मातम के बीच महफिल! यहां शमशान घाट पर जलती चिताओं पास पूरी रात नाचती है सेक्स वर्कर

आज आपको एक ऐसे शमशान घाअ के बारे में बताने जा रहे है जहां एक तरफ लाश को जलाते है तो दूसरी तरफ सेक्स वर्कर जमकर डांस करती है। आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि इस रिवाज के पीछ एक बड़ी अनोखी कहानी है।

By: Shaitan Prajapat

Published: 05 Oct 2020, 09:56 PM IST

आपने शमशान घाट को लेकर कई प्रकार की खबरें पढ़ी होगी। आज आपको एक ऐसे शमशान घाअ के बारे में बताने जा रहे है जहां एक तरफ लाश को जलाते है तो दूसरी तरफ सेक्स वर्कर जमकर डांस करती है। आपको यह जानकर ताज्जुब होगा कि इस रिवाज के पीछ एक बड़ी अनोखी कहानी है। हम बात कर रहे है काशी के मणिकर्णिका शमशान घाट की, जहां चिंता पर लेटने वाले को मोक्ष मिलता है। ऐसा का जाता है कि यह दुनिया का इकलौता शमशान है जहां चिता की आग कभी ठंडी नहीं होती। यहा पर एक के बार एक लाश को जलाया जाता है। मातम के बीच तेज संगीत पर लड़कियां थिरकती रहती है।

यह भी पढ़े :— NASA ने कैमरे में कैद किया टूटता तारा, देखे आश्चर्यजनक टाइम लेप्स वीडियो

Kashi Manikarni

चैत्र नवरात्रि अष्‍टमी को आती है ये रात
ऐसा कहा जाता है कि इस शमशान के लिए एक रात बेहद खास होती है। साल में एक बार यहां जश्न की रात होती है। इस रात में यहां एक साथ चिताएं जलाई जाती है। घुंघरुओं और तेज संगीत के बीच वैश्‍याओं के कदम थिरकते हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह सैंकड़ों सालों से परपंरा चली आ रही है। जिसमें वैश्‍याएं पूरी रात यहां जलती चिताओ के पास नाचती है। साल में एक बार एक साथ चिता और महफिल दोनों का ही गवाह बनता है। चैत्र नवरात्रि अष्टमी को इस घाट ऐसा होता है।

यह भी पढ़े :— बच्चे ने नंगे पैर खेला जबरदस्त शॉट: लोगों ने कहा- छोटा सचिन तेंदुलकर, देखें शानदार वीडियो

Kashi Manikarni

रातभर करती है डांस
माना जााता है कि यहां चिताओं के करीब नाचने वाली लड़कियां शहर की बननाम गलियों की नगर वधु (तवायफ) होती है। मणिकर्णिका घाट पर मौत के बाद मोक्ष की तलाश में मुर्दों को लाया जाता है वहीं पर ये तमाम नगरवधुएं जीते जी मोक्ष हासिल करने आती हैं। वो मोक्ष जो इन्हें अगले जन्म में नगरवधू ना बनने का यकीन दिलाता है। एक रात ये खूब नाचती है ताकि अगले जन्म में इन्हें नगरवधू का कलंक नहीं झेलना पड़ेगा।

यह भी पढ़े :— नशे में टल्ली लड़की 'वॉशिंग मशीन' में फंसी, फायर फाइटर्स को करनी पड़ी काफी जद्दोजहद

Kashi Manikarni

सैकड़ों साल पुरानी परम्परा
इसके पिछले सैकड़ों सालों से चली आ रही परपंरा है। कहा जाता है कि सैकड़ों साल पहले राजा मान सिंह बनाए गए बाबा मशान नाथ के दरबार में कार्यकम पेश करने के लिए उस समय के मशहूर नर्तकियों और कलाकारों को बुलाया गया था। चूंकि ये मंदिर श्मशान घाट के बीचों बीच मौजूद होने के कारण तमाम कलाकारों ने मना कर दिया था। राजा ने डांस के इस कार्यक्रम का ऐलान पूरे शहर में दिया था। इसलिए वह अपनी बात से मुकर नहीं सकता। राजा ने शहर की बदनाम गलियों में रहने वाली नगर वधुओं को इस मंदिर में डांस करने के लिए बुलाया। यह परंपरा उस समय से चली आ रही है।

यह भी पढ़े :— इस होटल में सिर्फ शादी—शुदा जोड़ी की एंट्री, निकलते ही हो जाता है तलाक

यह भी पढ़े :— सावधान! भूलकर भी ना बैठे इस कुर्सी पर, अब तक हो चुकी है 63 लोगों की मौत

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned