International Nurse Day : नर्सों ने की देश से कोरोना महामारी खत्म करने की प्रार्थना, जानिये इस दिन का महत्व और इतिहास

आज नर्स डे है नर्सो ने रतलाम के शासकीय मुख्य चिकित्सालय में कोरोना से मुक्ति के लिये प्रभु यीशू से की प्रार्थना।

 

By: Faiz

Updated: 12 May 2021, 06:56 PM IST

रतलाम/ हर साल 12 मई को इंटरनेशनल नर्स-डे ( International Nurses Day 2021 ) यानी अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर मध्य प्रदेश के रतलाम में स्थित शासकीय मुख्य चिकित्सालय के बागीचे में इकट्ठे होकर अस्पताल की नर्सों ने देश में बेकाबू हो रहे कोरोना संक्रमण को खत्म करने की प्रभु यीशु से प्रार्थना की। नर्सो ने प्रार्थना करते हुए कहा कि, प्रभु ही हमें इस वैश्विक महामारी से छुटकारा दिला सकते हैं, प्रभु का आयह बीमारी किसी को छू ना सके देश में हर व्यक्ति पर आपका आशीष बना रहे।

 

पढ़ें ये खास खबर- राहत की खबर : 25 दिन में सबसे कम 8,970 नए केस और 84 मौतें, 6 दिन बाद नए मरीजों से ज्यादा स्वस्थ हुए लोग

 

देखे खबर से संबंधित वीडियो...

हर साल 12 मई को क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय नर्स-डे? आइये जानते हैं क्या है इसका इतिहास और महत्व...।

 

पढ़ें ये खास खबर- छत्तीसगढ़ की राह पर मध्य प्रदेश : शराब की होम डिलीवरी करने की तैयारी में सरकार


विश्व की पहली महिला नर्स के सम्मान में मनाया जाता है ये दिन

हर साल 12 मई को इंटरनेशनल नर्स डे मनाया जाता है। ये खास दिन फ्लोरेंस नाइटिंगेल नामक एक नर्स के जन्मदिन पर उनकी याद में मनाया जाता है। बता दें कि, फ्लोरेंस नाइटिंगेल विश्व की पहली नर्स मानी जाती हैं। उन्होंने क्रीमियन युद्ध के दौरान लालटेन लेकर घायल ब्रिटिश सैनिकों की देखभाल की थी। इस वजह से इन्हें 'लेडी विद द लैंप' के नाम से भी जाना जाता है। मरीज की जिंदगी बचाने में जितना योगदान डॉक्टर्स का होता है, उतना ही एक नर्स का। नर्स अपनी परवाह किए बिना मरीज की सच्चे मन से सेवा कर उसकी जान बचाने की हर संभव कोशिश करती है। हत्ता की मानव सेवा के दौरान कई बार उसे अपने घर परिवार तक को छोड़ना पड़ता है, जैसा की आज कोरोना महामारी के चलते हम मध्य प्रदेश समेत देशभर में देख रहे हैं। नर्सों के इली अद्भुत साहस के प्रति उनकी सराहना के लिये इस विशेष दिन को उन्हें डेडिकेट करते हुए मनाया जाता है।


कब से हुई अंतर्राष्ट्रीय नर्स-डे मनाने की शुरुआत

नर्सिंग के संस्थापक फ्लोरेंस नाइटइंगेल का जन्म 12 मई, 1820 को हुआ था। इसी दिन की याद में ये दिन मनाया जाता है।सबसे पहले इस दिवस की शुरुआत साल 1965 में की गई थी। तब से लेकर आज तक यह दिवस इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्सेज द्वारा अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस के रूप में मनाया जाता है। अपने देश में इसकी शुरुआत 1973 में परिवार एंव कल्याण विभाग ने की थी। पुरस्कार से नर्सों की सराहनीय सेवा को मान्‍यता प्रदान किया जाता है। पुरस्कार हर साल देश के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है। फ्लोरेंस नाइटिंगल पुरस्‍कार में 50 हज़ार रुपए नकद, एक प्रशस्ति पत्र और मेडल दिया जाता है।

 

पढ़ें ये खास खबर- UP के बाद अब MP की इस नदी में बहती मिली कई लाशें, ग्रामीणों में दहशत, कोरोना ग्रस्त शव होने की आशंका


अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस 2021 थीम

अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस की हर साल अलग थीम होती है। इस समय पूरी दुनिया महामारी कोरोना से जूझ रही है। इसलिए अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस 2021 की थीम नर्स : ए वॉयस टू लीड - 'ए विजन फॉर फ्यूचर हेल्थकेयर' रखी है। इस थीम के जरिए लोगों में नर्सों के प्रति सम्मान को बढ़ाने की कोशिश की जा रही है। इसका मतलब होता है कि भविष्य की स्वास्थ्य सेवा के लिए नर्स का नेतृत्व बहुत महत्वपूर्ण है। इस बार हम यह दिखाना चाहते हैं कि नर्सिंग भविष्य में कैसे दिखेगी और साथ ही साथ कैसे पेशे स्वास्थ्य सेवा के अगले चरण को बदल देगी।


अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस का महत्व

इन दिनों वैश्विक कोरोना महामारी के कारण चिकित्सीय स्टाफ ने अपनी जान की परवाह किये बिना ही पूरी निष्ठा के साथ लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिये खुद को झोंका हुआ है। वैसे तो, डॉक्टरों समेत अस्पताल के सभी सदस्यों का संकट की इस घड़ी से लड़ने में अहम योगदान है, लेकिन इनमें नर्सेज की बेहद अहम भूमिका देखी जा रही है। नर्स एक मां, एक बहन के रूप में मरीजों की सेवा करने में जुटी हुई है, जैसे कि आम तौर पर वो अपने मरीज की सेवा के लिये करती है। इसी रिश्ते को निभाने के कारण उन्हें 'सिस्टर' उपनाम भी दिया गया है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned