8 में से 7 विधानसभा सीटों पर हारे ज्योतिरादित्य,यहां पढ़ें सिंधिया के गढ़ का पूरा गणित

8 में से 7 विधानसभा सीटों पर हारे ज्योतिरादित्य,यहां पढ़ें सिंधिया के गढ़ का पूरा गणित

monu sahu | Publish: May, 24 2019 01:55:17 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

8 में से 7 विधानसभा सीटों पर हारे ज्योतिरादित्य,यहां पढ़ें सिंधिया के गढ़ का पूरा गणित

ग्वालियर। गुना-शिवपुरी संसदीय सीट सिंधिया परिवार का गढ़ मानी जाती थी, लेकिन जनता ने इस बार यह मिथक तोड़ दिया और ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराकर डॉ. केपी यादव के सिर ताज सजा दिया। 70 साल बाद इस सीट पर सिंधिया परिवार पहली बार हारा और हार भी 1 लाख 24 हजार से अधिक वोटों से हुई। गुरुवार की सुबह से शिवपुरी के मतगणना केंद्र साइंस कॉलेज के आसपास सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे, लेकिन लोगों की भीड़ वहां नजर नहीं आई। हालांकि डिस्प्ले सेंटर पर कुछ लोग जरूर हार-जीत के आंकड़े देख रहे थे। जब मतगणना के रुझान आना शुरू हुए तो पहले राउंड से ही भाजपा प्रत्याशी डॉ. केपी यादव ने जो बढ़त बनाई, वो आखिर तक यथावत रही। मतगणना स्थल पर कांग्रेस प्रत्याशी नहीं थे,बल्कि उनके पोलिंग एजेंट ही मोर्चा संभाले हुए थे।

 

जबकि केपी यादव दोपहर में मतगणना स्थल पर पहुंचे तथा उन्होंने रिटर्निंग ऑफिसर पर आरोप लगाया कि हमें यहां पर गुना के आंकड़े नहीं बताए जा रहे हैं तथा कलेक्टर भी एक घंटे से मुझे नहीं मिल रहीं। उन्होंने कहा कि मैने इस संबंध में चुनाव आयोग में शिकायत भी की है। पिछोर विधानसभा को छोडकऱ शेष सभी सातों विधानसभा में केपी यादव को बढ़त मिली और आखिर में जीत का आंकड़ा 1 लाख 24 हजार 750 पर पहुंच गया। सिंधिया के खिलाफ मिली इतनी बड़ी जीत से केपी यादव की खुशी देखते ही बनती थी, क्योंकि उन्होंने 70 साल के मिथक को तोड़ दिया था।

 

केपी को बधाई जनादेश स्वीकार
मैं जनादेश को विनम्रतापूर्वक स्वीकार करता हूं। क्योंकि यह जनता का निर्णय है, जो मुझे स्वीकार है। मेरे लिए राजनीति जनसेवा करने का केवल एक माध्यम है और मैं सदेव जनसेवा के लिए प्रतिबद्ध रहूंगा। मैं संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं और कांगे्रेस के सभी कार्यकर्ताओं को दिल से धन्यवाद देता हूं। साथ ही मेरी ओर से डॉ. केपी यादव को जीत की बधाई।

 

कभी था ऐसा याराना
गुना-शिवपुरी संसदीय सीट पर 70 साल बाद सिंधिया परिवार को शिकस्त मिली है और जिसने इस परिवार के मुखिया यानि ज्योतिरादित्य सिंधिया को हराया, वे केपी यादव, कभी सिंधिया के बहुत नजदीक हुआ करते थे। इस अप्रत्याशित परिणाम के बाद सोशल मीडिया पर एक फोटो वायरल हुआ, जिसमें सिंधिया किशोरावस्था में केपी यादव के गले में हाथ डालकर बैठे हैं। इस फोटो की पुष्टि केपी यादव की पत्नी ने करते हुए बताया कि यह इंदौर का फोटो है, तब केपी की उम्र 10 साल थी और वे कक्षा पांचवी में पढ़ते थे।

 

देर रात तक चलता रहा बधाइयों का सिलसिला
मतगणना स्थल पर केपी यादव के समर्थक शाम होते ही इक_ा होने लगे थे। जैसे ही केपी यादव मतगणना स्थल से बाहर निकले, तो उनके समर्थकों ने उन्हें गले लगाकर जीत की बधाई दी तथा मिठाई खिलाकर अपनी खुशी का इजहार किया। शहर के हृदय स्थल माधव चौक पर भी मिठाई बांटने के साथ ही आतिशबाजी चलाई गई। इसके अलावा कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने जहां अपने निवास पर आतिशबाजी चलाकर मिठाई बांटी। जीत का जश्न रात तक चलता रहा और केपी यादव ने शहर में लोगों का आभार जताया।


सिर्फ 1 विधानसभा सीट में सिंधिया जीत पाए


शिवपुरी
2014 2019
भाजपा 63389 87691
कांग्रेस 58893 57983
अन्य 6157 9256


कोलारस
2014 2019
भाजपा 44022 73546
कांग्रेस 72779 70608
अन्य 9962 13222


पिछोर
2014 2019
भाजपा 51158 69453
कांग्रेस 73913 85233
अन्य 7066 10198


गुना
2014 2019
भाजपा 64384 94263
कांग्रेस 52203 47157
अन्य 4451 5745


अशोक नगर
2014 2019
भाजपा 44582 75271
कांग्रेस 64432 53501
अन्य 5663 9993


बमोरी
2014 2019
भाजपा 51297 75220
कांग्रेस 66010 64505
अन्य 5927 10062


चंदेरी
2014 2019
भाजपा 39035 63956
कांग्रेस 60386 52949
अन्य 5689 8723


मुंगावली
2014 2019
भाजपा 37300 70937
कांग्रेस 67684 53836
अन्य 5888 7922

 

मैं वचन देताहूं...
मैं क्षेत्रके विकास के लिए हर संंभव प्रयास करूंगा और एक साल में इस क्षेत्र में बदलाव जनता को नजर आएगा। बेरोजगारी को दूर करने के लिए उद्योग धंधे शुरू करवाए जाएंगे तथा जनता को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी।
केपी यादव, भाजपा

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned