अंधेरे में रखकर कराया हस्ताक्षर और पीसीसी चीफ पर लगाया आरोप, जिला कांग्रेस में सियासी उबाल

अंधेरे में रखकर कराया हस्ताक्षर और पीसीसी चीफ पर लगाया आरोप, जिला कांग्रेस में सियासी उबाल

Satyanarayan Shukla | Publish: Jul, 13 2018 04:21:17 PM (IST) | Updated: Jul, 13 2018 04:21:18 PM (IST) Bhilai, Chhattisgarh, India

जिला कांग्रेस कमेटी दुर्ग ग्रामीण की कार्यकारिणी गठन में भारतीय जनता पार्टी से साठगांठ के आरोप के बाद पार्टी के भीतर ही सियासी उबला आ गया है।

भिलाई. जिला कांग्रेस कमेटी दुर्ग ग्रामीण की कार्यकारिणी गठन में भारतीय जनता पार्टी से साठगांठ के आरोप के बाद पार्टी के भीतर ही सियासी उबला आ गया है। समाचार पत्र एवं सोशल मीडिया में इस संबंध में खबर वायरल होने के बाद धोखे से हस्ताक्षर कराने का खुलासा हुआ है। जिनके नाम से प्रेस में विज्ञिप्त जारी की गई है उसने ही सोशल मीडिया में इसका खंडन किया है। उन्होंने बतौर सबूत हैंडराइटिंग वाली विज्ञप्ति पोस्ट की है।

पीसीसी चीफ पर लगाया था आरोप
जारी विज्ञप्ति में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल पर उनकी कथनी और करनी में अंतर होने सहित आगामी चुनाव में बीजेपी को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाया गया था। यह भी कहा गया था कि नई कार्यकारिणी में पुराने और वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को उनके सम्मान के अनुरूप पद नहीं दिया है।

वीकेए नायडू ने दी सफाई
कांग्रेस के वरिष्ठ कार्यकर्ता वीकेए वायडू ने कहा कि जो विज्ञप्ति मेरे नाम से प्रेस को जारी की गई वह मैंने नहीं दिया है। ज्ञानचन्द जैन ने साजिश के तहत कोरे कागज पर मेरे हस्ताक्षर ले लिया और विज्ञप्ति बनाकर मुझे वाट्सएप किया जिस पर मैंने कड़ी आपत्ति की थी। इसपर जैन ने कहा कि विज्ञप्ति जारी हो गई है मैं वापस मंगवा लेता हूं। उन्होंने विज्ञप्ति वापस नहीं मंगवाया और खबर छप गई। इसके बाद मैंने शिकायत की तो उसने कहा कि मैं खंडन छपवा दूंगा। खंडन नहीं छपने और मेरे नाम से पीसीसी चीफ पर आरोप के बाद मैंने सोशल मीडिया में अपनी बातें रखी और कोरे काजग के बाद लिखे हुए पत्र पोस्ट किया हूं। साक्ष्य के रूप में उन्होंने मुझे मैटर बनाकर भेजा था। उस समय मैं उनको बहुत स्पष्ट शब्दों में समझाया था कि इस तरह के मैटर मेरे नाम से न दें। साक्ष्य के रुप में उन्होंने उनके हैंडराइटिंग का पत्र पार्टी कार्यकर्ता और कांग्रेस सोशल मीडिया के विभिन्न ग्रुप में पोस्ट किया है।

शिकवा-शिकायत पार्टी फोरम में रखें
सोशल मीडिया में खबर वायरल होने के बाद जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मनीष जग्यासी ने पार्टी
के सभी सम्मानित सदस्यों से आग्रह किया है कि नव नियुक्त एवं पुराने पदाधिकारियों को किसी प्रकार की कोई शिकवा शिकायत हो तो जिला अध्यक्ष से संपर्क करें और अपनी बात पार्टी फोरम में रखे। पार्टी की ओर से अंदरूनी शिकायतों का हल निकालने का प्रयास अध्यक्ष करेंगी। उन्होंने यह भी कहा है कि जब भी नई कार्यकारणी बनती है तो थोड़ा बहुत विरोध होता है। हर किसी कार्यकर्ता को मनमुताबिक पद मिले यह संभव नहीं होता है। कुछ लोग नाराज होकर जल्दबाजी में कुछ भी बयान जारी कर देते हैं। इससे पार्टी की छवि के साथ खुद की भी छवि खराब होती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी एक परिवार की तरह है कार्यकर्ता अपनी बातें परिवार में रखें न कि सार्वजनिक मंच या समाचार दफ्तर में जाए। नई कार्यकारिणी में कार्यकर्ताओं को उनकी सोच से बड़ी जवाबदारी मिली है जिसे जिम्मेदारीपूर्वक निभाए।

CG Politics

कई बार निष्कासित हो चुके हैं
कांग्रेस की ओर से चुनाव में पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण ज्ञानचंद जैन को पहले भी कई बार निष्कासित किया जा चुका है। बताया जाता है कि निष्कासन के बाद हर बार पार्टी के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा की अनुशंसा पर उनको वापस ले लिया जाता है। इससे पार्टी के निष्ठावान एवं सक्रिय कार्यकर्ताओं के मन पर विपरीत असर पड़ता है। पार्टी में उनके विरोध लोग उन्हें पार्टी से बाहर निकालने की मांग करने का मन बना रहे हैं।

नायडू के नाम से यह आरोप लगा था
नगर कांग्रेस कमेटी भिलाई के पूर्व महामंत्री और ब्लॉक कांग्रेस कमेटी-३ के दो बार अध्यक्ष रहे वीएके नायडू ने जारी बयान में कहा है कि वरिष्ठ कांग्रेसजन का सम्मान नहीं कर सकते तो अपमान भी मत करो। सूची देखकर ऐसा लगता है कि भारतीय जनता पार्टी से साठगांठ कर कांगेस को कमजोर करने की सोच से जिला कार्यकारिणी का गठन किया गया है।

नायडू ने कहा है कि विधिसम्मत सूची जारी करने के स्थान पर संगठन के जिम्मेदार नेताओं को अपमानित करने का यह कृत्य जिला कांग्रेस कमेटी को भारी पड़ेगा। प्रदेशाध्यक्ष भूपेश बघेल की कथनी और करनी में यह अंतर संगठन हित में उचित नहीं है। नायडू ने कहा है कि ऐसे समय में जब विधानसभा चुनाव सिर पर हो वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी देने की बजाए विशेष आमंत्रित सदस्य बना दिया जाना, कतिपय नौसीखिए और अपराधिक पृष्ठभूमि के लोगों को वरिष्ठ पदाधिकारी बना देना निगम सीमा क्षेत्र में कांग्रेस को समाप्त करने की साजिश प्रतीत होती है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned