scriptpratap jayanti | ‘स्वाभिमान की जंग में प्रताप ने दे डाली प्राणों की आहुति’ | Patrika News

‘स्वाभिमान की जंग में प्रताप ने दे डाली प्राणों की आहुति’

अंतरराष्ट्रीय क्षत्रिय वीरांगना फाउंडेशन ने धूमधाम से मनाई महाराणा प्रताप की जयंती ----सोदपुर इकाई का विस्तार, नए पदाधिकारियों की घोषणा

कोलकाता

Published: May 15, 2019 12:44:45 pm

कोलकाता. अंतरराष्ट्रीय क्षत्रिय वीरांगना फाउंडेशन पश्चिम बंगाल की ओर से महाराणा प्रताप की जयंती धूमधाम से मनाई गई। फैंसी बाजार में गुरुवार शाम आयोजित समारोह में संगठन की प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह ने कहा कि महाराणा प्रताप ने स्वाभिमान की जंग में अपने प्राणों की आहुति दे डाली। प्रताप सदा स्वाभिमान से जीने वालों को प्रेरित करते रहेंगे। इस अवसर पर उन्होंने संगठन के विस्तार की चर्चा करते हुए सोदपुर अंचल के नए पदाधिकारियों के नामों की घोषणा की। उन्होंने कहा कि सोदपुर इकाई में रीना सिंह उपाध्यक्ष, रीता सिंह कोषाध्यक्ष, मंजू सिंह और सुलेखा सिंह को सचिव बनाया गया। इनके अलावा ज्योति सिंह, सुनीता सिंह, ललिता सिंह, आशा सिंह, सुजाता गुप्ता, अनिता साव, शकुंतला विशेष तौर पर उपस्थित थीं महाराणा प्रताप सिंह ( ज्येष्ठ शुक्ल तृतीया रविवार विक्रम संवत 1597 तदनुसार 9 मई 1540–19 जनवरी 1597) उदयपुर, मेवाड में7 सिसोदिया आदिवासी भील राजवंश]] के राजा थे। उनका नाम इतिहास में वीरता और दृढ प्रण के लिये अमर है। उन्होंने कई सालों तक मुगल सम्राट अकबर के साथ संघर्ष किया। महाराणा प्रताप सिंह ने मुगलों को कईं बार युद्ध में भी हराया। उनका जन्म राजस्थान के कुम्भलगढ़ में महाराणा उदयसिंह एवं माता राणी जयवंत कँवर के घर हुआ था। लेखक विजय नाहर के अनुसार महाराणा प्रताप की जन्मकुंडली और उस काल की परिस्थितियां एवं भील समाज की परंपरा के आधार पर महाराणा प्रताप का जन्म उनके ननिहाल पाली मारवाड़ में हुआ। 1576 के हल्दीघाटी युद्ध में 20,000 भीलो को साथ लेकर राणा प्रताप ने मुगल सरदार राजा मानसिंह के 80,000 की सेना का सामना किया। शत्रु सेना से घिर चुके महाराणा प्रताप को झाला मानसिंह ने आपने प्राण दे कर बचाया ओर महाराणा को युद्ध भूमि छोडऩे के लिए बोला। शक्ति सिंह ने आपना अश्व दे कर महाराणा को बचाया। प्रिय अश्व चेतक की भी मृत्यु हुई। यह युद्ध तो केवल एक दिन चला परन्तु इसमें 17,000 लोग मारे गए। मेवाड़ को जीतने के लिये अकबर ने सभी प्रयास किये। महाराणा की हालत दिन-प्रतिदिन चिंताजनक होती चली गई । 25,000 आदिवासीयो को 12 साल तक चले उतना अनुदान देकर भामाशाह भी अमर हुआ।
kolkata

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

मंकीपॉक्स पर WHO की आपात बैठक में अहम खुलासा: यूरोप में अब तक 100 से अधिक मामलों की पुष्टि, जानिए 10 अपडेटJNU कैंपस में एमसीए की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तारकैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में बोले राहुल गांधी, भारत में ठीक नहीं हालात, BJP ने चारों तरफ केरोसिन छिड़क रखा हैकर्नाटक में बड़ा हादसाः बारातियों से भरी गाड़ी पेड़ से टकराई, 7 की मौत, 10 जख्मीजल्द ही कमर्शियल फ्लाइट्स शुरू करेगा जेट एयरवेज, DGCA ने दी मंजूरीमाता वैष्णो देवी के प्रमुख पुजारी अमीर चंद का निधन, जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल सहित कई नेताओं ने जताया दुखज्ञानवापी मस्जिद केसः प्रोफेसर रतन लाल की गिरफ्तारी पर हंगामा, DU में छात्रों का प्रदर्शनफिर महंगी हुई CNG: राजस्थान में दाम सबसे अधिक, Diesel - CNG के दाम में अब मात्र 12 रुपए का अंतर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.