जानिए, दिग्विजय-सिंघार विवाद की Inside Story और ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह में ब्रेकर कौन

जानिए, दिग्विजय-सिंघार विवाद की Inside Story और ज्योतिरादित्य  सिंधिया की राह में ब्रेकर कौन

Muneshwar Kumar | Updated: 07 Sep 2019, 02:36:21 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

क्या बुआ जमुना देवी की राह पर चल रहे हैं मंत्री उमंग सिंघार या फिर मन में है कोई और चाहत

भोपाल/ मध्यप्रदेश की सियासत में कांग्रेस के अंदर खलबली है। खलबली दो खबरों की वजह है। फिलहाल कांग्रेस में अंदरूनी विवाद पर पटाक्षेप होता नहीं दिख रहा है। भोपाल के घमासान को शांत करने के लिए दिल्ली ने मोर्चा संभाल लिया है। पत्रिका मध्यप्रदेश अपने खास कार्यक्रम दरबारी में आपको बताएगा कि इन विवादों के मायने बताएगा। साथ ही इसके पीछे की कहानी क्या है।

सबसे पहले बात दिग्विजय सिंह और उमंग सिंघार के विवाद को लेकर करते हैं। दिग्विजय सिंह की चिट्ठी के बाद वन मंत्री उमंग सिंघार ने उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सिंघार ने दिग्विजय सिंह पर पर्दे के पीछे से सरकार चलाने का आरोप लगाकर कांग्रेस की अंदरूनी फसाद को और बढ़ा दिया। मंत्री उमंग सिंघार यहीं नहीं रुके, उन्होंने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक चिट्ठी लिखी और दिग्विजय सिंह की शिकायत की। दिग्विजय सिंह सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं।

656656.jpg

लेकिन आपके मन में सवाल यह जरूर उठ रहा होगा कि दिग्विजय सिंह के खिलाफ अचानक से मंत्री उमंग सिंघार ने मोर्चा क्यों खोल दिया। लेकिन सियासत में अचानक से कुछ होता नहीं है। सबकुछ एक प्लानिंग के तहत होती है। सवाल यह भी है कि बुआ की राजनीतिक विरासत को संभाल रहे उमंग सिंघार भी क्या जमुना देवी की राह पर ही चल रहे हैं। जमुना देवी भी दिग्विजय सिंह के खिलाफ मुखर थीं।

dig.jpg

मैं दिग्विजय सिंह की तंदूर में जल रही हूं

अभी जो विवाद चल रहे हैं, उससे यह तो जाहिर हो गया है कि कांग्रेस कई खेमों में बंटी है। लेकिन दिग्विजय सिंह और सिंघार के विवाद को समझने के लिए आपको थोड़ा फ्लैशबैक में चलना होगा। उमंग सिंघार की बुआ भी मध्यप्रदेश कांग्रेस की कद्दावर नेत्री रही हैं। जमुना देवी मध्यप्रदेश की उपमुख्यमंत्री रही हैं। दिग्विजय सिंह के सीएम रहते हुए उन्होंने कहा था कि मैं दिग्विजय सिंह की तंदूर में जल रही हूं। उस वक्त भी इस बयान को बड़ा भयानक माना गया था।

इसलिए चुप हैं कमलनाथ?
दिग्विजय सिंह कह रहे हैं कि इस पूरे मामले को सोनिया गांधी और कमलनाथ देखें। लेकिन कमलनाथ बिल्कुल खामोश हैं। लेकिन कमलनाथ के चुप रहने के भी दो फायदे हैं। इस तरह के हमले से दिग्विजय सिंह कमजोर होंगे और जब वे कमजोर होंगे तो सरकार में उनकी दखलदांजी कम हो जाएगी। क्योंकि पूरी सरकार में दिग्विजय सिंह का सबसे ज्यादा दखल है। वो खुद को किंग मेकर मानते हैं। दिग्विजय सिंह मानते हैं कि मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार उन्होंने बनवाई है।

kamalnath.jpg

दिग्विजय सिंह की सरकार में दखलदांजी
कांग्रेस के अंदर पावर वॉर में पहले ही ज्योतिरादित्य सिंधिया को साइड कर दिया गया है। उनको प्रदेश की राजनीति से दूर किया गया। ऐसे में अगर उमंग सिंघार के जरिए दिग्विजय सिंह का दखल कम होता है तो सीएम कमलनाथ को इसमें कोई आपत्ति नहीं है। शायद यही वजह है कि इस पूरे विवाद पर कमलनाथ चुप्पी साधे हुए हैं। साथ ही उमंग सिंघार जो चाह रहे थे वो होता रहा और विवाद सुलझाने के लिए सोनिया गांधी को बीच में आना पड़ा।

singhar.jpg

सिंघार विवाद से मंत्रियों की खुल गई कलई
दिग्विजय सिंह और उमंग सिंघार विवाद से मध्यप्रदेश सरकार के कई मंत्रियों की कलई खुल गई। सिंघार ने आवाज बुलंद किया तो सरकार के कई विधायकों ने अपने मंत्रियों के खिलाफ हल्ला बोल दिया। कईयों पर संगीन आरोप लग गए। विधायकों ने मंत्रियों पर काम के बदले पैसे लेने के आरोप लगाएं।

digvijay.jpg

मोहरा बन रहे हैं सिंघार?
अभी तक तो विवाद है, उससे तो यहीं लगता है कि दिग्विजय सिंह के खिलाफ उमंग सिंघार मोहरा बने हैं। क्योंकि राजनैतिक हैसियत की बात करें तो सिंघार और दिग्विजय सिंह की कोई तुलना नहीं है। क्योंकि सिंघार ने जिस तरीके से सरकार में पावर की लड़ाई को लेकर मोर्चा खोला है, अगर ऐसा बीजेपी में होता तो अब तक नेता के ऊपर कार्रवाई हो जाती। लेकिन सिंधिया के खिलाफ सब मौन हैं। ऐसे में माना जा सकता है कि प्रदेश के दिग्गज नेताओं का इसमें मौन समर्थन है।

dig67.jpg

सिंघार को विवाद से हो रहा फायदा
इस विवाद को हवा देकर उमंग सिंघार को यह फायदा जरूर हो रहा है कि वह खुद को दिग्विजय विरोधी खेमे के नेता के रूप में खुद को स्थापित कर रहे हैं। क्योंकि मध्यप्रदेश में अभी तीन खेमा चल रहा है, जिसमें ज्योतिरादित्य सिंधिया , दिग्विजय सिंह और कमलनाथ का है। अब चौथा खेमा उमंग सिंघार है। अंदर की कहानी यह है कि ये दोनों खेमा सिंघार खेमे को पीछे से पुश कर रही है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तो खुद भी उनका समर्थन किया है।

jyotiraditya.jpg

प्रदेश कांग्रेस का BOSS कौन?
अब मध्यप्रदेश कांग्रेस में प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी के लिए भी खींचतान चल रही है। इसमें भी तीन गुट सक्रिय है। लेकिन एक गुट अपनी दावेदारी डंके की चोट पर जता रही है। वो गुट है ज्योतिरादित्य सिंधिया का। सिंधिया समर्थक खेमे के मंत्री लगातार यह मांग कर रहे हैं महाराज के हाथों में प्रदेश की कमान सौंपी जाए।

jyo.jpg


सिंधिया कोई नहीं चाहता है
अंदर की बात यह है कि प्रदेश की राजनीति में जितने भी कांग्रेस के कद्दावर नेता हैं, वो ज्योतिरादित्य सिंधिया को नहीं चाहते हैं। चुनाव वक्त सिंधिया को डिप्टी सीएम का ऑफर मिला था लेकिन वह सीएम बनना चाहते थे। प्रदेश में लड़ाई सीएम की कुर्सी को लेकर है। ऐसे में सिंधिया चाहते हैं कि हम नंबर टू नहीं बने। अब उनकी चाहत यह है कि सत्ता के दूसरे केंद्र का बॉस बनें यानी कि प्रदेश में संगठन का चीफ। इस बार के लोकसभा चुनाव भी सिंधिया हार चुके हैं लेकिन पार्टी में उनके पास कोई दमदार जिम्मेदारी नहीं है।

kamalnath1.jpg

बनेगा नया पॉवर सेंटर
ज्योतिरादित्य सिंधिया अगर मध्यप्रदेश की राजनीति में वापसी करते हैं। तो प्रदेश में फिर पॉवर सेंटर की लड़ाई शुरू हो जाएगी क्योंकि सिंधिया के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद दो पॉवर का दो केंद्र हो जाएगा। ऐसे में सब इन्हें किनारा लगाना चाहता है। कमलनाथ चाहते हैं कि बाला बच्चन बनें, दिग्विजय सिंह अजय सिंह को चाहते और ज्योतिरादित्य सिंधिया खुद को चाहते हैं।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned