शर्मनाक! अस्पताल की चौखट पर 10 मिनट तड़पता रहा, फिर बेरहमी के आगे बेइलाज मर गया

मृतक की शिनाख्त नहीं हो पाई है। शव मुर्दाघर में रखवाया गया है...

By: dinesh

Published: 10 Feb 2018, 11:42 AM IST

जयपुर। प्रदेश के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल की इमरजेंसी में मरीज की कथित मौत का मामला तो अभी ठंडा ही नहीं हुआ, शुक्रवार को इमरजेंसी से 30 कदम दूर अज्ञात व्यक्ति की मौत के साथ संवेदना फिर मर गई। वह पहले तो अस्पताल के गेट पर तड़पता रहा, फिर सांसें उखडऩे के बाद 45 मिनट तक उसका शव पड़ा रहा। अस्पताल के जिस गेट नंबर 2 से रोजाना लगभग 50 हजार लोगों का आवागमन होता है, वहां एक व्यक्ति 10 मिनट तक तड़पता रहा। न तो भीड़ में से कोई आगे आया, न अस्पतालकर्मियों ने उसे संभाला। जबकि महज 30 कदम दूर इमरजेंसी है। इलाज नहीं मिलने के कारण आखिरकार उसकी मौत हो गई।


तैनात रहते हैं गार्ड
अस्पताल के जिस गेट पर हादसा हुआ, वहां व्यवस्थाएं सभांलने और सुरक्षा के लिए 6 सुरक्षा गार्ड तैनात रहते हैं। लेकिन उन्होंने भी प्रशासन को सूचना नहीं दी, न ही शव को अंदर ले गए। मृतक की शिनाख्त नहीं हो पाई है। शव मुर्दाघर में रखवाया गया है।

 

Read More: सोहराबुद्दीन मुठभेड़ प्रकरण: आईपीएस दिनेश एम एन आैर अन्य के बरी होने को चुनौती

 

 

मौत के बाद भी नहीं आया रहम
मौत के बाद भी किसी को दया नहीं आई, शव 45 मिनट तक अस्पताल के गेट पर ही पड़ा रहा। शव के आसपास लावारिस श्वान जमा होने लगे और भीड़ भी बढऩे लगी। इसके बावजूद चिकित्साकर्मियों या पुलिस ने सुध नहीं ली। बाद में हंगामा होता देख अस्पतालकर्मी शव को इमरजेंसी ले गए।

 

Read More: एक्सिस बैंक में 925 करोड़ की डकैती का प्रयास: पाली जिले के बर गांव से खरीदे थे बैंक में मिले खाली कट्टे

 

अनसुलझे सवाल
- अस्पताल परिसर में उस व्यक्ति को कौन छोड़ गया?
- गेट तक छोडकऱ जाने वाला इमरजेंसी में क्यों नहीं छोड़ गया?

 

 

- अस्पताल के गेट पर व्यक्ति का शव मिलने की बात सामने आई है। हो सकता है अस्पताल के आसपास खानाबदोश व्यक्ति हो, जिसे कोई यहां छोड़ गया हो। मामला दिखवा रहे हैं।
डीएस मीणा, अधीक्षक, एसएमएस अस्पताल

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned