45 साल के व्यक्ति ने कराया मलेरिया का टेस्ट, रिपोर्ट में बताया प्रेग्नेंट हो

मध्यप्रदेश में एक पैथोलॉजी लैब में डॉक्टर ने गजब की रिपोर्ट तैयार की है। मलेरिया से पीड़ित युवक को अपनी रिपोर्ट में

By: Muneshwar Kumar

Published: 07 Jul 2019, 05:48 PM IST

भिंड. मध्यप्रदेश ( madhya pradesh ) के भिंड जिले स्थित फूप कस्बे में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। फूप कस्बे की प्राइवेट लैब ( Pathology report ) में ने मलेरिया की जांच कराने आए युवक की रिपोर्ट तो निगेटिव आई, लेकिन उसको लैब ने गर्भवती ( pregnancy crime news hindi ) बता दिया। उसके बाद तो व्यक्ति के होश ही उड़ गए। रिपोर्ट तैयार करने वाला डॉक्टर फरार ( cheater doctor ) हो गया है। उसके बाद वह डॉक्टर के पास गया तो उन्होंने कहा कि परेशान मत हो।

 

दरअसल, फूप कस्बे में श्याम पैथोलॉजी लैब में मलेरिया की जांच कराने पहुंचे। 45 साल के सुरेश कुमार को मलेरिया नोटसीन के साथ-साथ प्रेग्नेंसी रिपोर्ट भी पॉजिटिव दर्शा दी गई। सुरेश चार जुलाई को स्थानीय डॉक्टर के पास चेकअप के लिए गया था।

इसे भी पढ़ें: LOVE में 'विलेन' बन रहा था पति, सुपारी किलर से बोली 4 बच्चों की मां- खत्म कर दो, बाद में मैं देख लूंगी


दो दिन से बुखार नहीं उतरने पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पदस्थ डॉ डीके शर्मा के पास पहुंचा। जहां उन्होंने उसको मलेरिया टेस्ट कराने को कहा। उसने बताया कि वह जांच करवा चुका है, जब रिपोर्ट देखी तो उसमें मलेरिया नोटसीन और प्रेग्नेंसी रिपोर्ट पॉजिटिव थी।

इसे भी पढ़ें: भाई बोला-दारोगा जी, मैं गर्भवती बहन को गोली मार दिया हूं, दूसरे समाज के लड़के से की थी शादी

man is pregnant

 

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र फूप के बीएमओ डॉ डीके शर्मा ने बताया कि मरीज मेरे पास आया था जिसकी रिपोर्ट देखने के बाद ये मामला सामने आया है। घटना के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों को भी अवगत कराया गया है।

इसे भी पढ़ें: 3 लड़की के साथ 15 दिन से शिवानी ले रही थी ड्रग्स, 2 लड़के कॉलोनी में रख गए शव तो दादी-चाची ने सुनाई कहानी

 

वहीं, जिला अस्पताल भिंड के सीएमएचओ ने कहा कि जिस पैथोलॉजी लैब से इस तरह की रिपोर्ट जारी की गई है, उसके निरीक्षण के लिए टीम भेजी है। गड़बड़ी पाए जाने पर उसे सील किए जाने के अलावा लाइसेंस भी निरस्त किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: पांच महीने की गर्भवती महिला सब इंस्पेक्टर ने डॉक्टर से 6 हजार रुपये में की डील, फिर हुआ उसके करतूतों का पर्दाफाश

 

इसके साथ ही पैथोलॉजी संचालक निलेश रावत ने बताया कि भूलवश कॉलम खाली छूट गया था, किसी ने रिपोर्ट पर पॉजिटिव लिख दिया है। संबंधित मरीज मलेरिया टेस्ट के लिए आया था जिसे नोटसीन बताया गया है। वहीं, शुरुआती जांच करने वाला डॉक्टर क्लिनिक बंद कर फरार हो गया है।

Show More
Muneshwar Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned