोकन बांट देते हैं। जिन्हें ही अगले दिन टीका लगाया जाता है।

समझाइश पर शांत हुआ मामला
प्रदर्शनकारी आक्रोश में स्कूल दरवाजे पर धरना देकर बैठ गए। उन्होनें सीएचसी व स्थानीय प्रशासन के खिलाफ नारे भी लगाए। प्रदर्शन की सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर प्रदर्शनकारियों को समझाने की कोशिश की। लेकिन, वे नहीं माने। बाद में सीएचसी प्रभारी अशेाक वर्मा व पटवारी सुखदेव ने अगले टीकाकरण सत्र में व्यवस्थाओं में सुधार का आश्वासन देकर मामला शांत करवाया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned