छत्तीसगढ़ सरकार का बड़ा फैसला: 2 अगस्त से खुलेंगे कॉलेज और 10वीं से 12वीं तक की कक्षाओं के लिए स्कूल

School open in Chhattisgarh 2021: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) की अध्यक्षता में हुई मैराथन बैठक में आंगनबाड़ी केंद्रों और स्कूल-कॉलेजों को कुछ शर्तों के साथ खोलने का बड़ा फैसला लिया गया है।

By: Ashish Gupta

Published: 21 Jul 2021, 09:43 AM IST

रायपुर. School open in Chhattisgarh: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) की अध्यक्षता में हुई मैराथन बैठक में आंगनबाड़ी केंद्रों और स्कूल-कॉलेजों को कुछ शर्तों के साथ खोलने का बड़ा फैसला लिया गया है। छत्तीसगढ़ के सभी आंगनबाड़ी केंद्र 26 जुलाई से संचालित होंगे। बच्चों की संख्या के हिसाब से आंगनबाड़ी केंद्रों का संचालन दो पालियों में होगा। वहीं विद्यार्थियों की 50 फीसदी उपस्थिति के साथ कॉलेज और 10वीं-12वीं की कक्षाएं 2 अगस्त से शुरू होंगी। जहां कोरोना संक्रमण की दर शून्य है, वहां प्राइमरी स्कूल खोलने का फैसला स्थानीय स्तर पर लिया जाएगा। इसके लिए जल्द ही गाइडलाइन भी जारी होगी।

यह भी पढ़ें: 1 अगस्त से शुरू होंगे इस यूनिवर्सिटी में एडमिशन, ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे छात्र

सरकार के प्रवक्ता व मंत्री रविन्द्र चौबे ने बताया कि मंत्रिपरिषद की 38वीं बैठक में 38 से ज्यादा प्रस्तावों पर चर्चा हुई। इसमें 33 प्रस्तावों को मंजूरी मिली है। इसमें स्कूल-कॉलेज खोलने का फैसला सबसे महत्वपूर्ण है। प्रदेश के विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए 2 अगस्त से कक्षाएं शुरू होंगी। पहले, अंतिम वर्षों के विद्यार्थियों से कक्षाओं की शुरुआत होगी। समस्त संकायों की कक्षाओं के लिए पूर्व से संचालित ऑनलाइन कक्षाएं भी पहले की तरह संचालित होंगी। कोविड-19 के सुरक्षा मानकों का ध्यान रखा जाएगा।

अनिवार्य नहीं होगी उपस्थिति
मंत्री चौबे ने बताया राज्य के सभी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई), मेडिकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज, पॉलीटेक्निक चरणबद्ध रूप से खोले जाएंगे। कॉलेजों में विद्यार्थियों की उपस्थिति की अनिवार्यता नहीं होगी है।

यह भी पढ़ें: कोरोना संकट के बीच जीका वायरस का खतरा: छत्तीसगढ़ में अलर्ट जारी, जानें लक्षण और बचाव

पालकों की सहमति जरूरी
10वीं और 12वीं के कक्षाएं 50 फीसदी उपस्थिति के साथ शुरू होगी। इसके लिए पालकों की सहमति आवश्यक होगी। मंत्री चौबे के मुताबिक प्राइमरी स्कूल खोलने के लिए ग्राम पंचायतें पालकों के परामर्श से स्कूलों के संचालन का निर्णय ले सकेंगी। इसी प्रकार शहरी क्षेत्रों में स्कूलों के संचालन के संबंध में स्थानीय पार्षद एवं पालकों की सहमति से निर्णय लिया जाएगा।
बस्तर संभाग में 8वीं से 12वीं तक की अनुमति

बस्तर संभाग के सातों जिलों में आश्रम, छात्रावास और पोटा केबिन (कक्षा 8वीं से 12वीं तक के बच्चों) को प्रारंभ करने के बस्तर संभागायुक्त के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। बस्तर संभाग के जिला सुकमा, बीजापुर और नारायणपुर में कुल 320 आश्रम एवं 118 छात्रावास संचालित हैं। इसके अलावा बस्तर संभाग के शेष चार जिलों में जिला मुख्यालय से भिन्न संचालित छात्रावास एवं आश्रम को भी संचालित करने की अनुमति दी गई है।

यह भी पढ़ें: तीसरी लहर में कुपोषित बच्चों को सुरक्षित रखना बड़ी चुनौती, इन बातों का रखें ध्यान

नवा रायपुर में बनेगा विश्व स्तरीय शिक्षण संस्थान
मंत्रिपरिषद ने नया रायपुर में विश्व स्तरीय शिक्षण संस्थान की स्थापना को मंजूरी दी है। इसके लिए नवा रायपुर में 20 एकड़ भूमि स्कूल शिक्षा विभाग को नि:शुल्क आवंटित की जाएगी। इस संस्थान के निर्माण के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल 15 करोड़, छत्तीसगढ़ राज्य ओपन स्कूल 10 करोड़ और व्यावसायिक परीक्षा मंडल 25 करोड़ रुपए की राशि देगा।

शुरू होगी मुख्यमंत्री सस्ती दवा योजना
आम जनता को सस्ती दवा उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री सस्ती दवा योजना की शुरुआत होगी। इसके लिए सभी 28 जिलों में सस्ती दवा दुकान खोली जाएंगी। इसके जरिए जनता को सस्ती दर में जेनरिक दवा उपलब्ध कराई जाएगी।

यह भी पढ़ें: खतरा बरकरार: एमपी, यूपी समेत 7 राज्यों में जितने मरीज मिले, उतने अकेले छत्तीसगढ़ में

नि:शुल्क राशन नवम्बर तक
बैठक में छत्तीसगढ़ खाद्य एवं पोषण सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत जारी राशन कार्डों पर प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के समकक्ष जुलाई 2021 से नवम्बर 2021 तक नि:शुल्क राशन देने का भी फैसला लिया गया। इसका लाभ सामान्य श्रेणी के राशनकार्डधारियों को नहीं मिलेगा।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned