VIDEO : प्रभु ने पहने सवा किलो चांदी के मुकुट, स्वयंसेवकों ने बजाई बांसुरी, रजत रथ पर दिए दर्शन

VIDEO : प्रभु ने पहने सवा किलो चांदी के मुकुट, स्वयंसेवकों ने बजाई बांसुरी, रजत रथ पर दिए दर्शन
VIDEO : प्रभु ने पहने सवा किलो चांदी के मुकुट, स्वयंसेवकों ने बजाई बांसुरी, रजत रथ पर दिए दर्शन

Hussain Ali | Publish: Aug, 23 2019 04:24:37 PM (IST) | Updated: Aug, 23 2019 04:24:38 PM (IST) Indore, Indore, Madhya Pradesh, India

- शहर में छाया कृष्ण जन्मोत्सव का उल्लास
- रात 12 बजे होगी आरती, गूंजेगा हाथी घोड़ा पालकी...
- गोपाल मंदिर में आज, तो यशोदा माता मंदिर में कल मनेगी जन्माष्टमी

इंदौर. कृष्ण मंदिरों में विभिन्न मतों के चलते दो दिन जन्माष्टमी मनाई जाएगी। शुक्रवार को गोपाल मंदिर तो शनिवार को यशोदा माता मंदिर में कृष्ण जन्मोत्सव का उल्लास छाएगा। स्मार्त मत वाले प्राचीन गोपाल मंदिर, बांके बिहारी मंदिर सहित अन्य मंदिरों में 23 अगस्त व वैष्णव मत के मंदिरों में 24 अगस्त को उत्सव मनाया जाएगा। रात 12 बजे शंख ध्वनि और घंटे-घडिय़ाल के साथ भगवान की जन्म आरती होगी। गोपाल मंदिर में पहली बार सवा किलो चांदी के दो छत्र चढ़ाए गए, वहीं बांके बिहारी मंदिर में लाखों रुपए के आभूषणों से श्रीकृष्ण का शृंगार किया गया। माता गुजरी कॉलेज मे जन्माष्टमी पर मटकी फोड़ कॉम्पीटिशन रखी गई। इसमें सभी छात्राओं ने उत्साह से भाग लिया।

स्वयंसेवकों ने बजाई बांसुरी

संघ के स्वयंसेवकों ने जिलेवार बांसुरी वादन किया। द्वारका जिला के स्वयंसेवक संस्कृत महाविद्यालय से राजबाड़ा गोपाल मंदिर तक संचलन करते हुए पहुंचे और मंदिर में बांसुरी वादन किया गया। बद्रीनाथ जिले के स्वयंसेवक गेंदेश्वर महादेव मंदिर परदेशीपुरा से बजरंगनगर पशुपतिनाथ मंदिर पहुंचे तो रामेश्वरम जिले के वेंकटेश बालाजी मंदिर से रणजीत हनुमान मंदिर पहुंचे और जगन्नाथ जिले के तुलसी टॉवर से गीता भवन चौराहा पहुंचे। सभी ने मंदिरों के बाहर बांसुरी वादन किया।

VIDEO : प्रभु ने पहने सवा किलो चांदी के मुकुट, स्वयंसेवकों ने बजाई बांसुरी, रजत रथ पर दिए दर्शन

रजत रथ पर निकले भगवान कृष्ण

इंदौर जिला यादव अहीर समाज केंद्रीय समिति के तत्वावधान में शुक्रवार सुबह 11 बजे बड़ा गणपति चौराहा से जेल रोड स्थित श्रम शिविर तक जन्माष्टमी चल समारोह निकाला गया। समाज के 25 से अधिक संगठनों ने इसमें भाग लिया। 3 किमी क्षेत्र में यातायात व्यवस्था संभालने के लिए समिति ने 100 कार्यकर्ता तैनात किए गए। जुलूस में 5 झांकियां, मथुरा-वृंदावन की लोकनृत्य मंडलियां, भजन मंडलियां, महिला अखाड़ा सहित समाजबंधु परंपरागत वेशभूषा में शामिल हुए। चांदी के रथ में विराजित राधा-कृष्ण के पूजन के साथ जुलूस का शुभारंभ हुआ। यात्रा मार्ग में विभिन्न संगठन 200 से अधिक मंच व तोरण लगाकर स्वागत किया गया।
ज्योतिषियों के अनुसार अष्टमी तिथि 23 अगस्त को सुबह 8.09 बजे लगेगी जो 24 को सुबह 8.32 बजे तक रहेगी। रोहिणी नक्षत्र 24 को सुबह 3.46 बजे लगेगा, जो 25 अगस्त को सुबह 3.13 बजे समाप्त होगा। 24 को नवमी लगने से गोगा नवमी भी मनाई जाएगी। गोपाल मंदिर के मुख्य पुजारी बालमुकुंद पाराशर ने बताया, शुक्रवार रात 12 बजे जन्मोत्सव आरती होगी। मालवीय भारती मंदिर आड़ा बाजार में रात 12 बजे जन्म आरती होगी। यशोदा माता मंदिर के महेंद्र दीक्षित ने बताया कि 24 अगस्त को सुबह 6 बजे अभिषेक और रात 12 बजे महापूजा और आरती होगी।

यहां भी होंगे आयोजन

- गीताभवन पर 24 अगस्त को सुबह से मध्य रात्रि तक विभिन्न आयोजन होंगे। भजन संध्या व रात्रि 12 बजे जन्मोत्सव आरती के बाद प्रसाद वितरण होगा।

- विमानतल मार्ग स्थित श्रीविद्याधाम पर शुक्रवार को सुबह से मध्य रात्रि तक आश्रम के महामंडलेश्वर स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती के सान्निध्य में 51 विद्वान आचार्य राजेश शर्मा के निर्देशन में कृष्ण का तुलसीदल, सफेद तिल्ली व पुष्पों से सहस्त्रार्चन करेंगे।

- पीलियाखाल स्थित प्राचीन हंसदास मठ पर शुक्रवार व शनिवार को मनोहारी झांकी सजाई जाएगी। रंगीन फ व्वारे के बीच से भगवान रणछोडज़ी को ब्रम्हांड में चंद्रमा पर विराजित किया जाएगा। मुख्य महोत्सव शनिवार को नौकाविहार की झांकी के साथ मनाया जाएगा। जन्म का मुख्य उत्सव शनिवार 24 अगस्त को रात्रि 12 बजे रोहिणी नक्षत्र में मनाया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned