राजधानी में बढ़े ऑनलाइन ठगी के मामले, 6 और लोग ठगे गए

ऑनलाइन फ्रॉड के साथ जालसाजी, लोन दिलाने के नाम पर हुई ठगी

भोपाल. राजधानी में बीते कुछ दिनों से ऑनलाइन फ्रॉड और जालसाजी के प्रकरण लगातार सामने आ रहे हैं। शहर में बीते 24 घंटे में आधा दर्जन से अधिक थाना क्षेत्रों में ऑनलाइन फ्रॉड, जालसाजी, लोन दिलाने के नाम पर राशि लेने और मोबाइल के माध्यम से धोखाधड़ी करके पैसे ऐंठने के प्रकरण दर्ज किए गए हैं। शहर के जहांगीराबाद, सूखी सेवानियां, बागसेवानियां, मिसरोद, कोलार और कोहेफिजा पुलिस ने फरियादियों की शिकायत के आधार पर प्रकरण दर्ज कर पड़ताल शुरू कर दी है।
फायनेंस कंपनी का कर्मचारी बन ठगा

शहर के जहांगीराबाद इलाके में शातिर जालसाज ने एक निजी फायनेंस कंपनी का कर्मचारी बनकर एक व्यक्ति को 71 हजार रुपए की चपत लगा दी। जहांगीराबाद पुलिस के अनुसार डब्बर सिंह कचनेर पिता नाथूराम कचनेर पुलिस चौकी बरखेड़ी के पास रहता है। कुछ दिन पहले उसके मोबाइल पर एक मैसेज लोन दिलाने का आया। फरियादी से जालसाज ने तीन अलग-अलग मोबाइल नंबर से अलग-अलग नाम व पदनाम बनकर बात की और पहले प्रोसेसिंग फीस के नाम पर ढाई हजार, फिर सवा पांच हजार रुपए ले लिए। इसके बाद फरियादी से दस्तावेज और बैंक डिटेल की जानकारी मांगते चले गए। फरियादी को कोटक महिंद्रा कंपनी से लोन मंजूर होने का फर्जी लेटर मोबाइल पर भेजकर खाते से 71 हजार रुपए निकाल लिए। इसी तरह, जहांगीराबाद थाने में ठगी का दूसरा मामला भी दर्ज किया गया है। जहांगीराबाद पुलिस ने बताया कि बरखेड़ी में रहने वाली आरती पंद्राम पुत्री किशन पंद्राम प्राइवेट काम करती है। उसने पुलिस को बताया कि उसके मोबाइल पर लॉटरी जीतने का मैसेज आया था। मैसेज के साथ लॉटरी की जीती गई रकम प्राप्त करने के लिए लिंक भी भेजी गई थी। उसी लिंक संपर्क किया। इसके बाद फरियादी के मोबाइल पर सस्ती ब्याज दर पर कम दस्तावेज पर लोन दिलाने का झांसा दो अलग-अलग मोबाइल से आने वाले कॉल से दिया जाने लगा। युवती कुछ समझ पाती इसके पहले जालसाजों ने उससे प्रोसेसिंग फीस के नाम पर बैंक से कुछ पैसे ऑनलाइन ट्रांसफर कराए। इस तरह से जालसाजों ने उसके खाते से 27 हजार 520 रुपए उड़ा दिए। इसकी शिकायत दर्ज की गई है।
सूखी सेवनियां: पर्सनल लोन के नाम पर ठगी

सूखी सेवानियां पुलिस ने बताया कि फरियादी अमर सिंह लोधी ग्राम चौपड़ाकलां में रहता है। उनसे शिकायत दर्ज कराई कि कुछ दिन पहले उसके पास एक मोबाइल नंबर से फोन आया कि उसे पर्सनल लोन का ऑफर है। ऑफर के लोभ में आकर उनसे फोन करने वाले को अपनी बैंक की जानकारी दे दी। कुछ दिन बाद उसके बैंक से मैसेज आया कि उसके एकाउंट से करीब 70 हजार रुपए दो-तीन बार में निकाले गए हैं। इसके बाद उसने धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई।
कोलार: लोन के नाम पर ठगा

कोलार पुलिस ने बताया कि राहुल यादव दामखेड़ा सर्वधर्म कोलार में परिवार के साथ रहता है। उसके पास इसी साल अगस्त महीने में एक व्यक्ति ने फोन किया और खुद को निजी फाइनेंस कंपनी हीरो फाइनक्रॉप का कर्मचारी बताया। जालसाज ने कहा कि कंपनी कोरोना संक्रमण में आर्थिक तंगी से जूझ रहे लोगों को कम दस्तावेज और आसान प्रक्रिया के तहत लोन दे रही है। ऐसा इसलिए किया जा रहा है, क्योंकि लोन अधिक से अधिक लोग ले सकें। फरियादी भी जालसाज के झांसे में आ गया। इसे बाद उससे अलग-अलग प्रक्रिया के नाम पर 53,342 रुपए की ठगी कर ली गई।
बागसेवानियां-डेबिट कार्ड का काम बताकर ठगा

बागसेवानियां पुलिस ने बताया कि फरियादी डॉक्टर एसजी कुलकर्णी बी-76, बागमुगालिया में रहते हैं। इन्होंने शिकायत दर्ज कराई है कि शुक्रवार को सुबह करीब साढ़े दस बजे इनके पास तीन नंबरों से अलग-अलग बार फोन आया। ये तीनों फोन डेबिट कार्ड से जुड़े हुए थे। फोन पर उन्होंने बातचीत करते हुए जैसे ही जानकारी शेयर की, तो उसके बाद उनके डेबिट कार्ड से धीरे-धीरे करके करीब एक लाख 5 हजार 198 रुपए कट गए। इसके बाद उन्होंने तत्काल बैंक से संपर्क किया, इसके बाद उन्हें मालूम चला कि उनके साथ जालसाजी करके धोखाधड़ी की गई है। इसके बाद उन्होंने थाने में शिकायत दर्ज कराई है।
मिसरोद-मोबाइल पर संदेश भेजकर ठगी

मिसरोद पुलिस के मुताबिक सीआरपीएफ के बंगरसिया कैंप में रहने वाले जवान संतोष महोबिया के साथ भी ठगी हो गई है। पुलिस के अनुसार जालसाजों ने फरियादी के मोबाइल पर एक मैसेज भेजा था। इसके बाद उसके साथ धोखाधड़ी की, जिससे उसके खाते से 41 हजार 430 रुपए कट गए।
कोहेफिजा- आधार नंबर का गलत इस्तेमाल

कोहेफिजा पुलिस ने बताया कि विजय नगर निवासी अनमोल अग्रवाल ने शिकायत दर्ज कराई है कि गुरुवार को उनके आधार नंबर का गलत इस्तेमाल करके उनके खाते से 6699 रुपए का पार्सल लेकर पैसे दिए गए हैं। इस संबंध में उन्होंने थाने में शिकायत दर्ज कराई है।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned