CG Motivational Story भारतीय रिसर्च में पिछड़े नहीं, बल्कि विदेशियों से भी आगे -प्रो.झाडग़ांवकर

Amil Shrivas

Publish: Jan, 14 2018 12:07:02 PM (IST) | Updated: Jan, 19 2018 10:44:14 PM (IST)

Bilaspur, Chhattisgarh, India
CG Motivational Story भारतीय रिसर्च में पिछड़े नहीं, बल्कि विदेशियों से भी आगे -प्रो.झाडग़ांवकर

सात दिवसीय फेकेल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का समापन ० सीवीआरयू में एक्वायरिंग एकेडमिक स्किल एंड रिसर्च पर हुई चर्चा

बिलासपुर . डॉ.सी.वी.रामन् विश्वविद्यालय में एक सप्ताह का एक्वायरिंग एकेडमिक स्किल एंड रिसर्च विषय पर फेकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम आयोजित किया गया। 7 दिनों तक चले इस एफडीपी में सीवीआरयू के प्राध्यापकों को टीचिंग मैथर्ड, प्रेेंजेंटेशन, अध्यापन,नए विषय, रिसर्च, शोधपत्र लेखन, पेटेंट, क्लास रूम मेनेंजमेंट, स्किल डेवपलपमेंट सहित अनेक विषयों में जानकारी दी गई। प्रोग्राम में नेशलन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नीकल टीचर्स ट्रेनिंग एंड रिसर्च भोपाल व देश के कई विश्वविद्यालयों के वरिष्ठ प्राध्यापकों ने सीवीआरयू के प्राध्यापकों को विस्तार से जानकारी दी। डॉ.सी.वी.रामन् विश्वविद्यालय द्वारा फेकल्टी डेवलपमेंट के लिए अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इसी क्रम में 8 जनवरी से 13 तक एक्वायरिंग एकेडमिक स्किल एंड रिसर्च विषय पर एफडीपी प्रोग्राम आयाजित किया गया। विषय विशेषज्ञों ने टीचिंग मैडर्थ, प्रेजेेटेशन, अध्यापन,नए विषय, रिसर्च, शोध पत्र लेखन, पेटेंट, क्लास रूम मेनेंजमेंट, स्किल डेवपलपमेंट की जानकरी विस्तार से दी। इस अवसर एनआईटीटीटीआर के प्रो.जी.टी.लाला, प्रो. अनिल कुमार, माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विवि के प्रो. अनुराग सीठा, अरविंदो सोसायटी के प्रो एस. घोष अध्यात्मिक ब्रम्हाकुमारी जयपुर प्रो. अनुज सिंह ने जानकारी दी। विश्वविद्यालय के कुलसचिव गौरव शुक्ला ने कहा कि आज एफडीपी का समापन नहीं है बल्कि एक शुरूआत है। इन 7 दिनों प्रशिक्षण के बाद सभी इसे अपने जीवन में उतारेंगे और जिसका लाभ विद्यार्थियों को मिलेगा।

काम करने वालों की सफलता तय : देश के प्रसिद्व वैज्ञानिक और विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति प्रो. ए.एस.झाडग़ांवकर ने अपने अमेरिका प्रवास के अनुभव को साझा करते हुए कहा कि भारतीय लोग रिसर्च भी पिछड़े नहीं है। बल्कि यहां के लोग विदेश में रहने वाले लोगों से बहुत आगे हैं यही कारण है कि यहां के शोध को ज्यादा महत्व दिया जाता है। उन्होने बताया कि छोटे क्षेत्रों में भी रहकर बड़े शोध किए जा सकते हैं। किसी को निराश होने की जरूरत नहीं हैं पूरी इच्छा शक्ति और आत्म विश्वास के साथ काम करते रहे। काम करने वालों को सफलता मिलना तय है।

सामजिक जिम्मेदारी को निष्ठा से निभाएं शिक्षक-प्रो.दुबे : विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.आर.पी.दुबे ने कहा कि अच्छा डाक्टर,वकील, इंजीनियरिंग, नेता, वैज्ञानिक हम समाज को तभी दें पाएंगें जब शिक्षक अच्छे होंगे। अच्छा शिक्षक बनने के लिए ऐेसे आयोजन बेहद जरूरी है। हमारी सामाजिक जिम्मेदारी है कि हम समाज के युवाओं को सही दिशा दें जाकि हम समाज की प्रगति भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर सकें।

विवेकानंद के आदर्शों पर चलने का लिया संकल्प : डॉ.सी.वी.रामन् विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय युवा दिवस के अवसर पर 2 दिवसीय व्याख्यान एवं अभिमुखिकरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर स्वामी विवेकानंद शिक्षण संस्थान संचालक वेदप्रकाश अग्रवाल व बनारस ***** विवि के प्राध्यापक डॉ.अंचल श्रीवास्तव, और विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. आर.पी.दुबे ने विद्यार्थियों को विवेकानंद के जीवन से प्रेरणा लेने की बात कही।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned