पेगासस जासूसी : छत्तीसगढ़ में काम कर रहे चार से अधिक लोगों की हो रही फोन टैपिंग

- द वायर वेबसाइट का दावा, शुभ्रांशु चौधरी, बेला भाटिया और आलोक शुक्ला के नाम आए सामने.

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 21 Jul 2021, 10:50 AM IST

रायपुर। पेगासस साफ्टवेयर के जरिए जासूसी मामले में छत्तीसगढ़ से भी चार से अधिक नाम सामने आ रहे हैं। द वायर वेबसाइट के मुताबिक बस्तर के कार्यकर्ता शुभ्रांशु चौधरी, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में कार्य करने वाली बेला भाटिया, और छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन समिति के आलोक शुक्ला सहित अन्य का नाम शामिल हैं। वर्ष 2019 से इसकी निगरानी करने की जानकारी सामने आ रही है।

READ MORE : छत्तीसगढ़ सरकार का बड़ा फैसला: 2 अगस्त से खुलेंगे कॉलेज और 10वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के लिए स्कूल

बस्तर के सामाजिक कार्यकर्ता शुभ्रांशु चौधरी का कहना है कि यह युद्ध क्षेत्र में काम करते हैं। हम पर दोनों तरफ से नजर रखी जाती है, लेकिन सरकार से यह आशा नहीं थी। उनका कहना है कि यदि केंद्र सरकार कानूनी रूप से नजर रखें तो कोई बात नहीं, लेकिन दुखद है कि यदि कानून बनाने वाले खुद कानून तोडऩे में लगे, तो उन्हें कौन बचाएगा।

READ MORE : सुकमा में नक्सलियों ने 34 आदिवासियों का किया अपहरण, आंकड़ों में उलझी पुलिस

उन्होंने कहा, हमारे पास छिपाने को कुछ नहीं है। हम तो शांति की बात करते हैं। छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन समिति से जुड़े आलोक शुक्ला का कहना है, हम पर तो 2019 से नजर रखी जा रही है। वाट्सऐप ने तो हमें इसकी जानकारी भी दी थी। शुक्ला का दावा है कि छत्तीसगढ़ से छह से सात लोगों पर नजर रखी जा रही है।

READ MORE : गड़बड़ी : धान के उन्नत बीज के साथ मिलावट, किसानों को हुआ लाखों का नुकसान

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned