महासमुंद : जेल की दीवार फांदकर पांच बंदी फरार, तलाश जारी

- लूट, डकैती और बलात्कार के हैं आरोपी, बंदियों को जेल से फरार होने की घटना के बाद जेल की सुरक्षा को सवाल उठने शुरू हो गए हैं।

By: Bhupesh Tripathi

Published: 06 May 2021, 11:40 PM IST

Mahasamund, Mahasamund, Chhattisgarh, India

महासमुंद . जिला जेल से पांच विचाराधीन बंदी गुरुवार को 3.30 बजे दीवार फांद कर फरार हो गए। बंदी लूट, डकैती और बलात्कार के आरोपी थे। बंदियों के फरार होने की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने चारों तरफ नाकेबंदी की। अभी तक किसी भी बंदी के पकड़े जाने की सूचना नहीं मिली है।

READ MORE : चोरी के कपड़ों को सजाने खोल लिया खुद का दुकान, ऐसे खुली पुलिस से सामने पोल

फरार बंदी में चार महासमुंद जिले के हैं और एक यूपी का रहने वाला है। चार आरोपियों को 2019 में और एक को 2020 में जेल में लाया गया था। जेलर आरएस सिंह ने बताया कि धनसाय पिता शोभाराम (32), डमरूधर पिता बजारू (24), राहुल पिता केदार (22), दौलत पिता मनोज (23) और करण पिता आशाराम (21) फरार हो गए हैं। बताया जाता है कि दीवार फांदकर भाग रहे थे, तब जेल प्रहरियों ने उन्हें दौड़कर पकडऩा चाहा, लेकिन वे भागने में सफल रहे।

मौके पर पहुंचे थे पुलिस अफसर
जेल से बंदियों के फरार होने की सूचना मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक प्रफुल्ल कुमार ठाकुर व अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। मौके पर वस्तुस्थिति का जायजा लिया। सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। फरार बंदी देररात तक पकड़े नहीं गए हैं। बंदियों को जेल से फरार होने की घटना के बाद जेल की सुरक्षा को सवाल उठने शुरू हो गए हैं।

READ MORE : कोविड अस्पताल के दहलीज पर डेढ़ घंटे तड़पती रही महिला, बेटे के सामने तोड़ा दम

mahasamund_jal_patrika.jpg

जेल मंत्री ने दिए जांच के निर्देश
जेल मंत्री ताम्रध्वज साहू ने महासमुंद जेल ब्रेक की जांच करने के निर्देश जेल प्रशासन को दिए है। गुरूवार को उन्होंने घटना की जानकारी मिलने पर जेल डीजी संजय पिल्लै से टेलीफोन पर बात की। इस दौरान उन्होंने घटना की बारीकी से जांच कराने और फरार होने वाले 5 कैदियों की पतासाजी के लिए टीम बनाकर त्वरित कार्रवाई करने कहा है। वहीं जेल डीआईजी केके गुप्ता ने महासमुंद जेलर रामाशंकर सिंह से रिपोर्ट मांगी है। साथ ही जेल में लगे सीसीटीवी कैमरे का फुटेज, घटना का विवरण और तैनात कर्मचारियों की जानकारी मांगी गई है।

READ MORE : किंधा है रामभक्त हनुमान की असली जन्मस्थली, जानिए क्या है सच्चाई

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned