Lockdown का असर, दोगुने से भी अधिक रेट पर मिल रहा नवरात्रि व्रत का ये सामान

Highlights
- दुकानदार बोले- थोक विक्रेताओं ने बढ़ाई महंगाई
- कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ चलाया जा रहा है विशेष अभियान- सिटी मजिस्ट्रेट
- महंगी दरों पर सामान बेचने वालों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई

गाजियाबाद. लॉकडाउन (Lockdown) का असर नवरात्र (Navratri) व्रत पर भी दिखाई दे रहा है। दुकानदार लॉकडाउन का असर बताते हुए लोगों को दोगुने से तीन गुने रेट पर सामान बेच रहे हैं। वहीं मजबूरी में महंगा सामान खरीदने को मजबूर हैं। इस संबंध में सिटी मजिस्ट्रेट ने दावा किया है कि कालाबाजारी (Black Marketing) करने वालों के खिलाफ विशेष अभियान चलाया जा रहा है। महंगी दरों पर सामान बेचने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- Lockdown: नोएडा के लोगों ने पेश की नजीर, इस तरह लिया दुकान से सामान

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस को लेकर गाजियाबाद समेत देशभर में लॉकडाउन है। केवल खाने-पीने की वस्तुओं से जुड़ी दुकानें ही खुली हुई हैं। जरूरत वाले लोग ही घर से बाहर निकलकर सामान खरीद रहे हैं, लेकिन गाजियाबाद में कुछ दुकानदार कह रहे हैं कि उन्हें थोक विक्रेता महंगे रेट पर समान दे रहे हैं। इसलिए महंगी दरों पर सामान बेचना उनकी मजबूरी है। हमने इसकी गहनता से पड़ताल की तो एक दुकानदार ने नाम छापने की शर्त पर बताया कि थोक में राजधानी 10 किलो का आटा जो पहले 280 रुपये में मिलता था अब 400 में उपलब्ध हो रहा है। वहीं चीनी भी 38 रुपए प्रति किलो के बजाय थोक में 40 रुपये प्रति किलो में मिल रही है। इसी तरह रिफाइंड 90 के बजाय 120 रुपये किलो थोक में मिल रहा है। यही वजह है कि दुकानदार दोगुनी से तीन गुनी दरों पर सामान बेच रहे हैं।

वहीं, आज से नवरात्र शुरू हो गए हैं, नवरात्र का सामान बेचने वाले भी लॉकडाउन का पूरा लाभ उठा रहे हैं। पहले जो पान का पत्ता एक रुपए का आता था वह आज 8 रुपये में मिल रहा है। इसी तरह जो फूल माला 10 रुपये की आती थी, वह 20 में उपलब्ध है। वहीं जो नारियल जो पहले 30 रुपये में मिलता था वह अब 50 में उपलब्ध है। पूजा का सामान को बेचने वाले लोगों का कहना है कि उन्हें थोक रेट में ही महंगा मिला है, जिसके कारण उन्हें भी महंगे दामों में देना पड़ रहा है। यानी नवरात्र के व्रत में भी लॉक डाउन की मार साफ तौर पर दिखाई दे रही है।

गाजियाबाद सिटी मजिस्ट्रेट शिव प्रताप शुक्ल ने बताया कि वह खुद लगातार बाजार में भ्रमण कर रहे हैं और कोई भी कालाबाजारी न कर पाए इसका विशेष ध्यान रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि यदि कुछ दुकानदार इस तरह की बात बता रहे हैं तो वह एकदम झूठ बोल रहे हैं। क्योंकि वह खुद लगातार इस बात की पड़ताल करने में जुटे हुए हैं। सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि उन्होंने अनाज मंडी गाजियाबाद में एक अधिकारी डिप्टी आरएमओ नियुक्त किया है, जो कि थोक विक्रेताओं पर खास नजर बनाकर रखेगा और मंडी सचिव इंदिरापुरम इलाके में नियुक्त किया गया है, जो इस कालाबाजारी पर नियंत्रण कर रहे हैं। उन्होंने यह भी बताया कि यदि कोई भी दुकानदार किसी भी तरह की कालाबाजारी करता है तो तत्काल प्रभाव से प्रशासनिक अधिकारियों को सूचित किया जाए। उस कालाबाजारी करने वाले दुकानदार के खिलाफ तत्काल प्रभाव से कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- Lockdown की घोषणा के बाद भी राशन की दुकानों पर उमड़ रही भीड़, महीनेभर का स्टॉक खरीद रहे लोग

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned