करतारपुर कॉरिडोर : रोजाना 5 हजार श्रद्धालुओं को भेजने की मांग पाकिस्तान ने मानी

करतारपुर कॉरिडोर : रोजाना 5 हजार श्रद्धालुओं को भेजने की मांग पाकिस्तान ने मानी

Prashant Kumar Jha | Publish: Jul, 14 2019 04:03:00 PM (IST) | Updated: Jul, 17 2019 01:00:29 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

  • Kartarpur Corridor पर भारत ने पाकिस्तान को डोजियर सौंपा
  • सिख समुदाय की मांग को पाकिस्तान के सामने रखा
  • कई मुद्दों पर दोनों देशों के बीच सहमति

नई दिल्ली। करतारपुर कॉरिडोर को ( Kartarpur Corridor ) लेकर एक बार फिर भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत ( India-Pakistan Talks ) का रास्ता खुला। रविवार को अटारी वाघा बॉर्डर पर इस कॉरिडोर पर जारी तनाव को दूर करने के लिए नई दिल्ली और इस्लामाबाद के अधिकारियों के बीच मैराथन बैठक हुई। भारत ने पाकिस्तान से कॉरिडोर का काम जल्द पूरा करने की अपील की। भारत ने पाकिस्तान से नवंबर 2019 तक इस कॉरिडोर को श्रद्धालुओं के लिए खोल देने को कहा। गौरतलब है कि नवंबर में गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती मनाई जाएगी।

करीब चार घंटों तक चली बैठक में पाकिस्तान ने करीब-करीब मुद्दों पर सहमति जताई। हालांकि कुछ मुद्दों पर बात नहीं बन पाई। भारत चाहता है कि करतारपुर कॉरिडोर ( Kartarpur Corridor ) साल भर खुले। साथ प्रवासी भारतीयों को भी दर्शन करने का मौका मिले। लेकिन पाकिस्तान इसको लेकर तैयार नहीं हो रहा।

बैठक में भारत की ओर से संयुक्त सचिव एससीएल दास और दीपक मित्तल मौजूद रहे। वहीं पाकिस्तान की ओर से विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल शामिल थे।

श्रद्धालुओं की सुरक्षा सुनिश्चित की जाएं

बैठक में भारत ने रोजना 5 हजार श्रद्धालुओं की यात्रा करने का मु्द्दा उठाया। साथ ही भारत ने खास मौके पर 10 हजार श्रद्धालुओं को भेजने की बात कही । इस पर पाकिस्तान राजी हो गया। साथ ही भारत ने श्रद्धालुओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग उठाई। भारत ने करतारपुर साहिब का गलत इस्तेमाल नहीं होने का भी मुद्दा उठाया ।

ये भी पढ़ें: करतारपुर पर बैठक से पहले दबाव में पाकिस्तान, खालिस्तान समर्थक गोपाल सिंह चावला की छुट्टी

खालिस्तान समर्थकों पर दो टूक

भारत पाकिस्तान के बीच द्वीपक्षीय बातचीत में ( India-Pakistan bilateral meeting ) भारतीय विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव एससीएल दास ने सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी में खालिस्तान समर्थक गोपाल चावला को जोड़ने को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी आपत्ति जताई। उन्होंने कहा कि खालिस्तानी समर्थकों का प्रवेश कतई मंजूर नहीं है। हालांकि पाकिस्तान ने गोपाल चावला को समिति से बाहर कर दिया है। पिछली बार कॉरिडोर कमेटी में गोपाल सिंह चावला को शामिल करने पर भारत ने सख्त नाराजगी जताई थी। इस मामले को लेकर ही भारत ने पिछली बार बैठक को रद्द कर दिया था।

ये भी पढ़ें: करतारपुर कॉरिडोर के बारे में सबकुछ, आस्था से विवाद तक का सफर

80 फीसदी मुद्दों पर सहमति- पाकिस्तान

बैठक के बाद पाकिस्तान की ओर से विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉ. मोहम्मद फैसल ने कहा कि 80 फीसदी मुद्दों पर दोनों देशों के बीच सहमति बनी है। फैसल ने कहा कि कतारपुर कॉरिडोर के लिए पाकिस्तान पूरा सहयोग कर रहा है। 70 प्रतिशत से अधिक निर्माण कार्य पूरा हो गया है।

नदी पर पाकिस्तान बनवाए पुल

करतारपुर कॉरिडोर पर हुई बैठक में भारत ने रावी नदी पर पाकिस्तान से पुल बनाने की मांग की। जिसपर पाकिस्तान ने हामी भरी। भारत ने कहा कि वह नदी पर अपनी तरफ पुल तैयार करवा रहा है। साथ ही वह पड़ोसी देश से उम्मीद करता है कि वह भी ऐसा ब्रिज का निर्माण कराए। भारत को आशंका है कि अगर पाकिस्तान नदी पर पुल नहीं बनाएगा तो डेरा बाबा नानक और आसपास के इलाकों में बाढ़ आ जाएगी। जिससे श्रद्धालुओं को खासी परेशानी होगी।

ये भी पढ़ें: करतारपुर कॉरिडोर को लेकर बातचीत जारी, बारिश की वजह से वाघा बॉर्डर पर देर से शुरू हुई मीटिंग

भारत ने गुरुद्वार की जमीन अधिग्रहण का मुद्दा उठाया। भारत ने कहा कि गुरुद्वारे की जमीन को हड़पने की कोशिश की गई है। इससे तत्काल खाली किया जाए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned