UP Panchayat Election 2021: यूपी पंचायत चुनाव मतगणना की तैयारियां, नियम में क्या हुए हैं बदलाव, किन पदों का पहले आएगा परिणाम

- UP Gram Panchayat Election 2021, UP Panchayat Chunav 2021

- यूपी पंचायत चुनाव मतगणना की क्या हैं तैयारियां

- यूपी पंचायत चुनाव में क्या होगे एजेंट बनने के नियम

- यूपी पंचायत चुनाव की मतगणना का कर्मचारी क्यों कर रहे विरोध

- पंचायत चुनाव रिजल्ट वाले दिन लॉकडाउन, जानिए किन पदों का पहले आएगा परिणाम

लखनऊ. UP Panchayat Election/Chunav 2021 Live Updates: उत्तर प्रदेश में हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की मतगणना को लेकर में चुनाव आयोग ने गाइडलाइन जारी कर दी है। पूरे प्रदेश में दो शिफ्टों में सुबह आठ से रात आठ बजे और फिर रात आठ से सुबह आठ बजे तक मतों की गिनती की जाएगी। उम्मीद है कि दूसरी शिफ्ट तक सभी पदों जैसे प्रधान (gram pradhan counting), ग्राम पंचायत सदस्य (uttar pradesh gram panchayat election counting), बीडीसी और जिला पंचायत सदस्य (up zila panchayat chunav counting) की गिनती (up panchayat election 2021) पूरी हो जाएगी। अगर किसी जिले में ऐसा संभव नहीं हुआ और वोटों की गिनती बची, तो अगले दिन सुबह आठ बजे से तीसरे चरण की गिनती शुरू होगी। जिसमें पहले चरण के ही मतगणना कर्मचारी तैनात किए जाएंगे। इसके अलावा मतगणना स्थल पर उन्हीं एजेंट को प्रवेश दिया जाएगा, जिनकी कोरोना की जांच हो चुकी होगी और वह कोरोना जांच में निगेटिव रहेंगे। इसके अलावा एजेंट को पास होने के बाद भी प्रवेश नहीं दिया जाएगा। तो वहीं दूसरी तरफ अब कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कर्मचारी और शिक्षक संगठन मतगणना स्थगित करने की मांग को लेकर लामबंद हो गए हैं। शिक्षकों ने तो मतगणना का बहिष्कार करने की घोषणी की है।

 

यह भी पढ़ें: Coronavirus से मौत होने पर PMJJBY और PMSBY योजना से परिजनों को मिलेगी चार लाख की मदद

 

पंचायत चुनाव मतगणना की तैयारी

चुनाव आयोग की गाइडलाइन के मुताबिक पंचायत चुनाव की मतगणना के दौरान हर जिले की प्रत्येक न्याय पंचायत में चार-चार टेबल लगाई जाएंगी। एक टेबल पर मतगणना पर्यवेक्षक और तीन मतगणना सहायक यानी चार कर्मचारियों की पार्टी तैनात की जाएगी। इसके अलावा 20 फीसदी कर्मचारी आरक्षित रखे जाएंगे। ब्लॉकों की तरफ से एक चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी अलग से तैनात किया जाएगा। चार टेबल मिलाकर एक टेबल बनाई जाएगी। एक पर प्रधान, दूसरे पर ग्राम पंचायत सदस्य, तीसरे पर बीडीसी तो चौथे पर जिला पंचायत सदस्य की गिनती होगी। मतगणना के दौरान प्रत्येक टेबल के पास एक समय में प्रत्याशी या एजेंट में से कोई एक ही रह सकेगा। जिस समय प्रत्याशी मौजूद रहेगा, उस समय एजेंट नहीं रह सकेगा। एजेंट को आई कार्ड जारी किए जाएंगे। लॉकडाउन के दिन गिनती होने की वजह से आईडी दिखाकर ही वह मतगणना स्थल तक जा सकेंगे। मतों की गिनती लॉकडाउन वाले दिन दो मई यानी रविवार को होगी। ऐसे में आयोग ने तय किया है कि मतगणना कर्मचारियों का ड्यूटी पत्र ही उनका पास होगा। रास्ते में उन्हें कोई परेशान नहीं करेगा।

 

यह भी पढ़ें: यूपी में 18 साल से ऊपर वाले जान लें वैक्सीनेशन का नियम, रजिस्ट्रेशन का स्टेपवाइज ये है पूरा प्रॉसेस

 

कोरोना टेस्ट के बिना एजेंट को नहीं मिलेगी एंट्री

कोरोना की दूसरी लहर से बिगड़ते हालातों को देखते हुए चुनाव आयोग ने मतगणना के लिए इस बार नई व्यवस्था लागू की है। चुनाव आयोग की गाइडलाइंस के मुताबिक किसी भी प्रत्याशी, उम्मीदवार का कोई भी व्यक्ति जो एजेंट बनेगा उसे पास बनवाने के साथ ही कोरोना की गाइड लाइन का पालन करना होगा। यानी इस बार मतगणना स्थल पर वही एजेंट प्रवेश कर पाएगा जिनकी कोरोना की जांच (Coronavirus test for poling agent) हो चुकी होगी और वह कोरोना जांच में निगेटिव रहेंगे। इसके अलावा दूसरे एजेंट को पास होने के बाद भी प्रवेश नहीं दिया जाएगा। यानी हर प्रत्याशी को अपने सभी एजेंट की पहले कोरोना की जांच करानी पड़ेगी, जब उनकी रिपोर्ट निगेटिव आती है और रिपोर्ट में हाथ होगी। इसके बाद ही मतगणना (up panchayat chunav live) में प्रवेश दिया जाएगा। सोशल डिस्टेंस के साथ मतगणना के लिए टेबल लगाई जाएंगी। साथ ही मतगणना स्थल को सेनेटाइज कराया जाएगा। पास और बिना मास्क के मतगणना स्थल पर किसी की भी एंट्री नहीं हो सकेगी। प्रवेश से पहले सभी की थर्मल स्क्रीनिंग भी कराई जाएगी। मतगणना स्थलों पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम रहेंगे। सीसीटीवी से भी वोटों की गिनती पर नजर रखी जाएगी।

 

यह भी पढ़ें: स्टेट बैंक में नहीं है अकाउंट तो तुरंत खुलवा लें, SBI अपने खाताधारकों को दे रहा 2 लाख रुपये का सीधा फायदा

 

इस क्रम में होगी पंचायत चुनाव की मतगणना

पंचायत चुनाव (up zila panchayat election counting) की मतगणना (up panchayat chunav counting) के दौरान भीड़ जमा न हो इसके लिए भी चुनाव आयोग ने खास निर्देश दिये हैं। जिसके मुताबिक सबसे पहले छोटी ग्राम पंचायतों की मतणगना कराई जाएगी। इसके बाद ही बड़ी ग्राम पंचायतों की मतगणना शुरू होगी। जिन ग्राम पंचायतों की मतगणना का काम पूरा होता जाएगा, उनके रिजल्ट घोषित कर दिए जाएंगे। जिन ग्राम पंचायतों की मतगणना संपन्न होती जाएगी उनके प्रत्याशी और एजेंट मतगणना स्थल से बाहर चले जाएंगे। मतगणना स्थल के अंदर केवल उन ग्राम पंचायतों के प्रत्याशी और एजेंट रहेंगे, जिनकी मतगणना चल रही है। चक्रवार गणना चलेगी।

 

यह भी पढ़ें: कोरोनाकाल में सरकारी और प्राइवेट कर्मचारियों को मिलेगी 28 दिनों की पेड लीव, योगी सरकार ने जारी किया ये नोटिफिकेशन

 

मतगणना के दिन लॉकडाउन से समर्थक परेशान

पंचायत चुनाव (up panchayat election counting) में अपना भाग्य आजमा रहे प्रत्याशियों के समर्थक इस बात से काफी परेशान है कि दो मई (रविवार) को तो यूपी में लॉकडाउन रहता है।। ऐसे में जहां मतगणना होगी वहां या उसके आसपास कोई बैठ सकता हैं या नहीं। हालांकि अभी इस बारे में कोई गाइडलाइन जारी नहीं हुई है। लेकिन कोरोना के प्रकोप को देखते हुए मतगणना स्थल के आसपास समर्थकों के इकट्ठा होने की परमीशन मिलना मुश्किल है। क्योंकि हाईकोर्ट ने भी बेहद सख्त रुख अख्तियार करते हुए मतगणना के बाद किसी भी तरह का विजय जुलूस निकालने पर सख्त पाबंदी लगा दी है।

 

यह भी पढ़ें: यूपी में शराब की दुकानों को लेकर नया नियम लागू, अब ऐसे नहीं मिलेगी, योगी सरकार ने जारी किया आदेश

 

पंचायत चुनाव की मतगणना का करेंगे बहिष्कार

पंचायत (up panchayat) चुनाव की पोलिंग में संक्रमित हुए शिक्षकों, कर्मचारियों, अधिकारियों और उनमें से कई की मौत होने के बाद अब तमाम संगठनों की तरफ से मांग उठने लगी है कि मतगणना स्थगित कर दी जाए। शिक्षक और कर्मचारी संगठनों की तरफ से कहा जा रहा है कि संक्रमण की इस स्थिति को देखते हुए लोग डरे हैं। मतगणना (up panchayat chunav 2021) में संक्रमण की आशंका बेहद ज्यादा है। ऐसे में इसे स्थितियां सामान्य होने तक टालना ही उचित होगा। शिक्षकों ने तो मतगणना का बहिष्कार करने का ऐलान भी कर दिया है। विशिष्ट बीटीसी शिक्षक एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संतोष तिवारी के मुताबिक पंचायत चुनाव की ड्यूटी कर रहे हजारों शिक्षक संक्रमित हो चुके हैं। इसके अलावा लगभग हर जिले में 10 से 5 शिक्षकों की मौत होने की भी सूचना है। ऐसे में चुनाव आयोग मतगणना को स्थगित करे, अन्यथा हम इसका बहिष्कार करेंगे। इस चुनाव की वजह से ही संक्रमण गांवों तक भी पहुंच गया है।

 

 

यह भी पढ़ें: अस्पताल, बेड, आईसीयू और वेंटिलेटर्स यूपी में सबसे ज्यादा, फिर भी कोरोना के हर रोज 30 हजार से ज्यादा मामले

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned