रंगदारी मांगने के लिए कॉल करता था नेहरा

रंगदारी मांगने के लिए कॉल करता था नेहरा

vikas meel | Updated: 28 Jun 2018, 06:02:52 PM (IST) Sri Ganganagar, Rajasthan, India

- नेटवर्क बढ़ाने के लिए अपने गुर्गो से व्यापारियों को धमकाता भी यह गैंगस्टर

 

श्रीगंगानगर

पुरानी आबादी के हिस्ट्रीशीटर जॉर्डन उर्फ विनोद चौधरी हत्याकांड का आरोपी और गैंगस्टर संपत नेहरा ने हरियाणा पुलिस की पूछताछ में स्वीकार किया है कि वह व्यापारियों से रंगदारी करने के लिए कॉल खुद भी करता था और अपने गुर्गे से करवाता भी था। अपने नेटवर्क को बढ़ाने के लिए लोकल के उन युवकों को अपने ग्रुप का सदस्य बनता था जो अपराधिक गतिविधियों के माध्यम से रातोंरात लखपति बनने का सपना लेते है। यमुनानगर पुलिस ने आरोपी संपत नेहरा को कोर्ट से पुलिस रिमांड लेकर पूछताछ की है।

 

यमुनानगर की दो वारदातों में आरोपी गैंगस्टर संपत नेहरा को पुलिस कोर्ट लेकर पहुंची। कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस ने संपत को कोर्ट में पेश किया। पुलिस ने दो दिन के और रिमांड की डिमांड की लेकिन कोर्ट ने एक दिन का रिमांड और दिया है। बता दें कि संपत को पुलिस ने पूर्व विधायक दिलबाग सिंह के भाई राजेंद्र उर्फ राजा और पार्टनर संजीव पर जानलेवा हमला करने और होटल व्यापारी विकास क्वात्रा के घर पर फायरिंग कर रंगदारी मांगने के मामले में रिमांड पर लिया है। रिमांड के दौरान एक तो उससे राजेंद्र उर्फ राजा व संजीव पर फायरिंग करने की घटना में इस्तेमाल की गई कार बरामद करनी है।

 

हमले का बदला लेने के लिए चलाई थी गोलियां

पुलिस पूछताछ में संपत ने बताया कि काला राणा के साथ उसकी दोस्ती है। काला राणा के छोटे भाई और पूर्व विधायक के परिवार के बच्चों के बीच झगड़ा चल रहा था। काला राणा के भाई पर हमला हुआ था। यह हमला कराने का आरोप पूर्व विधायक के भाई पर लगा था। काला राणा जेल में होने के चलते वह कुछ नहीं कर पाया। राणा के भाई पर हमले का बदला लेने के लिए ही उन्होंने पूर्व विधायक के भाई और पार्टनर पर 25 मई 2017 की शाम को सेक्टर-17 स्थित उनके कार्यालय में घुसकर फायरिंग की थी। उनके निशाने चूक गए थे, इसलिए वे बच गए थे। पुलिस इस मामले में जेल मे बंद काला राणा, उसके भाई सूर्यप्रताप, रविंद्र उर्फ काली राजपूत, शुभम वीर, वैकेट गर्ग को अब तक गिरफ्तार कर चुकी थी। इस मामले में काला राणा का पिता जोगिंद्र भी पुलिस ने आरोपी बनाया था। वह विदेश में है।


पूरी गैंग के साथ आए थे, चाहते थे मोटा पैसा

संपत ने दूसरी वारदात 10 अगस्त 2017 को दी थी। उसने अपने साथियों के साथ मिलकर होटल ऑर्चिड के मालिक विकास क्वात्रा के घर पर फायरिंग की थी। क्वात्रा भी पूर्व विधायक का करीबी है। पुलिस ने जब जांच की तो सामने आया था कि काला राणा के इशारे पर ही यह हुआ है। इसके पीछे रंगदारी थी। काला राणा को पुलिस ने जेल से पूछताछ के लिए प्रोडक्शन रिमांड पर लिया तो उसने खुलासा किया था कि वे क्वात्रा से मोटे पैसे ऐंठना चाहते थे। इसके लिए उस पर विदेश नंबरों से कॉल भी की गई। यहां पर गोली चलाने के मामले में संपत के साथ-साथ काला राणा, कलावड़ के पूर्व सरपंच रविंद्र, गुरदीप, तन्नू सिंगारी, मिथुन उर्फ मीठू, अरविंद, दीपक उर्फ टीनू, दीपक कटारिया उर्फ दीपू और अंकित भादू थे। पुलिस ने दीपक उर्फ टीनू, दीपक कटारिया उर्फ दीपू, रविंद्र राणा, गुरदीप, तन्नू सिंगारी, मिथुन उर्फ मीठू और अरविंद को अब तक गिरफ्तार किया है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned