Video : चौथी कक्षा से थामा योग का साथ और जयेश बन गया ‘रबरमैन’, हैरतअंगेज योग क्रियाएं देखकर आप भी बन जाएंगे इसके फेन

Varun Kumar Bhatt

Updated: 14 Jun 2019, 01:08:08 PM (IST)

Banswara, Banswara, Rajasthan, India

बांसवाड़ा/ गनोड़ा. जिस उम्र में बच्चे गेंद-बल्ले से खेलना शुरू करते हैं, उस उम्र में योग का दामन थाम स्वस्थ रहने की क्रियाएं सीख औरों को हैरत में डाल दिया। दिन, महीने और साल बीते और योग क्रियाओं में पारंगत हो जयेश ने अब योग की कई क्रियाओं में महारथ हासिल कर ली है। नन्हीं सी उम्र में योग की अहमियत को समझ जयेश अब सुनहरा भविष्य भी योग में ही तलाश रहा है।

रबर मैन का मिला तमगा
यह जयेश की मेहनत और लगन का परिणाम है कि उसे रबर मैन का तमगा मिला है, आज गांव, विद्यालय, नाते रिश्तेदार में लोग इस रबर मैन को उसकी योग क्रियाओं के बूते बखूबी जानते हैं और खुद के बच्चों को उसकी तरह ही योग क्रिया करने की सीख देते हैं। जटिल से जटिल योग क्र्रिया करने में पारंगत होने और लचीले बदन के कारण ही लोग उसे रबर मैन की संज्ञा देते हैं।

ऐसा क्या हुआ कि इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हो गया बांसवाड़ा का नाम, 3 लाख 30 हजार से ज्यादा लोगों ने बनाया यह कीर्तिमान और...

ऐसे बना योग मैन
जयेश से रबर मैन बनने तक का सफर भी बड़ा दिलचस्प है, बकौल जयेश वो जब आवासीय विद्यालय में पढ़ता था तो, वहां अध्यायक उसे और अन्य बच्चों को सूर्योदय से पूर्व ही उठाते थे। लाजमी है कि महज 9 वर्ष की उम्र में अन्य बच्चों की तरह जयेश को भी उठना रास नहीं आता था। लेकिन शिक्षक के दबाव के कारण उठना भी मजबूरी थी। लेकिन मजबूरी कब आदत और बाद में शौक बन गई यह जयेश भी नहीं समझ पाया। उसने बताया कि अब वो योग की राह पर ही चलना चाहता है।

परिजन हो जाते थे भयभीत
जयेश ने बताया कि आवासीय विद्यालय में अध्ययन के दौरान अवकाश के दिनों में वो जब घर जाता और सुबह योग करता तो परिजन देख हतप्रभ होते और चोट लगने का हवाला देकर ऐसा न करने की सलाह देते, लेकिन जयेश रोजाना टीवी पर बाबा रामदेव के योग क्रियाओं को देख नित नया करने का प्रयास करता।

बांसवाड़ा के युवा निर्देशक सौरभ भट्ट बोले, फिल्मों में सफलता की अनंत संभावनाएं, जरूरत क्षमता विकसित करने की

देश में मिलना चाहिए बढ़ावा
16 वर्षीय जयेश लबाना का मानना है कि भले ही योग का बीजारोपण अपने देश हुआ हो लेकिन इस आधुनिक युग में इसे उस स्तर का आयाम प्राप्त नहीं हुआ है। पिछले कुछ वर्षों से बाबा राम देव के प्रयासों के बाद आमजन में योग के प्रति अलख जरूर जगी है। लेकिन अभी भी योग को बढ़ावा देने की दिशा में ठोस कदम उठाना आवश्यक है। जयेश का मानना है कि सरकार को प्रत्येक स्कूल में योग को अनिवार्य कर देना चाहिए। ताकि देश का हर बच्चा योग में पारांगत हो सके।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned