निर्भया के गुनहगार अक्षय की याचिका खारिज होते ही फूट पड़ी पत्नी, बोली- मुझे भी लटका दो

  • निर्भया दुष्कर्म-हत्या मामले में अक्षय सिंह की ओर से फांसी को रोकने के लिए दायर याचिका खारिज
  • याचिका खारिज कर दिए जाने पर अक्षय की पत्नी ने कहा, "अब मैं कैसे जी पाऊंगी? मुझे भी लटका दो।"

Mohit sharma

19 Mar 2020, 07:23 PM IST

नई दिल्ली। निर्भया दुष्कर्म-हत्या ( Nirbhaya Gangrape Case ) मामले के चार दोषियों में से एक अक्षय सिंह की ओर से फांसी को रोकने के लिए दायर याचिका खारिज होते ही उसकी पत्नी कोर्टरूम में ही फूट-फूटकर रोने लगी।

न्यायाधीश द्वारा याचिका खारिज कर दिए जाने के बाद अक्षय की पत्नी ने कोर्ट में कहा, "अब मैं कैसे जी पाऊंगी? मुझे भी लटका दो।"

निर्भया के गुनहगारों को कल दी जाएगी फांसी, जानें मौत से पहले कैसे बीतेंगे उनके आखिरी घंटे?

g_4.png

कोर्ट में जब यह हाईवोल्टेज ड्रामा चल रहा था, उस समय निर्भया ( Nirbhaya rape Case ) की मां भी वहां मौजूद थीं। चारो दोषियों- विनय, मुकेश, अक्षय और पवन को तय तारीख यानी 20 मार्च को सुबह 5.30 बजे तिहाड़ जेल के फांसीघर में फांसी पर लटकाया जाएगा।

मेरठ से बुलाया गया पवन जल्लाद चारों के गले का फंदा कसेगा।

कोरोना वायरस की हर चुनौती से निपटने को तैयार भारत, पीएम मोदी करेंगे मुख्यमंत्रियों से बात

राष्ट्रीय राजधानी में 16 दिसंबर, 2012 की रात 23 साल की फिजियोथेरेपी छात्रा के साथ एक खाली चलती बस में क्रूरतापूर्वक दुष्कर्म और लोहे की रॉड से वार किया गया था।

निर्भया को अधमरी हालत में बस से फेंक दिया गया था। उसका इलाज पहले सफदरजंग अस्पताल में चला, हालत में सुधार न होने पर उसे विशेष विमान से सिंगापुर भेजा गया, जहां वारदात के 13वें दिन उसकी मौत हो गई।

बड़ी खबर: कोरोना वायरस से वैश्विक आर्थिक संकट का खतरा, 2.5 करोड़ लोगों की नौकरी पर लटकी तलवार

आपको बता दें कि 16 दिसंबर, 2012 को फिजियोथैरेपी छात्रा निर्भया (परिवर्तित नाम) का छह लोगों द्वारा एक निजी खाली बस में बेरहमी से दुष्कर्म किए जाने और लोहे की रॉड से बुरी तरह जख्मी कर महिपालपुर में सड़क किनारे फेंक दिए जाने के दोषियों को 20 मार्च, 2020 को तिहाड़ जेल में फांसी दी जाएगी।

Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned