scriptChina's PLA building infrastructure across Arunachal Pradesh border | बॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीन | Patrika News

बॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीन

भारतीय सेना के पूर्वी कमान के प्रमुख ने सोमवार को दावा किया कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी अब अरुणाचल प्रदेश से सटी सीमा के करीब अपनी तरफ तेजी से बुनियादी ढांचे को विकसित करने में जुटी है।

नई दिल्ली

Updated: May 17, 2022 07:54:30 am

भारतीय सेना के पूर्वी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल आर पी कलिता ने सोमवार को कहा कि चीन की ‘पीपुल्स लिबरेशन आर्मी’ (PLA) अरुणाचल प्रदेश के पास लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा है। चीन अरूणाचल प्रदेश सीमा के पास कंस्ट्रक्शन का काम तेजी से कर रहा है। हालांकि, कलिता ने ने साथ ही कहा कि भारतीय पक्ष भी सीमा के पास हर प्रकार की संभावित स्थिति से निपटने की तैयारी के तहत अपने बुनियादी ढांचे को लगातार उन्नत कर रहा है।
बॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीन
बॉर्डर पर चीन की नई चाल, अरुणाचल सीमा पर तेजी से बुनियादी ढांचा बढ़ा रहा चीन
कमांडिंग-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के उस पार तिब्बत क्षेत्र में काफी तेजी से इन्फ्रास्ट्रक्चर को विकसित किया जा रहा है। चीन लगातार अपनी सड़कों और रेल-हवाई मार्ग को बढ़ाने का काम कर रहा है। इसलिए वे किसी भी हालात से निपटने या सेना तैनात करने के लिहाज से बेहतर स्थिति में हैं।"
सीमा के पास भारतीय सेना भी अपने बुन्यादी ढांचे और क्षमताओं को लगातार विकसित कर रहा है। कलीता ने कहा कि चीनी अधिकारियों ने सीमा के करीब गांवों को दो तरह से प्रयोग करने के हिसाब से विकसित किया है। लेकिन हम लगातार उसकी हरकतों की निगरानी कर रहे हैं। हम भी लगातार अपनी तरफ इन्फ्रास्ट्रक्चर और क्षमताओं को बढ़ा रहे हैं, ताकि आगे आने वाली किसी भी स्थिति को ठीक ढंग से संभाला जा सके। उन्होंने हमें मजबूत स्थिति में होने का कारण दिया है।

यह भी पढ़ें

कर्नाटक: हथियारों के साथ बजरंग दल कार्यकर्ताओं के ट्रेनिंग कैम्प की फोटोज वायरल, कांग्रेस ने उठाए सवाल

साथ ही भारतीय थलसेना के कमांडर ने कबूल किया है कि सीमावर्ती स्थलों पर क्षमताओं और बुनियादी ढांचे को विकसित करने में दुर्गम स्थल और खराब मौसम सबसे बड़ी चुनौती हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय थलसेना 'उच्च स्तर की अभियानगत तैयारियों' के साथ पूरी तरह तैयार है।
आपको बताते चलें, बीआरओ के 63वें स्थापना दिवस के अवसर पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था, "हाल के दिनों में उत्तरी सेक्टर में चीनी उपस्थिति बढ़ी है। पर्वतीय क्षेत्रों में निर्माण में अपनी दक्षता के कारण, वे बहुत जल्द विभिन्न स्थानों तक पहुंचने का प्रबंधन करते हैं।" उन्होंने ये भी कहा कि भारत की सीमाओं की रक्षा करने वालों को अधिकतम सुविधाएं प्रदान करना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। सीमावर्ती क्षेत्रों का विकास सरकार की 'व्यापक रक्षा रणनीति' एक प्रमुख हिस्सा है। यह देश के समग्र सुरक्षा तंत्र को मजबूत करेगा।

यह भी पढ़ें

जातिगत जनगणना: भाजपा के विरोध के बावजूद सीएम नीतीश कुमार बिहार में जल्द बुलाएंगे सर्वदलीय बैठक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.