CBSE के कक्षा 7 की बुक में जोड़ा गया मेरठ की 8 वर्षीय ईहा दीक्षित का चैप्टर, जानें कौन है येे नन्ही परी

ईहा दीक्षित लगातार 162 सप्ताह से कर रही पौधारोपण, ईहा के पर्यावरण प्रेम को सीबीएसई ने बनाया पाठ्य पुस्तक का हिस्सा

By: lokesh verma

Published: 27 Jun 2021, 03:57 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ. 8 साल की नन्हीं ईहा दीक्षित जो कि पर्यावरण प्रेमियों के बीच आज एक जाना-माना नाम है। इसके अलावा ईहा समाज के लिए भी प्रेरणा से कम नहीं है। जागृति विहार निवासी ईहा दीक्षित को अब सीबीएसई ने सम्मान दिया है। ईहा के पर्यावरण प्रेम को सीबीएसई की कक्षा सात की पाठ्य पुस्तक में छात्र पढ़ सकेंगे। बता दें कि ईहा दीक्षित लगातार 162 सप्ताह से पौधारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दे रही हैं। आठ वर्षीय ईहा की इस उपलब्धि पर परिजनों ने खुशी जताई है।

यह भी पढ़ें- पीएम मोदी ने 'मन की बात' में किया प्रियंका का जिक्र, जानें कौन है लंगर खाकर ओलंपिक तक पहुंचने वाली ये बेटी

दरअसल, बीबीसी द्वारा सीबीएसई छात्रों के लिए अंगेजी विषय में काॅम्पेक्टा सीरीज का प्रकाशन किया जाता है। कक्षा सात की इसी काॅम्पेक्टा पुस्तक में बतौर एसाइनमेंट ईहा दीक्षित के पर्यावरण कार्यों का उल्लेख किया गया है। पुस्तक के क्लासरूम एसाइनमेंट संख्या 6 में ईहा दीक्षित के पौधारोपण कार्यों की शुरुआत और चुनौतियों का वर्णन 'द लिटिल ग्रीन वाॅरियर' नाम से दिया गया है। दो पेज के इस अध्याय में ईहा के द्व़ारा पर्यावरण की दिशा में संचालित उसके 'ग्रीन ईहा स्माइल क्लब' का भी वर्णन किया गया है।

बता दें कि ईहा द्वारा पर्यावरण के लिए किए जा रहे कार्यों के कारण ही उसे सबसे कम उम्र में देश का सर्वोच्च बाल पुरस्कार प्रधानमंत्री बाल पुरस्कार भी प्रदान किया गया था। ईहा ने नवंबर 2019 में प्रधानमंत्री के कार्यक्रम मन की बात का भी प्रोमो किया था। ईहा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंस्टाग्राम पर अपनी सबसे छोटी दोस्त बताया था। सीबीएसई की पाठ्यपुस्तक में ईहा के कार्यों की जानकारी होने से अन्य बच्चे भी पर्यावरण की स्वच्छता और पौधारोपण के प्रति जागरूक हो सकेंगे।

सदर स्थित आइडियल बुक डिपो के संचालक ने बताया कि यह पुस्तक इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल गंगानगर, आईपीएस मेरठ कैंट सहित मेरठ के लगभग 15 स्कूलों के पाठ्यक्रम का हिस्सा है। अपनी इस उपलब्धि पर उत्साहित ईहा ने कहा कि पर्यावरण से अपनी उम्र के बच्चों को जोड़ने का उसका सदैव से ही प्रयास रहा है।

यह भी पढ़ें- राजधानी में बनेगा देश का पहला दिव्यांग स्टेडियम, दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग योजना को भी विस्तार

lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned