बीवी ने रात के खाने में नहीं बनाई सब्जी तो पति ने घोंट दिया उसका गला, गुमराह करने रस्सी से लटकाया

खैरमखुर्द पुलिस चौकी के चरखापारा यादव मोहल्ले के रहने वाले श्रीकांत यादव की 2013 में गीता यादव से शादी हुई थी। शादी के बाद आरोपी आये दिन पत्नी से मारपीट करता रहता था। जिसकी शिकायत पत्नी ने अपने मायके वालों से की।

रायगढ़. पति-पत्नी के बीच झगडे की बहुत सी वजह सुनी होगी लेकिन हम एक आपको एक ऐसा मामला बताने जा रहे हैं। जहां एक पति ने अपनी पत्नी को सिर्फ इस बात के लिए जान से मार दिया क्योंकि उसने रात के खाने में सब्जी नहीं बनाई थी। यही नहीं उसने पत्नी हत्या के बाद उसकी मौत को आत्महत्या का रंग देने का प्रयास भी किया।

मेरा बेटा किन्नर नहीं है बस उसे लड़कियों की जगह लड़के अच्छे लगते हैं, उसके लिए ले आउंगी दूल्हा

जानकारी के अनुसार, खैरमखुर्द पुलिस चौकी के चरखापारा यादव मोहल्ले के रहने वाले श्रीकांत यादव की 2013 में गीता यादव से शादी हुई थी। शादी के बाद आरोपी आये दिन पत्नी से मारपीट करता रहता था। जिसकी शिकायत पत्नी ने अपने मायके वालों से की।

नशे में धुत्त दो महिलाओं ने रची थी अपहरण और रेप की झूठी कहानी, पांच लोग हुए थे गिरफ्तार

जिसके बाद एक सामाजिक बैठक में उसे लोगों ने समझाया और ऐसा आचरण नहीं करने को कहा, लेकिन उसके व्यवहार में कोई बदलाव नहीं आया। 27 नवम्बर को रात में जब आरोपी खाना खाने बैठा तो थाली में सब्जी ना पाए कर भड़क गया।

मिन्नतों के बाद पैदा हुआ था अमनदीप, मौत के 48 घंटे बाद अर्थी उठी तो-चीख पुकार से कांप गयी कालोनी

वो इसकदर नाराज हुआ की पहले तो उसने पत्नी को बुरी तरह पीटा और बाद में उसका गला दबा कर हत्या कर दी और उसे आत्महत्या का रूप देने के लिए उसे रस्सी से टांग दिया। पुलिस भी इसे प्रारम्भिक तौर पर आत्महत्या का ही मामला मान रही थी।

सेन्ट्रल जेल में दो गुटों के बीच खुनी संघर्ष, गिलास से बनाया था धारदार हथियार

लेकिन राज का खुलासा तब हुआ जब पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आया। रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने आरोपी से कड़ाई से पूछताछ की। जिसके बाद आरोपी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया और पुलिस को पूरी बात बताई। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

ये भी पढ़ें: थाली में तीन रोटी नहीं परोसने के पीछे की ये वजह बिलकुल नहीं जानते होंगे आप, सच जान खिसक जायेगी पैरों तले जमीन

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned