BMC अरे बापरे ! एक गड्ढे को भरने के लिए 2 लाख 3 हजार रूपये खर्च

BMC अरे बापरे ! एक गड्ढे को भरने के लिए 2 लाख 3 हजार रूपये खर्च
BMC अरे बापरे ! एक गड्ढे को भरने के लिए 2 लाख 3 हजार रूपये खर्च

Nagmani Pandey | Updated: 10 Sep 2019, 04:21:15 PM (IST) Mumbai, Mumbai, Maharashtra, India

अरे बापरे ! एक गड्ढे को भरने के लिए 2 लाख 3 हजार रूपये खर्च

जून से अगस्त तक भरे गए दो हजार 648 खड़े

अप्रैल से जुलाई 2019 तक गड्ढों के सन्दर्भ में 2661 शिकायते ऑनलाईन प्राप्त

 


मुंबई . बीएमसी (BMC )का दावा है कि वह मुंबईकरों को सड़कों पर परेशानी से मुक्त आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है. लेकिन जमीनी स्तर पर पिछले साल की तुलना में कोई खास बदलाव नजर नहीं आ रहा है. हालांकि बीएमसी का दावा है कि वो मुंबई सड़कों पर पड़े गड्ढो को लगभग 90 प्रतिशत भरा जा चूका है. बीएमसी के दावों के मुताबिक 10 जून से 1 अगस्त 2019 तक 2648 गड्ढो में से 2334 को भरा जा चूका है वहीँ सिर्फ 414 गड्ढे को भरना बाकी है. मगर बीएमसी की दावों की पोल एक आरटीआय से खुल गई है। मुंबई महानगरपालिका ( BMC ) बंक से 2014 से अबतक मुंबई की सडको पर पड़े गड्ढो के सन्दर्भ में जानकारी आरटीआय कार्यकर्त्ता शकील अहमद शेख ने मांगी थी इस सन्दर्भ में सहाय्यक अभियंता तथा सुचना अधिकारी . य. प. जुन्नरकर ने सुचना उपलब्ध कर देते हुए बताया है कि 2013 से 31 जुलाई 2019 तक मुंबई की सडको पर गड्ढो की कुल 24146 ऑनलाईन शिकायतें प्राप्त हुई है. तथा कुल 23388 गड्ढों को भरा जा चूका है. मगर जैसा की बीएमसी ने दावा है कि, 10 जून से 1 अगस्त 2019 तक 2648 गड्ढो में से 2334 को भरा जा चूका है वहीँ सिर्फ 414 गड्ढे को भरना बाकी है. मगर आरटीआय से प्राप्त सुचना के अनुसार 1 अप्रैल 2019 से 31 जुलाई 2019 तक गड्ढों के सन्दर्भ में कुल 2661 शिकायते ऑनलाईन प्राप्त हुई है. जिसमे से 2462 गड्ढों को भरा जा चूका है. और महज 199 गड्ढें भरने बाकी है | शेख के मुताबिक हर साल गड्ढे भरने के लिए करोडों रूपये खर्च किये जाते है. मगर गड्ढे जस के तस रहते है. जिसके कारण गड्ढों में गिरने से कई लोगों की मौत हो जाती है. एक तरफ मुंबई महानगरपालिका शतप्रतिशत गड्ढे भरने का दावा तो करता है. मगर सडको पर गड्ढे है या फिर गड्ढे में सड़क, कहना बहुत ही मुश्किल है. बीएमसी सिर्फ शिकायत किये गड्ढों को भरती है. जबकि बीएमसी के अधिकारीयों की जिम्मेदारी है कि, प्रतिदिन उनके प्रभाग में स्वयं निरिक्षण करे और गड्ढो को समय रहते भरते रहें. शकील अहमद शेख ने मनपा आयुक्त प्रवीण परदेशी से मांग की है कि, पारदर्शिता लाने के लिए गड्ढे भरने की एवं खर्च की जानकारी मनपा के संकेतस्थल पर प्रतिदिन अपडेट करवाएं, जिससे लोगों को सही जानकारी प्राप्त हो सके |गौरतलब है कि, मुंबई की सड़कों पर पड़े गड्ढों को भरने के लिए 2013 से 2019 तक कुल 175 करोड़ 51 लाख 86 हजार अनुमानित बजट था एवं कुल गड्ढे भरने के लिए अब तक कुल 113 करोड़ 84 लाख 77000 हजार रूपये खर्च किये गए है |

वर्षानुसार प्राप्त ऑनलाईन शिकायतें एवं करवाई

अप्रैल 2013 से 31 मार्च 2014 तक कुल 2300 गड्ढों की शिकायतें प्राप्त हुई एवं 2268 गड्ढों को भरा गया, महज 32 गड्ढे भरने बाकी.
अप्रैल 2014 से 31 मार्च 2015 तक कुल 2093 गड्ढों की शिकायतें प्राप्त हुई एवं 2098 गड्ढों को भरा गया, यहाँ पर चौकाने वाली बात यह है कि, प्राप्त शिकायतों से 5 गड्ढे ज्यादा भरे गए.
अप्रैल 2015 से 31 मार्च 2016 तक कुल 1593 गड्ढों की शिकायतें प्राप्त हुई एवं 1583 गड्ढों को भरा गया, महज 15 गड्ढे भरने बाकी.
अप्रैल 2016 से 31 मार्च 2017 तक कुल 6544 गड्ढों की शिकायतें प्राप्त हुई एवं 6098 गड्ढों को भरा गया, महज 446 गड्ढे भरने बाकी.
अप्रैल 2017 से 31 मार्च 2018 तक कुल 4045 गड्ढों की शिकायतें प्राप्त हुई एवं 3981 गड्ढों को भरा गया, महज 64 गड्ढे भरने बाकी.
अप्रैल 2018 से 31 मार्च 2019 तक कुल 4910 गड्ढों की शिकायतें प्राप्त हुई एवं 4898 गड्ढों को भरा गया, महज 12 गड्ढे भरने बाकी.
अप्रैल 2019 से 31 जुलाई 2019 तक कुल 2661 गड्ढों की शिकायतें प्राप्त हुई एवं 2462 गड्ढों को भरा गया, महज 199 गड्ढे भरने बाकी

वर्षानुसार अनुमानित बजट एवं खर्च

अप्रैल 2013 से 31 मार्च 2014 अनुमानित बजट 50 करोड़, खर्च 46 करोड़ 25 लाख 97 हजार
अप्रैल 2014 से 31 मार्च 2015 अनुमानित बजट 39 करोड़ 24 लाख, 26 हजार, खर्च 34 करोड़ 16 लाख 92 हजार
अप्रैल 2015 से 31 मार्च 2016 अनुमानित बजट 35 करोड़, खर्च 10 करोड़ 61 लाख 27 हजार
अप्रैल 2016 से 31 मार्च 2017 अनुमानित बजट 9 करोड़ 5 लाख, 86 हजार, खर्च 6 करोड़ 94 लाख 97 हजार
अप्रैल 2017 से 31 मार्च 2018 अनुमानित बजट 10 करोड़ 50 लाख, खर्च 7 करोड़ 73 लाख 22 हजार
अप्रैल 2018 से 31 मार्च 2019 अनुमानित बजट 11 करोड़ 70 लाख, खर्च 7 करोड़ 98 लाख 7 हजार
अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2020 अनुमानित बजट 40 करोड़ खर्च अबतक 14 लाख 35 हजार

किस वर्ष कितने रूपये खर्च हुए एक गड्ढा भरने के लिए
वर्ष 2013-2014 में 2268 गड्ढे भरने के लिए 46 करोड़ 25 लाख 97 हजार रूपये खर्च किये गए है. इस हिसाब से एक गड्ढा को भरने के लिए औसतन 2 लाख 3 हजार 966 रूपये खर्च हुए है.
वर्ष 2014-2015 में 2098 गड्ढे भरने के लिए 34 करोड़ 16 लाख 92 हजार रूपये खर्च किये गए है. इस हिसाब से एक गड्ढा को भरने के लिए औसतन 1 लाख 67 हजार 632 रूपये खर्च हुए है.
वर्ष 2015-2016 में 1583 गड्ढे भरने के लिए 10 करोड़ 61 लाख 27 हजार रूपये खर्च किये गए है. इस हिसाब से एक गड्ढा को भरने के लिए औसतन 67 हजार 41 रूपये खर्च हुए है.
वर्ष 2016-2017 में 6098 गड्ढे भरने के लिए 6 करोड़ 94 लाख 97 हजार रूपये खर्च किये गए है. इस हिसाब से एक गड्ढा को भरने के लिए औसतन 11 हजार 396 रूपये खर्च हुए है.
वर्ष 2017-2018 में 3981 गड्ढे भरने के लिए 7 करोड़ 73 लाख 22 रूपये खर्च किये गए है. इस हिसाब से एक गड्ढा को भरने के लिए औसतन 19 हजार 417 रूपये खर्च हुए है.
वर्ष 2018-2019 में 4898 गड्ढे भरने के लिए 7 करोड़ 98 लाख 7 रूपये खर्च किये गए है. इस हिसाब से एक गड्ढा को भरने के लिए औसतन 16 हजार 292 रूपये खर्च हुए है

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned