मध्यप्रदेश में बेकाबू बाढ़, दिल्ली से बैठक छोड़कर लौटे सीएम, देर रात बुलाई बाढ़ राहत की आपात बैठक

गुरुवार को होने वाली सीएम शिवराज की सभी पूर्व निर्धारित बैठकें निरस्त...दिल्ली में भी प्रदेश भाजपा सांसदों की बैठक में 15-20 मिनिट ही रुके...

By: Shailendra Sharma

Published: 04 Aug 2021, 09:35 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश के ग्वालियर चंबल संभागों में बने बाढ़ के हालातों के मद्देनजर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार रात को भोपाल में बाढ़ नियंत्रण एवं राहत हेतु आपात बैठक बुलाई है। बुधवार शाम को सीएम दिल्ली में प्रदेश भाजपा सांसदों की बैठक में शामिल होने के लिए पहुंचे थे लेकिन प्रदेश में बाढ़ से बिगड़ते हालातों को देखते हुए सीएम वहां से महज 15-20 मिनिट में ही भोपाल के लिए रवाना हो गए और भोपाल में देर रात मुख्यमंत्री आवास पर बाढ़ नियंत्रण और राहत हेतु आपात बैठक बुलाने की बात कही।

 

ये भी पढ़ें- बाढ़ ग्रस्त इलाकों के हवाई दौरे पर शिवराज : मौसम विभाग ने जारी की 48 घंटे में तेज बारिश की चेतावनी, खाली कराये गए 30 और गांव

 

प्रदेश भाजपा सांसदों की बैठक में कुछ ही देर रुके सीएम
सीएम शिवराज सिंह चौहान बुधवार को प्रदेश के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद शाम को दिल्ली में प्रदेश भाजपा के सांसदों की बैठक में शामिल होने पहुंचे थे। जहां सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कुछ ही वक्त बिताया और वापस भोपाल के लिए रवाना हो गए। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बैठक के दौरान बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का स्वागत किया और उनसे अनुमति लेकर भोपाल के लिए निकल पड़े। सीएम ने पार्टी अध्यक्ष को बताया कि मध्यप्रदेश में इस समय बाढ़ की स्थिति है इसलिए मेरा यहां ज्यादा देर रुक पाना उचित नहीं है। मैं मध्यप्रदेश जाकर के बाढ़ की स्थिति के नियंत्रण और बाढ़ पीड़ितों की सेवा व अन्य व्यवस्थाओं में लगूंगा।

 

ये भी पढ़ें- बाढ़ पीड़ितों से मिलने गए गृहमंत्री खुद ही फंसे, एयरलिफ्ट कर निकालना पड़ा, देखें VIDEO

 

सीएम आवास पर होगी आपात बैठक
दिल्ली से रवाना होने से पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में देर रात बाढ़ नियंत्रण और राहत हेतु आपात बैठक बुलाने की बात कही। सीएम शिवराज के भोपाल पहुंचने पर सीएम आवास पर ये बैठक होगी जिसमें बाढ़ प्रभावित इलाकों की स्थिति और राहत कार्य को तेज किए जाने पर चर्चा होगी। इसके साथ ही गुरुवार को शिवराज कैबिनेट की बैठक भी बुलाई गई है जिसमें सप्लीमेंट्री बजट के साथ ही बाढ़ के हालातों की भी समीक्षा की जाएगी।

 

ये भी पढ़ें- बाढ़ से बेहाल हुआ मध्य प्रदेश, तस्वीरों में देखें यहां के हालात और रेस्क्यू ऑपरेशन

 

गुरुवार को होने वाली ये बैठकें हुई निरस्त
सरकार का पूरा ध्यान इस वक्त प्रदेश में बाढ़ से बिगड़ रहे हालातों पर है और इसी कारण सीएम शिवराज की गुरुवार को होने वाली पूर्व से निर्धारित बैठकों को निरस्त कर दिया गया है। बता दें कि गुरुवार को सीएम शिवराज गुरुवार को शहरी ग्रामीण पथ विक्रेता योजना की बैठक, पुलिस हाउसिंग कार्पोरेशन बोर्ड द्वारा बनाए गए मकानों के लोकार्पण और आईएएस 2020 बैच के अधिकारियों के साथ बैठक करने वाले थे लेकिन अब इन्हें रद्द कर दिया गया है।

 

ये भी पढ़ें- तीन पुल बहने की घटना को कमलनाथ ने बताया बेहद गंभीर, कहा- उच्च स्तरीय जांच हो

 

बेकाबू हुई बाढ़, खाली कराए गए 30 से ज्यादा गांव
बता दें कि मध्यप्रदेश में बाढ़ से हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। बुधवार को ही बाढ़ ग्रस्त इलाकों का हवाई दौरा करने से पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में मंत्रालय में आपात बैठक भी बुलाई थी, जिसमें मौसम विशेषज्ञ भी शामिल हुए थे, जिन्होंने बैठक में बताया था कि, उत्तरी मध्य प्रदेश के लिये आगामी 48 घंटे और भी भारी हो सकते हैं। मौजूदा स्थितियों के अनुसार, इस अवधि में यहां तेज बारिश की संभावना है। बैठक के दौरान ही सीएम ने ग्वालियर, श्योपुर, शिवपुरी, गुना, भिंड, मुरैना और दतिया के कलेक्टरों के अलावा राहत कार्य में लगे एयर फोर्स, NDRF, SDRF, होम गार्ड के अधिकारियों से बात की। इस दौरान बताया गया कि श्योपुर के विजयपुर-वीरपुर में हालात बिगड़ने से 30 से ज्यादा गांवों को खाली कराया जा रहा है। लोगों को बोट और हेलिकॉप्टर से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का कार्य जारी है। ग्वालियर-चंबल संभागों के जिलों में बाढ़ बेकाबू हो गई है और कई गांव यहां पर बाढ़ ग्रस्त हैं।

देखें वीडियो- गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा को भी करना पड़ा एयरलिफ्ट

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned