डबरा विधानसभा सीट: 2008 के बाद यहां बदल गए समीकरण, भाजपा के गढ़ में कांग्रेस ने जमाया कब्जा

इमरती देवी कांग्रेस के टिकट पर पिछले 3 चुनाव से जीतती चली आ रही हैं

By: Pawan Tiwari

Published: 01 Oct 2020, 12:04 PM IST

ग्वालियर. ग्वालियर अंचल में आने वाली डबरा विधानसभा सीट में भी उपचुनाव होना है। ग्वालियर जिले की डबरा विधानसभा सीट हमेशा से ही हाई प्रोफाइल सीट रही है। डबरा विधानसभा सीट 2008 में आरक्षित श्रेणी में आ गई। 2008 से पहले

यहां से बीजेपी के कद्दावर नेता और प्रदेश के गृह मंत्री डॉक्टर नरोत्तम मिश्रा चुनाव जीतते थे। इस सीट पर इमरती देवी कांग्रेस के टिकट पर पिछले 3 चुनाव से जीतती चली आ रही हैं, लेकिन अब इस सीट का गणित बदला है। कभी कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने वाली इमरती देवी अब भाजपा की संभावित उम्मीदवार हैं।

कब कौन बना विधायक
1977 गोपीराम, जनता पार्टी
1980 जगन्नाथ सिंह, भाजपा
1985 नरसिंहराव पवार, कांग्रेस
1990 नरोत्तम मिश्रा, भाजपा
1993 जवाहर सिंह रावत, बसपा
1998 नरोत्तम मिश्रा, भाजपा
2003 नरोत्तम मिश्रा, भाजपा
2008 इमरती देवी, कांग्रेस
2013 इमरती देवी, कांग्रेस
2918 इमरती देवी, कांग्रेस

कितने मतदाता
कुल मतदाता: 2 लाख 18 हजार 131
पुरूष मतदाता: 1 लाख 16 हजार 836
महिला मतदाता: 1 लाख 1 हजार 288

जातिगत समीकरण
जाटव मतदाता 34 हजार के लगभग
कुशवाह वोटरों की संख्या 16 हजार के करीब
ब्राह्मण मतदाता 20 हजार
रावत जाति के 9 हजार मतदाता
कोरी समाज के 12 हजार 700
साहू समाज के वोटर 17 हजार
वैश्य समाज के 12 हजार
बघेल समाज के मतदाता 18 हजार
सिंधी समाज से 6 हजार
मुस्लिम वर्ग का 9 हजार मतदाता यहां हैं

क्यों हो रहे हैं उपचुनाव
यहां से इमरती देवी ने लगातार तीन चुनाव जीतकर हेट्रिक लगाई है। इमरती देवी कांग्रेस की कमलनाथ सरकार में महिला बाल विकास मंत्री थीं। इमरती देवी ज्योतिरादित्य सिंधिया की कट्टर समर्थक मानी जाती हैं। सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद इमरती देवी ने भी कांग्रेस का साथ छोड़ दिया था। फिलहाल अब शिवराज मंत्रिमंडल में वो एक बार फिर महिला बाल विकास मंत्री हैं।

2020 में कौन-कौन उम्मीदवार
भाजपा से संभावित उम्मीदवार इमरती देवी हैं।
कांग्रेस ने यहां से सुरेश राजे को अपना उम्मीदवार बनाया है।

Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned