वाराणसी. आगमन संस्था ने एक बार फिर बेटी बचाओ अभियान को अनोखे ढंग से चलाया है। मकर संक्रांति पर आसमान में उड़ती पतंग सभी का ध्यान अपनी तरफ खींचती है। अब आसमान में ऐसी एक पतंग भी दिखायी देगी जो बेटी आपका ध्यान तो खींचेगी ही। साथ ही आपको सोचने पर भी विवश कर देगी। पुत्र के लालच में मां की कोख में ही बेटियों की हत्या कर दी जा रही है समाज में सो चुके लोगों को जगाने के लिए ही ऐसा आयोजन किया जा रहा है। शनिवार को संस्था के लोगों ने अस्सी घाट पर पतंग उड़ाओ बेटी बचाओ अभियान का शुभारंभ भी किया।
यह भी पढ़े:-सीएम योगी फिर कर सकते हैं रात में शहर का निरीक्षण, जिला प्रशासन में मचा हड़कंप


सामाजिक संस्था आगमन के लोगों ने पतंग उड़ाओ बेटी बचाओ को स्लोगन लिखी 2500 पतंग बनायी है, जिन्हें लोगों के बीच वितरित किया जा रहा है। संस्था के संस्थापक सचिव डा.संतोष ओझा ने बताया कि हम लोगों को बेटी बचाने के प्रति जागरूक करने के लिए हर अवसर का लाभ उठाना चाहते हैं। मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने की परम्परा है और जब लोगों के हाथ में बेटी बचाने का स्लोगन लिखी पतंग होगी तो वह जरूर सोचेंगे कि इस महापाप को कैसे रोका जायेगा। डा.ओझा ने बताया कि कन्या भ्रूण हत्या रोकने के लिए तमाम कानून बन गये हैं इसके बाद भी बेटियों को बचाना कठिन होता जा रहा है। समाज में बेटी व बेटे का बराबर हक है और यह बात तभी सार्थक होगी, जब लोग इसे खुद महसूस करेंगे। उन्होंने कहा कि १४ जनवरी को भी हमारा अभियान जारी रहेगा। इस अवसर पर रचना श्रीवास्तव, रश्मि अग्रवाल, श्वेता कटियार, वंदना चतुर्वेदी, अभिषेक जायसवाल आदि लोग उपस्थित थे।
यह भी पढ़े:-EXCLUSIVE-रेव पार्टी की बैसाखी के सहारे धड़ल्ले से चल रहा बीसी का धंधा, पुलिस अंजान

पतंग के सहारे भी बेटी बचाने की जंग
आगमन संस्था ने बेटी बचाने की जंग को लोगों के धर्म से भी जोड़ा है, जिससे बेटी के पैदा होने का हक सुनिश्चित किया जा सके। मां के गर्भ में मारी दी गयी बेटियों की मुक्ति के लिए पिंडदान हो या फिर मैजिक शो के जरिए लोगों को जागरूक करना। वर्ष 2001 से संस्था इस दिशा में कार्य कर रही है। संस्था के अभियान का व्यापक स्तर पर असर हो रहा है और अधिक से अधिक लोग अभियान के साथ जुड़ते हुए अन्य लोगों को सजग करने में जुट गये हैं।
यह भी पढ़े:-हवाला को भी पीछे छोड़ रहा अवैध वीसी का धंधा

Ad Block is Banned