यूपी पुलिस के इस इंस्पेक्टर ने बचाई दो बच्चों की जान, हर कोई कर रहा सलाम, देखें वीडियो-

तांत्रिक के कहने पर दो मासूमों की बलि देने जा रहे शख्स को मौके से किया गिरफ्तार

By: lokesh verma

Published: 09 Feb 2018, 01:25 PM IST

रामपुर. यूपी पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर जहां आए दिन सवाल उठते हैं। वहीं रामपुर की मिलक कोतवाली के इंस्पेक्टर ने दो मासूमों की जिंदगी बचाकर पूरे महकमे का सिर गर्व से उंचा कर दिया है। दरअसल, जिले के किरमचा गांव से दो बच्चे गायब हो गए थे। मिलक कोतवाल धर्मेंद्र यादव को जैसे ही दोनों बच्चों की बलि देने की सूचना मिली तो तुरंत मौके पर पहुंच गए और आरोपी को गिरफ्तार करते हुए मासूमों को बचा लिया।

यह भी पढ़ें- टेरर फंडिंग केस: लश्कर-ए-तैयबा के फाइनेंसर दो सर्राफा व्यापारी मुजफ्फरनगर से गिरफ्तार

यह भी पढ़ें- द बर्निंग ट्रेन बनी जनसाधारण एक्सप्रेस, यात्रियों में भगदड़, देखें वीडियो-

दरअसल बीते बुधवार सुबह ग्राम किरमचा से एक शख्स का 8 वर्षीय बेटा और 6 वर्षीय बेटी अचानक गायब हो गए थे। काफी तलाशने के बाद जब बच्चे नहीं मिले तो पीड़ित ने मिलक कोतवाली में बच्चों की गुमशुदी की रिपोर्ट दर्ज कराई। इसके बाद पुलिस बच्चों को तलाश में जुट गई और शाम 7 बजे के करीब दोनों बच्चों को सकुशल बरामद कर लिया गया।

यह भी पढ़ें- नव विवाहित जोड़ों ने एक दूजे से ऐसे किया प्यार का इजहार, जिसे सुनकर हंस-हंसकर आप हो जाएंगे लोट-पोट

क्राइम ब्रांच की टीम ने इनामी बदमाश राजीव को किया गिरफ्तार, वीडियो देखने के लिए क्लिक करें-

एडिशनल एसपी सुधा सिंह ने बताया कि शकील नाम के एक शख्स का भतीजा काफी समय से बीमार था। वहीं उसकी कोई ओलाद भी नहीं है। किसी तांत्रिक ने उससे कहा था कि अगर तू एक साथ किसी के बेटे और बेटी की बलि दे देगा तो निश्चित तौर पर तेरी पत्नी को औलाद होगी और तेरा भतीजा भी हमेशा के लिए ठीक हो जाएगा। यह सुनकर शकील ने अपने ही रिश्तेदार के दो बच्चों का अपहरण कर लिया और जंगल में ले जाकर उनकी बलि देने की योजना बनाई। वह चाकू से दोनों बच्चों की बलि देने ही वाला था कि उसे गांव के एक युवक ने देख लिया और कोतवाल धर्मेंद यादव को सूचित कर दिया।

यह भी पढ़ें- खुश था वह उसके पेपर अच्छे हो रहे थे, आज परीक्षा देने घर से निकला, लेकिन...

ताजमहल पर आजम के इस बयान से खुश हो जाएंगे भाजपा नेता और हिंदू संगठन, वीडियो देखने के लिए क्लिक करें-

सूचना मिलते ही धर्मेंद्र यादव पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे तो आरोपी शकील भागने लगा। पुलिस ने पीछा कर उसे गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद शकील को कोतवाली लाकर पूछताछ की गई तो उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया। इधर बच्चों के घर लौटने पर बच्चों के परिजन बेहद खुश हैं। उन्होंने बताया कि कोतवाल धर्मेंद्र यादव समय पर घटना स्थल पर नहीं पहुंचते तो आज उनके बच्चे उनके बीच न होते। उन्होंने पुलिस का शुक्रिया अदा करते हुए धर्मेंद्र यादव की लंबी उम्र की कामना की।

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned