अब रोहिंग्या शरणार्थियों में कोरोना वायरस का खतरा, छोटी-छोटी झोपड़ियों में रह रहे हजारों लोग

  • हैदराबाद के शिविरों में रखे गए रोहिंग्या शरणार्थियों के सामने कोरोना वायरस की चुनौती
  • ये लोग कोरोना संक्रमण की संभावना के साथ ही भर पेट भोजन के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं

नई दिल्ली। देश भर में कोरोना वायरस ( Coronavirus ) तेजी से पैर पसारता जा रहा है। इस बीच हैदराबाद के शिविरों में रखे गए रोहिंग्या शरणार्थियों ( Rohingya Refugees ) के सामने चुनौती और बढ़ गई है।

चूंकि शिविरों में कम जगह में अधिक लोग रह रहे हैं, इसलिए ये लोग कोरोना संक्रमण ( Coronavirus in india ) के लिहाज से भी अति संवेदनशील हैं।

हालांकि ये लोग कोरोना संक्रमण या कोई अन्य बीमारी होने की संभावना के साथ ही भर पेट भोजन के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं।

वैसे अभी गनीमत है कि शरणार्थियों के बीच कोई भी कोविड-19 पॉजिटिव नहीं पाया गया है। मगर इतना जरूर है कि यहां रह रहे अधिकतर परिवार विकट परिस्थितियों का सामना कर रहे हैं।

कोरोना नेगेटिव निकली सिंगर कनिका कपूर की रिपोर्ट, डॉक्टरों ने बताया खतरे से बाहर

 

v6.png

आठ साल पहले यहां आए लगभग 6,000 शरणार्थी अभी तक के सबसे खराब संकट का सामना कर रहे हैं। लॉकडाउन के कारण उन्हें कई परेशानियां उठानी पड़ रही हैं।

समाज के अन्य गरीब और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों की तरह ही लॉकडाउन ने उनकी स्थिति व आम दिनचर्या को भी बिगाड़ दिया है।

शरणार्थियों के साथ कोरोना के प्रकोप के बीच सबसे खराब स्थिति यह है कि शिविरों में कई परिवारों को 10 गुणा 10 फीट के काफी छोटे तिरपाल में रहना पड़ रहा है।

दिहाड़ी मजदूरी व सब्जी बेचकर आजीविका कमाने वाले शरणार्थी अपने घरों तक ही सीमित होकर रह गए हैं, जिससे उनके साथ बड़ा आर्थिक संकट भी गहराया है।

कोरोना वायरस: किंग खान की मदद पर ममता बनर्जी ने जाहिर की खुशी, बोलीं— हेल्प के लिए थैंक्स

 

v4.png

अपनी भूख को शांत करने के लिए इनके पास पैसे नहीं हैं। शरणार्थी पूरी तरह से गैर-सरकारी संगठनों और दान समूहों पर निर्भर हैं।

हैदराबाद के बालापुर और अन्य शिविरों में रह रहे लोगों के बीच डर साफ तौर पर दिखाई दे रहा है। अन्य झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों की तरह, सामाजिक भेद उनके लिए अव्यावहारिक है।

करीब 1400 शरणार्थी परिवारों के बीच राशन वितरित करने वाली एक स्वयंसेवी संस्था कॉन्फेडरेशन ऑफ वॉलंटरी एसोसिएशंस (कोवा) के निदेशक मजहर हुसैन ने कहा, 10 गुणा 10 या 10 गुणा 15 (वर्ग फुट) की झोपड़ियों में रहने वाले परिवारों के लिए भला क्या सामाजिक दूरी होगी।

कोविड-19: सीएसआईआर के वैज्ञानिकों को नई किट विकसित करने में मिली बड़ी सफलता

 

v.png

उन्होंने कहा, सिर्फ शरणार्थी ही नहीं, बल्कि चार से छह लोगों के किसी भी गरीब परिवार को अपना पूरा जीवन एक छोटे से कमरे में गुजारना पड़ता है।

यहां तक कि मध्यम वर्ग के परिवार भी सामाजिक दूरी का पालन नहीं कर सकते हैं। उनका मानना है कि शरणार्थियों के कोरोनावायरस से ग्रस्त होने की संभावना नहीं हैं, क्योंकि वे न तो विदेश यात्रा करते हैं और न ही विदेश से लौटे लोग उनसे मिलते हैं।

मगर एक एक अन्य सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा कि कुछ शरणार्थी तब्लीगी जमात के लिए काम करते हैं।

कोरोना से जंग के लिए सरकार का एक्शन प्लान, चेहरा ढक कर निकलने की एडवाइजरी जारी

 

v1.png

तबलीगी जमात की हाल ही में दिल्ली में हुई बैठक में शामिल सैकड़ों लोगों को कोरोना संक्रमित पाया गया है। इसलिए इस लिहाज से इन लोगों के लिए यह बात खतरनाक साबित भी हो सकती है।

हालांकि शरणार्थी देश के भीतर भी यात्रा करने से बचते हैं, इसलिए उनमें से किसी के भी दिल्ली की बैठक में शामिल होने की संभावना कम ही है।

जम्मू एवं कश्मीर में 10,000 से अधिक रोहिंग्या रह रहे हैं। जम्मू में 1,500 पंजीकृत रोहिंग्या शरणार्थी परिवार हैं। उनका कहना है कि वे बेहतर आजीविका कमाने के लिए जम्मू आए हैं।

लेकिन वैश्विक महामारी के समय में जम्मू यह सुनिश्चित करने के लिए मदद कर रहा है कि समाज के लोगों की पीड़ाओं को कम किया जा सके।

केंद्रीय विद्युत मंत्रालय का बयान— 9 मिनट के लिए बत्ती बन्द करने से नहीं होगा पॉवर फेल

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned