हर रोज लाखों लीटर दूध का निर्यात फिर भी मिलावटी चीजें खा रहे हम, ये है मुख्य वजह

हर रोज लाखों लीटर दूध का निर्यात फिर भी मिलावटी चीजें खा रहे हम, ये है मुख्य वजह

monu sahu | Updated: 26 Jul 2019, 07:30:49 PM (IST) Gwalior, Gwalior, Madhya Pradesh, India

अंचल के कस्बों-गांवों में जमी हैं मिलावटी दूध, मावा की जड़ें, बेधडक़ सप्लाई होता है दूसरे जिलों और राज्यों में

ग्वालियर। प्रदेश के चंबल संभाग के भिण्ड जिले में नकली दूध का कारोबार कई वर्षों से चल रहा है। जिले में 14 चिलिंग प्लांट और 125 डेयरी पंजीकृत हैं,जबकि जमीनी स्तर पर दो दर्जन चिलर प्लांट तथा करीब 500 डेयरियां घरों में चल रही हैं, जो नकली दूध और मावा बनाकर बेच रही हैं। औसतन दो से ढाई करोड़ रुपए कीमत का साढ़े चार से पांच लाख लीटर दूध हर रोज भिण्ड से बाहरी जिले और अन्य राज्यों के लिए निर्यात हो रहा है। दूध से क्रीम निकालने के बाद बेजान दूध में यूरिया, शैंपू, ग्लूकोज एवं डिटरजेंट के अलावा नाइट्रोक्स नाम का केमिकल मिलाया जाता है, जिससे नकली दूध का स्वाद और रंगत दोनों असली नजर आती हैं।

इसे भी पढ़ें : बड़ी खबर : प्रदेश में बेधडक़ बिक रहा है नकली दूध और पनीर, ऐसे करें पहचान

इसमें 60 से 65 फीसदी नकली दूध निर्यात किया जा रहा है। फूड सेफ्टी विभाग के जिला कार्यालय में दो निरीक्षक व एक सहायक निरीक्षक सहित तीन लोगों का स्टाफ है। साल में एक या दो बार ही सैंपलिंग की कार्रवाई नजर में आती है। सैंपल जांच के लिए बाहर भेजे जाते हैं। इस कार्रवाई में लंबा समय लग जाता है, इसका फायदा उठाकर नकली दूध का कारोबार चलता रहता है।

इसे भी पढ़ें : VIDEO : जिला अस्पताल में लिफ्ट में फंसे 9 लोग, मच गई अफरा-तफरी

इन क्षेत्रों में डेयरी
अटेर : परा, प्रतापपुरा, सुरपुरा, फूप, गढ़ा, बलारपुरा, जवासा, दुल्हागन, एंतहार, चौम्हों, मसूरी, धरई, टीकरी, जार।
मेहगांव: हसनपुरा, प्रतापपुरा, अकलौनी, बीसलपुरा, आलमपुरा, मेंहदौली, रजगढिय़ा, सोनी, सुनारपुरा।
गोहद: क्षेत्र के खितौली, भगवासा, बिरखड़ी, जैतपुरा में बिना पंजीयन के डेयरी चल रही हैं।
लहार: बरथरा, कसल, रुरई, विशुनपुरा सहित एक दर्जन से ज्यादा गांवों में अवैध डेयरियां हैं।

इसे भी पढ़ें : पेरिस एयरपोर्ट पर मजाक में बनाया वीडियो, इंडिया में हुआ वायरल

5 साल में विभाग ने एक बार भी नहीं की बड़ी कार्रवाई
फूड सेफ्टी विभाग की ओर से पांच साल में कोई ये हैं नकली दूध पर बड़ी कार्रवाई नहीं की गई है। प्रति वर्ष दीपावली और होली जैसे त्योहारों पर दुकानों से मिठाई के सैंपल लेकर औपचारिकता की जाती है। इनकी रिपोर्ट आने में कई महीने लग जाते हैं। जब ये अमानक पाए जाते हैं तो नाम मात्र का जुर्माना लगता है।

इसे भी पढ़ें : सिंधिया जल्द तय कर सकते हैं महापौर के लिए नाम, ये हैं दौड़ में शामिल

रिपोर्ट आने में लगते हैं कई महीने
मिलावट की पहचान करने के लिए छोटे शहरों और कस्बों में जांच लैब नहीं है, न ही जरूरी संसाधन हैं। यदि टीम मिलावटी खाद्य पदार्थ पकड़ती है तो अन्य राज्यों में जांच के लिए भेजा जाता है। इसकी रिपोर्ट आने में कई महीने लग जाते हैं। इससे कोई व्यक्ति मिलावट की शिकायत ही नहीं कर पाता। शिकायत से जांच तथा उसके बाद सजा होने तक की प्रक्रिया काफी लंबी है, इस कारण लोग आवाज उठाने से हिचकते हैं।

इसे भी पढ़ें : जानिए डॉ. रेनू जैन के अतीत के बारे में, बनाई गई हैं DAV की वाइस चांसलर

milk and paneer

ऐसे करें पहचान

  • केमिकल थोड़ा सा दूध डालकर जलाने पर तेल के जलने जैसी बदबू देता है।
  • उबालने पर ऊपरी परत पीली पड़ जाती है।
  • मीठापन खत्म हो जाता है, स्वाद रहित।
  • पहचान करने दो दिन बर्तन को धूप में रखने या खूब उबालें तो यह असली रूप में आ जाएगा।
  • क्रीम का वजन बढ़ाने के लिए 100 किलो में 10 किलो दही मिला दिया जाता है, जिससे क्रीम का वजन बढ़ जाता है।
  • रखी हुई क्रीम में खटास आने के कारण सामान्य ग्राहक दही की मिलावट की पहचान नहीं कर पाता है।
milk and paneer

पहचान करना नहीं आता
एक दुकानदार ने बताया कि ग्राहक सिर्फ भरोसे पर खरीद करता है। मावा असली है या मिलावटी उसकी पहचान करना लोगों को नहीं आता। कुछ ग्राहक देसी तरीकों से मावे की असलियत पहचानने की कोशिश करते हैं, लेकिन सिंथेटिक मावे की पहचान के सारे देसी तजुर्बे बेअसर हैं।

इसे भी पढ़ें : शिक्षक से मिली एक चॉकलेट ने बना दिया पर्यावरण प्रेमी, यह है इनका लक्ष्य

कसेंगे शिकंजा
भिण्ड कलेक्टर छोटे सिंह ने बताया कि नकली दूध के कारोबार पर शिकंजा कसा जाएगा। पुलिस का भी सहयोग लेंगे। लगातार छापामार कार्रवाई के लिए फूड सेफ्टी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए जा रहे हैं। अमला बढ़ाने की प्रक्रिया शुरू करेंगे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned