खुफिया विभाग भी बेखबर, बीसी खेलने वालों की नहीं है खबर

Devesh Singh

Publish: Jan, 13 2018 07:46:55 PM (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India
खुफिया विभाग भी बेखबर, बीसी खेलने वालों की नहीं है खबर

पुलिस भी नहीं देती है ध्यान, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. खुफिया भी कानून का उल्लंघन करने वालों की जानकारी रखता है, लेकिन जब बीसी आयोजकों व अवैध धंधे मे लिप्त लोगों की बात आती है तो खुफिया विभाग भी बेखबर साबित होता है। स्थानीय पुलिस भी ऐसे लोगों पर ध्यान नहीं देती है, जिसके चलते बेखौफ होकर लोग नियमों की धज्जिया उड़ाते रहते हैं।
यह भी पढ़े:-सीएम योगी फिर कर सकते हैं रात में शहर का निरीक्षण, जिला प्रशासन में मचा हड़कंप

केन्द्र में बीजेपी सरकार आने के बाद से कालाधन बाहर निकलाने की मुहिम चली हुई है। विभिन्न विभागों के बीच सूचना का आदान-प्रदान होता है और उसी आधार पर आगे की कार्रवाई होती है। अवैध ढंग से बीसी खेलने वालों पर कार्रवाई तो दूर की बात है, ऐसे लोगों का सही आंकड़ा भी किसी विभाग के पास नहीं है। बीसी के नाम पर करोड़ों रुपयों का खेल हो जाता है, लेकिन इस गिरोह को लेकर किसी प्रकार की सक्रियता नहीं दिखायी जाती है, जिसक चलते बड़े पैमाने पर टैक्स की चोरी होती है साथ ही समय-समय पर व्यापरियों का पैसा भी डुबता जाता है। खुफिया विभाग से जब जानकारी पूछी गयी कि बीसी को लेकर उनके पास क्या सूचना रहती है तो विभाग के लोगों ने ऐसी सूचना होने से इंकार कर दिया।
यह भी पढ़े:-पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में फूंका गया वित्त मंत्री अरुण जेटली पुतला

सूद की तरह घरों तक पहुंच गया बीसी का धंधा
सूद का धंधा भी पहले आराम से चलता था उसके बाद जब पैसा नहीं देने पर लोगों को आत्महत्या करना पड़ा था तब जाकर सरकारी मिशनरी की आंख खुली थी और कुछ दिन कार्रवाई करने के बाद फिर से प्रशासन कुंभकर्णी नींद सो गया था। इसी तर्ज पर अब बीसी का धंधा चलने लगा है। रेव पार्टी से लेकर मादक पदार्थ भी बीसी से जुड़ते जा रहे हैं और पुलिस से लेकर आयकर विभाग बीसी को लेकर गंभीरता नहीं दिखा रहा है और इस धंधे से जुड़े लोगों में किसी तरह का खौफ नहीं है वह आराम से बीसी खेल कर कानून तोडऩे में जुटे हुए हैं।
यह भी पढ़े:-आसमान में उड़ रही पतंग के सहारे भी लड़ रहे बेटी बचाने की जंग

 

Ad Block is Banned